सड़क पर आवारा पशुओं का आतंक

समस्या: कस्बे के प्रमुख बाजारों, गली-मोहल्लों में विचरण कर रहे हैं आवारा पशु
बिजयनगर। कस्बे के महावीर बाजार सहित सभी प्रमुख बाजारों में आवारा पशुओं का आतंक दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है। इसके चलते राहगीरों व विशेषकर बुजुर्गों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कई लोग अब तक आवारा पशुओं के हमले का शिकार भी हो चुके हैं। इसके बावजूद नगर पालिका प्रशासन ने इस समस्या से मुंह मोड़ रखा है।

कस्बे के पीपली चौराहे से स्टेशन के बीच तथा सब्जी मंडी सहित विभिन्न क्षेत्रों में बड़ी संख्या में गाय और सांड सहित अन्य आवारा पशु बेरोकटोक विचरण कर रहे हैं। कई बार तो बाजार में दो सांडों की लड़ाई के कारण कुछ देर के लिए अफरा-तफरी तक मच जाती है। बाजार में मौजूद दुकानदार और ठेले वाले झगड़ालू सांडों को खदेडऩे पर मजबूर हैं। इसके बावजूद नगर पालिका प्रशासन आवारा पशुओं को पकडऩे की मुस्तैदी नहीं दिखा रहा है। नगर पालिका की पिछली बैठक में नेता प्रतिपक्ष जगदीशसिंह राठौड़ आवारा पशुओं व सुअरों को पकडऩे का मुद्दा सदन में उठा चुके हैं। इस पर सदन ने सर्वसम्मति से आवारा पशुओं को पकडऩे की मुहिम चलाने का प्रस्ताव भी पारित कर दिया, लेकिन नगर पालिका की यह मुहिम कांजी हाउस के अभाव में टांय-टांय फिस हो गई। पालिका के सफाईकर्मियों का तर्क है कि इन आवारा पशुओं को पकडऩे के बाद कहां रखा जाए।

पूर्व में कांजी हाउस रेलवे फाटक के पार राजनगर क्षेत्र में राजकीय आयुर्वेदिक औषधालय के पास वाले भूखण्ड में स्थित था लेकिन तत्कालीन पालिका बोर्ड ने यह भूखण्ड आयुर्वेदिक महकमे को आवंटित कर दिया। तब से नगर पालिका के पास कांजी हाउस नहीं है। ऐसे में आवारा पशुओं को पकडऩे के बाद कहां रखा जाए इस समस्या का निस्तारण नहीं हो पा रहा है। इस स्थिति में बाजार में पैदल चलने वाले लोगों को और दुपहिया वाहन चालकों को आवारा पशुओं के आतंक के कारण सतर्क होकर निकलना पड़ता है।

कई पशु हुए हिंसक
इन आवारा पशुओं में से कई हिंसक हो चुके हैं, जो राह चलते लोगों को अपने सींग हमला कर देते हैं। अब तक कई लोग आवारा पशुओं की हरकतों के कारण जख्मी हो चुके हैं।

… तो चोटिल कर देते सांड
मैं महावीर बाजार में कमल मेडिकल के पास से अपनी मोटरसाईकिल लेकर गुजर रहा था। इसी दौरान दो सांड आपस में सींग लड़ाते हुए मेरी बाइक के बिलकुल नजदीक आ गए। यदि मैं अपनी बाइक दूसरी दिशा में नहीं घुमाता तो सांड मुझे चपेट में लेकर चोटिल कर देते।

भगवंतसिंह तंवर, जामोला फेक्ट्री गली, बिजयनगर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar