पड़ौसी निकला मासूम का कातिल

पर्दाफाश : बच्ची के चिल्लाने से दुराचार में विफल रहने पर गला घोंटकर की हत्या
बिजयनगर।पिछले दिनों इन्दिरा कॉलोनी के निकट स्थित प्राज्ञ महाविद्यालय के खेल मैदान में बबूल व झाडिय़ों के बीच बंद कमरे में मिली इसी कॉलोनी की मासूम बालिका की लाश के मामले में पुलिस ने हत्यारे युवक को गिरफ्तार कर हत्याकांड का खुलासा कर दिया है। पड़ौस में रहने वाला हत्या का आरोपी युवक दुराचार की नीयत से मैदान के एकांत में बने कमरे में अपने साथ बालिका को बहला फुसलाकर ले गया था। लेकिन बालिका के चीखने-चिल्लाने पर वह इसमें सफल नहीं हुआ और गला घोंटकर मौके पर ही उसने बालिका की हत्या कर दी।

वारदात के बाद बालिका की लाश को मौके पर ही छोड़कर वह फरार हो गया जिसे पुलिस ने गहन छानबीन के बाद धर दबौचा। इन्दिरा कॉलोनी निवासी रमेश कालबेलिया की पुत्री नारायणी (7) का शव बिजयनगर पुलिस ने गत 12 अक्टूबर को प्राज्ञ महाविद्यालय के खेल मैदान में बने बंद कमरे से बरामद किया था। इसके बाद पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम कराया जिसमें यह खुलासा हुआ कि बच्ची की मौत गला घोंटने के कारण हुई हैं।

मामले की गम्भीरता को देखते हुए जिला पुलिस अधीक्षक राजेशसिंह ने केकड़ी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमन मीणा के नेतृत्व में एक टीम गठित की इसमें नसीराबाद वृत्ताधिकारी पर्वतसिंह, नसीराबाद सिटी थाने के निरीक्षक दिनेश कुमावत, बिजयनगर थाना प्रभारी भागसिंह शेखावत, मसूदा थाना प्रभारी महावीर प्रसाद मीणा, बिजयनगर थाने के हैड कांस्टेबल सत्यपाल सिंह, कांस्टेबल नवलसिंह, सुरेश व लक्ष्मण को शामिल किया गया। जांच टीम ने आरम्भिक पूछताछ में परिजनों व रिश्तेदारों के बयान दर्ज किए लेकिन कोई सुराग नही मिला। इसी बीच जांच करने वाली टीम को यह सुराग मिला कि जिस दिन मासूम का शव मिला उससे एक दिन पूर्व शाम को वह पुराने कपड़ों की फेरी लगाने वाले व पड़ौस में रहने वाले रशीद खान (35) निवासी कुन्दरखी बिछौला तहसील बिलाली जिला मुरादाबाद उत्तरप्रदेश के साथ देखी गई। इस पर जांच दल ने रशीद खान को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने अपने बयानों में गुमराह करने की पूरी कोशिश की।

लेकिन पुलिस की कड़ी पूछताछ में आखिरकार वह टूट गया और अपना गुनाह कबूल कर लिया। रशीद खान ने पुलिस को बताया कि गत 11 अक्टूबर की शाम को उसने इन्दिरा कॉलोनी में कुछ बच्चों को पुराने कपड़े बांटे थे। उस समय नारायणी जंगल में भेड़ चराने गई थी शाम को जब उसे बच्चों से पुराने कपड़े लेनी की खबर मिली तो वह भी उसके पास आई और पुराने कपड़े देने का आग्रह करने लगी। इस पर रशीद की नीयत खराब हो गई और वह कपड़े देने के बहाने बालिका को बहला-फुसलाकर सुनसान इलाके में बने बंद कमरे में ले गया। जहां उसने बालिका से दुराचार का प्रयास किया। लेकिन बालिका के चिल्लाने से वह कामयाब नहीं हो सका और उसने गला घोंटकर मासूम को मार डाला।
एसपी ने दिखाई गम्भीरता
मामला बालिका की हत्या का होने के कारण जिला पुलिस अधीक्षक राजेशसिंह ने इसे बेहद गम्भीरता से लिया। इसलिए जिस दिन बालिका की लाश मिली उस समय मौके पर केकड़ी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमनलाल मीणा, नसीराबाद वृत्ताधिकारी पर्वतसिंह, नसीराबाद सिटी के निरीक्षक दिनेश कुमावत को भी मौके पर भेजा गया। यही नहीं पुलिस ने एफएसएल व एमओबी टीम तथा डॉग स्क्वायड को भी भेजा। श्वान मौके पर आस-पास ही घूमता रहा। इसके चलते पुलिस को पहले दिन ही यह शक हो गया था कि हो न हो कातिल आस-पास ही है। पुलिस का यह शक सच निकला और पुलिस ने आरोपी को धर दबौच कर वारदात का खुलासा कर दिया।
फेरी लगाता है आरोपी
हत्या के आरोप में गिरफ्तार रशीद खान पिछले 10-15 साल से पुराने कपड़े लेने व दरी बेचने का काम बिजयनगर में कर रहा है। वह यहां पर उसकी बहन व बहनोई शहजाद निवासी इन्दिरा कॉलोनी के आवास पर ही रहता है। आरोपी शराब पीने का शौकीन हैं।
यूं दिया वारदात को अंजाम
जिस बंद कमरे में मासूम की गला घोंटकर हत्या की गई वह बंद है और उसके दरवाजे के नीचले हिस्से में पत्थर लगे हुए थे। घटना के दिन आरोपी रशीद खान शराब के नशे में चूर था इस कारण उसके मन में बदनीयति आ गई और वह बच्ची को कपड़े देने के बहाने कमरे तक अपने साथ लेकर गया। जहां उसने दरवाजे के नीचे लगे पत्थर हटाकर पहले बच्ची को प्रवेश कराया और उसके बाद स्वयं कमरे के भीतर दाखिल हुआ। कमरे में घोर अंधेरा होने के कारण बालिका डर गई और उसने जोर से चिल्लाना शुरू कर दिया। इस पर रशीद खान ने घटना का राजफाश होने के भय से गला घोंटकर मासूम को मार डाला।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar