केरल में बाढ़ से भारी तबाही, अब तक 324 लोगों की मौत, लाखों लोग बेघर

तिरुअनंतपुरम। केरल में पिछले 100 साल के इतिहास में सबसे भयंकर बाढ़ से जूझ रहा है। मई महीने से अब तक 324 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 9 अगस्त से मौत का आंकड़ा 167 पार कर चुका है। वहीं करीब 2 लाख 23 हजार लोग 1,500 राहत कैंप में आसरा लिए हुए हैं। बाढ़ से जूझ रहे केरल के ग्राहकों के लिए टेलीकाम आपरेटरों जियो, बीएसएनएल, एयरटेल ने मुफ्त सेवा की घोषणा की है। दक्षिण रेलवे ने राज्य के कई हिस्सों में सेवा निलंबित कर दी है। कोच्चि में भी मेट्रो सेवा रोक दी गई है। अनवरत हो रही बारिश तथा मुल्लपेरियार, चेरथोनी, इडुक्की और इदामलयार समेत सभी बड़े बांधों के गेट खोले जाने से पेरियार नदी में जल स्तर बढ़ गया है जिससे स्थिति और बिगड़ गई है।

पीएम मोदी करेंगे दौरा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज हालात का जायजा लेने केरल पहुचेंगे। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर कैबिनेट सचिव पीके सिन्हा की अध्यक्षता में नेशनल क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी (एनसीएमसी) ने दिल्ली में एक बैठक कर राहत एवं बचाव कार्य में तीनों सेनाओं और अन्य एजेंसियों को लगाने का फैसला लिया। रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए एनडीआरएफ की पांच टीमें तिरुअनंतपुरम पहुंच चुकी हैं। आपदा और प्रबंधन टीम से जुड़ने के लिए भारतीय तटरक्षक के चार जहाज भी कोच्चि पहुंच चुके हैं। बाढ़ प्रभावित गावों में 24 टीमें पहले से लगी हुई हैं। रक्षा मंत्रालय ने केरल के हर जिला मुख्यालय पर एक हेलिकॉप्टर की तैनाती का आदेश दिया है। वायुसेना ने कहा कि मौसम ठीक रहा तो हेलिकॉप्टर की तैनाती आज रात तक हो जाएगी। बचाव दल में लगे जवानों ने अब तक तीन हजार लोगों को बचा लिया है। आर्मी जवानों की तरफ से 750 से ज्यादा लोगों को मेडिकल सुविधा मुहैया कराई गई है।

राज्यों से मिली मदद: बाढ़ प्रभावित केरल के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा घोषित 5 करोड़ रुपये की राशि मुख्यमंत्री राहत कोष से और अन्य 5 करोड़ रुपये भोजन और जरूरी सामानों के रूप में भेजा जाएगा। वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन से बात कर केरल के हालत की जानकारी ली। केजरीवाल ने केरल को 10 करोड़ देने को कहा है। इसके साथ ही लोगों से अपील की है कि अधिक से अधिक राशि सहयोग करें।

अब तक एनडीआरएफ की 18 टीमें, सेना की इंजीनियरिंग टास्क फोर्स की आठ, कोस्ट गार्ड की 22, नौसेना की 24 डाइव टीमों को रवाना किया जा चुका है। राहत और बचाव दलों ने 2,182 लोगों को बचा लिया है तथा फंसे 968 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन से हालात की जानकारी ली और रक्षा मंत्रालय से बचाव एवं राहत कार्य तेज करने को कहा है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी प्रधानमंत्री से बात कर बाढ़ग्रस्त केरल में राहत और बचाव कार्यो के लिए रक्षा बलों की संख्या बढ़ाने का आग्रह किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar