उपचुनावों के नतीजे भाजपा के लिए बड़ा झटका

नई दिल्ली। (वार्ता) चार लोकसभा सीटों तथा 11 विधानसभा सीटों के आज घोषित उप चुनावों के परिणाम भारतीय जनता पार्टी के लिए 2019 के आम चुनाव से पूर्व बड़ा झटका है जबकि विपक्षी एकता के लिए संबल है। भाजपा को दो लोकसभा सीट गंवानी पड़ी हैं और एक सीट बचा पाने में वह सफल रही है। भाजपा के लिए उत्तर प्रदेश में कैराना लोकसभा सीट और नूरपुर विधानसभा के परिणाम सबसे बड़ा आघात है। ये दोनों ही सीटें पहले उसके पास थीं। इन सीटों पर विपक्ष की एकजुटता ने उसकी हार सुनिश्चित की। इससे पहले वह राज्य में विपक्ष की एकता के कारण गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों के उपचुनाव हार चुकी है।

भाजपा महाराष्ट्र की पालघर सीट बचाने में सफल रही जहां उसने शिवसेना को परास्त किया। राज्य की भंडारा गोंदिया सीट राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने जीत ली। उत्तर प्रदेश की कैराना लोकसभा सीट पर राष्ट्रीय लोकदल प्रत्याशी तबस्सुम हसन ने भाजपा की मृगांका सिंह को 46,618 मतों से हराया। नूरपुर विधानसभा सीट पर समाजवादी पार्टी(सपा) के नईम उल हसन ने भाजपा की अवनी सिंह को 5678 मतों से पराजित किया। कैराना से भाजपा ने पूर्व सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को चुनाव मैदान में उतारा था, वहीं एकजुट विपक्ष की तरफ से राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) की तबस्सुम मुनव्वर हसन मैदान में थीं। नूरपुर सीट भाजपा विधायक लोकेन्द्र सिंह चौहान की सडक दुर्घटना में मौत के कारण रिक्त हुई थी। उपचुनाव में भाजपा ने इस सीट पर उनकी पत्नी अवनी सिंह काे चुनाव मैदान में उतारा था।

पालघर लोकसभा सीट भाजपा सदस्य चिंतामन वनगा के निधन के कारण रिक्त हुई थी। श्री वनगा के पुत्र श्रीनिवास वनगा को भाजपा ने टिकट नहीं दिया जिसके कारण वह शिवसेना में शामिल हो गये थे और शिवसेना ने उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया था। शिवसेना भाजपा के साथ केन्द्र और राज्य दोनों जगह सरकार में है। भाजपा के उम्मीदवार राजेन्द्र गावित ने शिवसेना के उम्मीदवार को 29574 मतों से पराजित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar