‘जन की भाषा, मन की भाषा, हिन्दी हर रिश्तों की भाषा’

हिन्दी दिवस पर हुए विविध आयोजन
बिजयनगर। बिजयनगर व आसपास के क्षेत्रों में हिन्दी दिवस पर विविध आयोजन हुए। ब्यावर रोड स्थित श्री प्राज्ञ महाविद्यालय में हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में निबंध लेखन, त्रुटि सुधार, पत्र लेखन एवं प्रश्नोत्तरी आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। हिन्दी विभाग की व्याख्याता पूजा जिन्दल ने वर्तमान परिवेश में हिन्दी की राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उपयोगिता बताते हुए हिन्दी को राष्ट्रभाषा के रूप में त्रुटि रहित लेखन की तकनीक बताई। महाविद्यालय प्राचार्य डॉ. सुजीत जैन, उप्राचार्य डॉ. प्रकाश कुमार मल्ल व डेयरी निदेशक एसआर सिंह ने हिन्दी को अपने जीवन में आत्मसात करने की सलाह दी।

सरस्वती उच्च माध्यमिक विद्यालय में विद्यालय निदेशक दुर्गाप्रसाद तिवाड़ी के मुख्य आतिथ्य व विद्यालय प्राचार्य चेतनकुमार जैन की अध्यक्षता में हिन्दी दिवस समारोहपूर्वक मनाया गया। विद्यालयी छात्र-छात्राओं एवं अध्यापक-अध्यापिकाओं ने अपने विचार कविता व भाषण के माध्यम से प्रस्तुत किए। कार्यक्रम के अध्यक्ष प्राचार्य चेतनकुमार जैन ने सभी से मातृभाषा हिन्दी का नित्य प्रयोग करने का आह्वान किया।

स्थानीय सरस्वती साहित्य परिषद बिजयनगर-गुलाबपुरा द्वारा हिन्दी दिवस पर काव्य-गोष्ठी का आयोजन किया गया। कवयित्री अंकिता चिंगारी ने माँ शारदे की वन्दना से काव्य गोष्ठी को प्रारम्भ किया। कवि ओमप्रकाश ओझा ने राष्ट्रभाषा हिन्दी के सम्मान में ‘देख तेरे जोबन को हिन्दी हर भाषा है शर्मिदी’ गीत सुनाया। हास्य कवि आकाश एलबेला ने ‘जन की भाषा, मन की भाषा, हिन्दी हर रिश्तों की भाषा’ कविता सुनाई’। कवि रशीद निर्मोही ने वक्त का दरिया बहता जाएगा, खुशकिस्मत वो होगा जो गीत वक्त के गायेगा’ गीत सुनाया। कवि अय्यूब आजाद ने ‘छन्द बिकती है आन-बान बिकता है संविधान लूट रहे देश के विधान को बचाइये’ सुनाया।

कवि प्रकाश पाराशर ने ‘धर्म कोई भी नहीं आतंकियों का बोलिये तो उनका त्यौहार रमजान कैसे हो गया’ कविता सुनाई। कवि अरविन्द राव ने शेर ‘पड़ी जो मार वक्त की तो होके चूर-चूर रहेगा ना तो नूर रहेगा तेरा ना गुरूर रहेगा’ सुनाए। काव्य गोष्ठी की अध्यक्षता कर रहे भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष नवीन शर्मा ने कवि स्व. अटल बिहारी वाजपेयी जी को याद कर उन्हीं के व्यक्तिव पर कविता सुनाई। इस अवसर पर महावीर महासारथी व रितेश सोनी ने भी काव्य पाठ किया। कार्यक्रम का संचालन कवि हेमन्त चौबे ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar