जैन संत से प्रभावित हुई 36 कौम

लीड़ी से संजय श्रीश्रीमाल। परम पूज्य आचार्य प्रवर श्री अभयकुमार जी म.सा. आदि ठाणा 3 के सानिध्य में बुधवार को आचार्र्य श्री हगामीलाल जी म.सा. की 36वीं पुण्यतिथि को तेला-तप के रूप में मनाई गई। इस चातुर्मास की विशेषता यह है कि ये चातुर्मास 36 कौम के समस्त गांववासी मिलकर करा रहे है, अजैन होते हुए भी सभी का उत्साह देखते बनता है।

कार्यक्रम में लगभग 15 बसें छोटे से गांव में आई व अन्य कई छोटी गाडिय़ा भी आई। 135 के लगभग तेले हुए। ग्रामवासी जाट, गुर्जर व अन्य सभी कौम उपवास, आयम्बिल आदि तप में लगे है। पूरे जैन समाज के लिए यह अनुकरणीय, प्रेरणीय है। आज हम जैन होकर भी दिन प्रतिदिन सम्प्रदायों में बंटते जा रहे है। इन्द्रदेव की भी विशेष कृपा जारी रही। इसमें कुछ अव्यवस्था जरूर हुई परन्तु समस्त ग्रामवासियों के सहयोग से पूरा कार्यक्रम सानन्द सम्पन्न हुआ। 135 में से 65 तेले लीड़ी ग्राम के थे। उसमें से 2 जैन एवं 63 अजैनियों के थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar