राजस्थान में वर्षा का दौर जारी

जयपुर। राजस्थान के पूर्वी एवं पश्चिमी क्षेत्रों में दो दिन से जारी वर्षा का दौर आज भी जारी रहने से कई जगह जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है और कई जगह जल प्लावन की स्थिति बन गयी है। प्रदेश में हाे रही बारिश के कारण भरतपुर और नागौर जिले में कई स्थानों पर खेतों में पानी भरने से कपास और बाजरे की फसलों को नुकसान पहुंचने की सूचना है। प्रदेश में आज भी बीकानेर, भरतपुर , कोटा एवं करौली सहित कई स्थानों पर वर्षा के समाचार मिले है।

बाढ़ नियंत्रण कक्ष के अनुसार प्रदेश में वर्षा के कारण कुछ स्थानों पर छुटपुट नुकसान होने के समाचार है। प्रदेश में हो रही वर्षा को देखते हुये कोटा , उदयपुर , भरतपुर आदि कुछ जिलों में आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ को सर्तक कर दिया गया है और एहतियात के तौर पर कई जिलों में दो दो टीमों को तैनात करने के साथ ही नाव आदि की व्यवस्था कर दी गयी है।

मौसम विभाग ने पूर्वी एवं पश्चिमी राजस्थान के डेढ़ दर्जन जिलों में आगामी 24 घंटों में भारी वर्षा की चेतावनी जारी की है जिसके कारण पहले से ही वर्षा से प्रभावित कई जिलों में स्थिति विकट होने की संभावना है। मौसम विभाग ने प्रदेश के जयपुर , दौसा, टोंक , झालावाड, बारां करौली, अलवर , कोटा , सीकर, बूंदी, अजमेर, झुंझुनूं, धौलपुर, चुरू, नागौर और सवाई माधोपुर सहित कई जिलों में गरज के साथ बारिश होने की भविष्यवाणी की है। राजधानी जयपुर में कल देर रात रामगंज थाना क्षेत्र के लोहारोें का खुर्रा क्षेत्र में वर्षा के कारण सड़क धंस गयी। हालांकि इससे किसी के हताहत होने की कोई जानकारी नहीं है। इसी तरह नागौर जिले में नाडी टूटने से एक दर्जन से अधिक खेतों में पानी भर जाने से कपास और बाजरे की फसलों को नुकसान पहुंचा है।

बाढ़ नियंत्रण प्रकोष्ठ के अनुसार प्रदेश में अब तक पांच जिलों चुरू, बीकानेर , भरतपुर, डुंगरपुर और गंगानगर में अत्यधिक वर्षा हो चुकी है जबकि प्रदेश के 14 जिलों में सामान्य से अधिक तथा 13 जिलों में सामान्य वर्षा हो चुकी है। प्रदेश में सिरोही एक मात्र ऐसा जिला है जहां औसत से कम वर्षा हुयी है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में एक जून से 22 जुलाई तक 187़ 72 मिलीमीटर औसत के मुकाबले इस बार 247़06 मिलीमीटर वर्षा हो चुकी है जो गत वर्ष की तुलना में 31 प्रतिशत से अधिक है। इसी तरह प्रदेश के कुल 831 निर्मित बांधों में से आधे 413 खाली पडे है जबकि 397 में आशिंक पानी आया है तथा 21 बांध पूरे भर चुके है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar