अल्पसंख्यक तुष्टिकरण की ओर लौट रही है कांग्रेस: भाजपा

नई दिल्ली। (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश में पार्टी की अहम समन्वय समिति के अध्यक्ष दिग्विजय सिंह के हिन्दुअों के आतंकवादी होने संबंधी बयान पर आज तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए आज कहा कि श्री सिंह का बयान चुनाव के पहले कांग्रेस के अल्पसंख्यक तुष्टिकरण की ओर लौटने की निशानी है। भाजपा के प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जो पार्टी के महासचिव और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे हैं तथा इस समय पार्टी की समन्वय समिति के अध्यक्ष और संभवत: इसी साल होने वाले राज्य विधानसभा के चुनाव में मुख्यमंत्री पद के दावेदार होने को उत्सुक श्री दिग्विजय सिंह ने सोमवार को और आज पुन: हिन्दुओं को आतंकवादी कहा है।

उन्होंने कहा कि श्री सिंह के इस बयान से आतंकवादियों को समर्थन दे रहे पाकिस्तान को आॅक्सीज़न मिली है क्योंकि इन्हीं बयानों को आधार बना कर पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दू आतंकवाद का मुद्दा उठा कर बचने का कोना ढूंढ़ लेता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को याद करना चाहिए कि इसी तुष्टिकरण की राजनीति के कारण 2014 में उसकी सीटें घटकर 44 तक आ गयीं थीं। बाद में एंटनी समिति की रिपोर्ट की सिफारिश के अनुसार श्री गांधी ने अल्पसंख्यक प्रेम कम करके मंदिर-मंदिर जाना शुरू किया था। उन्होंने कहा कि गुजरात चुनाव के बीच श्री मणिशंकर अय्यर को पार्टी से निलंबित किया गया था। उसी तरह श्री सिंह को कांग्रेस से अविलंब बर्खास्त किया जाना चाहिए। भले ही चुनाव अभी दूर हैं।

डॉ. पात्रा ने कहा कि भाजपा ने इसे बहुत गंभीरता से लिया है। श्री सिंह कांग्रेस के आला दर्ज़े के नेता हैं और उनके बयान को कांग्रेस की मुख्यधारा की सोच के रूप में देखा जाता है। चूंकि मध्यप्रदेश के चुनाव आ रहे हैं इसलिए कांग्रेस ने अपने हथकंडे शुरू कर दिये हैं। उन्होंने कहा कि ना केवल मध्यप्रदेश विधानसभा बल्कि अगले साल आम चुनाव के पहले उनका यह बयान तुष्टिकरण के पुरानी राजनीति को फिर से आगे बढ़ाने का प्रयास है जो अक्षम्य है। इसलिए केवल माफी से काम नहीं चलेगा। उन्हें हर हाल में कांग्रेस से बर्खास्त किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के शासनकाल में हिन्दुओं को आतंकवादी बताने का यह सिलसिला शुरू हुआ था, उस झूठ काे आगे बढ़ाने की साजिश का पर्दाफाश हो चुका है। इसके बावजूद वे बार-बार हिन्दुओं को आतंकवादियों काे कहते हैं और कांग्रेस इससे कभी लज्जित नहीं होती है।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2008 में सबसे पहले बकौल पूर्व केन्द्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद, श्रीमती सोनिया गांधी ने बाटला हाउस मुठभेड़ के बाद आतंकवादियों के मृत शरीरों को देख कर तीन दिनों तक रोती रहीं और रात में सो नहीं पायीं थीं। इसी तरह से उस वक्त कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने तत्कालीन अमेरिकी राजदूत टिमोथी रोमर से कहा था कि भारत को लश्करे तैयबा, जैश ए मोहम्मद से ज़्यादा खतरा हिन्दू आतंकवाद से है। डॉ. पात्रा ने कहा कि इसी प्रकार से तत्कालीन गृह मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि हमें हिन्दू आतंकवाद से कहीं अधिक सतर्क रहना होगा। कांग्रेस के जयपुर अधिवेशन में तत्कालीन गृहमंत्री सुशील कुमार शिन्दे ने कहा था कि हिन्दू आतंकवादी हाेते हैं और भाजपा एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आतंकवादियों के कैंप चलाते हैं। आज फिर इसी प्रकार की बयानबाज़ी कांग्रेस ने शुरू कर दी है। उन्होंने कहा कि श्री गांधी की पार्टी देश को जाति धर्म में बांटना चाहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar