जिंक ने 5.68 करोड का ख्वाजा की दरगाह के लिए किया एमओयू

अजमेर। हिन्दुस्तान जिंक ने अजमेर में सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दनी हसन चिश्ती की दरगाह की स्वच्छता के लिए पहले चरण में पांच करोड 68 लाख रुपये खर्च करने का दरगाह कमेटी से समझौता किया हैं। कंपनी के कार्पोरेट प्रमुख पवन कौशिक ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत् दरगाह के संरक्षण, स्वच्छता और ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए कंपनी द्वारा प्रथम चरण में यह कार्य किया जायेगा। इसके लिए केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलात मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, हिन्दुस्तान जिंक़ से मुख्य वित्तीय अधिकारी अमिताभ गुप्ता, दरगाह कमेटी से मुख्यकार्यकारी अधिकारी एवं नाजीम आईबी पीरज़ादा, नगर परिषद अजमेर के कमिशनर हिमांशु गुप्ता ने समझौते पत्र पर हस्ताक्षर किये।

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू किये गये स्वच्छ भारत मिशन के तहत् 2016 में देश के विरासत, आध्यात्मिक और सांस्कृतिक स्थानों को स्वच्छ रखने अभियान में अपना सहयोग करते हुए कंपनी ने देश के 100 चयनित स्थानों में अजमेर दरगाह शरीफ को पीपीपी मॉडल पर पहल की है। इस पहल को शहरी एवं विकास मंत्रालय, संस्कृति मंत्रालय, पर्यटन मंत्रालय और संबंधित राज्य सरकार के सहयोग से पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय द्वारा समन्वित किया जा रहा है।

श्री कौशिक ने बताया कि कंपनी द्वारा इसके लिए तीन चरणों में दरगाह में प्रतिदिन चढ़ाए जाने वाले फूलों से खाद बनाने की मशीन, सफाई एवं सरंक्षण हेतु मरम्मत, जोखिम प्रबंधंन, चुनिंदा क्षेत्रों में फर्श की मरम्मत, बिजली और पानी के लिए भूमिगत पाइप, सफाई के लिए मशीन, निजाम गेट और शाहंजहानी गेट के सरंक्षण का कार्य किया जाएगा। इस कार्य के लिए नॉडल एजेंसी जिला कलक्टर अजमेर होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar