ठेकेदारों पर लगाओ अंकुश

नगर पालिका साधारण सभा की बैठक: पार्षदों ने एक स्वर में की मांग
बिजयनगर। (खारीतट सन्देश) पालिका के सभागार में आयोजित साधारण सभा की बैठक में नगरपालिका के ठेकेदारों पर पार्षद जमकर बिफरे। गत सप्ताह हुई बैठक में पार्षदों ने आरोप लगाया कि शहर के विभिन्न वार्डों में निर्माण कार्य का ठेका लेने वाले ठेकेदार निविदा की शर्तों की धज्जियां उड़ाते हुए मनमानी कर रहे हैं। ऐसे में इन पर पालिका प्रशासन की ओर से नकेल कसी जानी चाहिए। पालिका उपाध्यक्ष सहदेव सिंह कुशवाह ने यहां तक कह डाला कि जो ठेकेदार पालिका प्रशासन की चेतावनी के बाद भी नहीं सुधरे तो ऐसे ठेकेदारों को काली सूची में डाल दें। इस पर सभी पार्षदों ने हामी भरी।

बैठक में मौजूद महिला पार्षद सुशीला सेन, उषा कलवानी, संजू शर्मा आदि ने आरोप लगाया कि नगर पालिका के ठेकेदार निर्धारित समय में काम-काज नहीं कर जानबूझ कर देरी करते हैं। वहीं लोगों की यह भी शिकायतें आ रही हैं कि ठेकेदार निर्माण सामग्री में गुणवत्ता की अनदेखी भी कर रहे हैं। इस मुद्दे पर पूर्व की बैठकों में भी चर्चा हो चुकी है लेकिन आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। महिला पार्षदों ने यह भी आरोप लगाया कि ठेकेदार लॉबी पालिका प्रशासन पर हावी हो गई है। इस बीच बहस में भाग लेते हुए पालिका उपाध्यक्ष सहदेवसिंह कुशवाह ने कहा कि लापरवाह ठेकेदार को काली सूची में डालकर व्यवस्थाओं में सुधार लाया जा सकता है।

इससे पूर्व बैठक की शुरुआत में कांग्रेस पार्षद भवानी शंकर राव ने अधिशासी अधिकारी से कर्मचारियों की बायोमेट्रिक सिस्टम में दर्ज दैनिक उपस्थिति की विस्तृत रिपोर्ट मांगी। इस पर अधिशासी अधिकारी ने उन्हें आश्वस्त किया कि उन्हें शीध्र रिपोर्ट दे दी जाएगी। रिपोर्ट नहीं देने पर पार्षद राव का अधिशासी अधिकारी से थोड़ी बहस हुई। इस पर सभी पार्षदों ने कहा कि जब पार्षद राव ने बैठक से दो दिन पहले ही लिखित में इस बाबत जानकारी मांगी, तो उन्हें उक्त रिपोर्ट मुहैया क्यों नहीं कराई जा रही है।
नामांतरण व पट्टों की जांच हो-कुमावत
बैठक में निर्दलीय पांच पार्षदों के नेता संजय कुमावत ने आरोप लगाया कि पालिका के पांचों निर्दलीय पार्षदों के वार्डों की पालिका प्रशासन जमकर अनदेखी कर रहा है। जब तक इन वार्डों में विकास कार्य नहीं करवाए जाएंगे तब तक वे साधारण सभा की बैठकों का बहिष्कार जारी रखेंगे। कुमावत ने पालिका द्वारा जारी नामांतरण, निर्माण स्वीकृतियां व जारी पट्टों की जांच करवाने की मांग की। उन्होंने पट्टों में घोटाले की आशंका से इनकार नहीं किया। पार्षद दातारसिंह नरूका ने कहा कि शहर के सभी 25 वार्डों में रोडलाईटों के अभाव की समस्या है। इसे मांग के अनुरूप तत्काल दुरुस्त करने की मांग की।
टेंट मालिक पर यह कैसी मेहरबानी?
कांग्रेस की महिला पार्षद सुशीला सेन ने कहा कि पालिका प्रशासन पिछले 10 वर्षों से एक ही टेंट हाउस के मालिक पर मेहरबान है, जबकि उससे कम दरों में दूसरे टेंट हाउस वाले पालिका को सेवाएं देने का तैयार हैं। ऐसे में एक विशेष टेंट हाउस मालिक पर पालिका प्रशासन की विशेष मेहरबानी का क्या औचित्य हैं? सेन के इस सवाल को पालिकाध्यक्ष सचिन सांखला टाल गए।

कर्मचारी पर गड़बड़ी का आरोप
स्थानीय वाल्मिकी समाज ने जिला कलेक्टर को ज्ञापन भेजकर स्थानीय नगर पालिका में हाल ही में सफाई कर्मियों की भर्ती प्रक्रिया में पालिका के ही एक कर्मचारी पर गड़बड़ी करने का आरोप लगाया है। ज्ञापन में बताया गया कि सफाई कर्मियों के 68 पदों के लिए ऑनलाईन प्रक्रिया में भर्ती की गई है। जिसमें पालिका के लिपिक ने कम्प्यूटर के सॉफ्टवेयर से छेड़छाड़ कर अपने पत्नी, भाई व अन्य रिश्तेदारों को उपकृत कर राजकीय सेवा का लाभ देने में संदिग्ध भूमिका निभाई है। वहीं बिजयनगर के वाल्मिकी समाज के जरूरतमंद लोग राजकीय सेवा से वंचित रह गए हैं। ज्ञापन में जिला कलेक्टर से जांच की मांग की है। ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने वालों में बृजेश, ललित, लखन, पारसमल, पुष्पा, सचिन, सरिता, सोनू, राकेश, दीपक, विकास आदि शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar