वीकेवी में वार्षिक पुरस्कार समारोह सम्पन्न

हुरड़ा। विवेकानन्द केन्द्र विद्यालय में वार्षिक पुरस्कार वितरण समारोह का आयोजन किया गया। इस अवसर पर विद्यालय में भाषण प्रतियोगिता का आयोजन रखा गया जिसका विषय था ‘मानव सेवा ही ईश्वर की पूजा है। कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि वी.आर. जोशी (चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर-आरएसडब्ल्यूएम) के कर कमलों द्वारा द्वीप प्रज्जवलन के साथ हुआ। कार्यक्रम में विद्यालय के सचिव रघुनन्दन टी. ने पधारे हुए अतिथि का स्वागत व अभिनन्दन किया।

प्रतियोगिता में कुल 61 प्रतियोगियों ने भाग लिया जिसमें सुहानी जैन एवं लक्षिता गर्ग कक्षा 12, अनुष्का कोगटा कक्षा 11 एवं शुभम माहेश्वरी कक्षा 9 सहित चार प्रतियोगियों को उत्कृष्ट, ओजस्वी एवं प्रेरणादायी भाषण के लिए पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम में शैक्षिक एवं सह-शैक्षिक गतिविधियों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं को प्रमाण-पत्र, शील्ड एवं नकद पुरस्कार प्रदान कर सम्मानित किया गया। जिसके अन्तर्गत कक्षा 12 वाणिज्य वर्ग में 95.40 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाली छात्रा श्रुति आगीवाल को ग्यारह हजार रूपये व विज्ञान वर्ग में 94.20 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाले छात्र ऋतिक बाबेल को पांच हजार रूपये व 90 प्रतिशत से अधिक अंक पाने वाले सभी विद्यार्थियों को एक-एक हजार रूपये प्रदान किये गए।

इसी प्रकार कक्षा 10 में 96.20 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाले रघु वाम्सी बोक्का को दो हजार रूपये, 95.40 प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाले प्रतीक बडौला को एक हजार रूपये व 90 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त करने वाले सभी विद्यार्थियों को पाँच-पाँच सौ रूपये का पुरस्कार प्रदान किया गया। कक्षा 10 एवं 12वीं में मेरिट लिस्ट में आने वाले विद्यार्थियों को एक-एक हजार रूपये के नकद पुरस्कार प्रदान किए गए। कक्षा 12वीं की पूर्वा कच्छावा को श्रेष्ठ कलाकार के लिए पाँच सौ रूपये, गुलशनसिंह कक्षा 12 विज्ञान को श्रेष्ठ स्पोर्टसमैन के लिए पाँच सौ रूपये का नकद पुरस्कार प्रदान किया गया।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि ने अपने उद्बोधन में स्वामी विवेकानन्द के जीवन से प्रेरणा लेकर देश व समाज में उच्च स्थान प्राप्त करने के लिए एवं मानव बनने के लिए प्रेरित किया। अपने उद्बोधन में विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले बच्चों की भूरी-भूरी प्रशंसा की तथा उनकी मौलिक प्रतिभा को पहचानने व उनके विकास के लिए शिक्षकों द्वारा किए गए प्रयास को सराहा गया। विद्यालय सचिव रघुनन्दन टी. ने स्वामी विवेकानन्द के जीवन की घटनाओं का उल्लेख करते हुए बताया कि देश के प्रति प्रेम, आपसी सहयोग की भावना और कठिन परिश्रम मनुष्य को अपने निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने में विशेष सहयोग देते है। जिससे व्यक्ति और राष्ट्र का विकास होता है। कार्यक्रम में निदेशिका श्रीमती बसन्ता टी. एवं प्रधानाचार्या श्रीमती आशा गोयल ने श्रेष्ठ उपलब्धियेां के लिए बच्चों को पुरस्कार प्रदान किया। कार्यक्रम के अंत में विद्यालय के सचिव रघुनन्दन टी. ने पधारे हुए समस्त अतिथियों को धन्यवाद ज्ञापित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar