इस दीपावली तीन लाख दीपों से जगमगाएंगे सरयू के घाट

लखनऊ। अबकी बार दीपावली के एक दिन पहले अयोध्या में आयोजित दीपोत्सव को ‘गिनीज आफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज कराने की तैयारी है। पर्यटन विभाग ने इसके लिए जरूरी औपचारिकताएं पूरी कर ली हैं। त्रेता युग में 12 साल के वनवास और रावण पर विजय के बाद भगवान श्रीराम, सीता और लक्ष्मण के साथ अयोध्या लौटे थे, तब वहां के लोगों ने दीप जलाकर अपनी खुशी जताई थी। उसी याद को ताजा करने के लिए पिछले साल योगी सरकार द्वारा अयोध्या में आयोजित दीपोत्सव देश-दुनिया में सुर्खियां बना था। इस बार यह आयोजन और भव्य तरीके से मनाने की तैयारी है।

अबकी दीपोत्सव में कई बातें खास होंगी। मसलन पिछले साल वहां 1.70 लाख दीपक जले थे। इस बार यह संख्या करीब तीन लाख होगी। यह खुद में गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड होगा। इसी तरह पहली बार वहां विदेश से खास मेहमान आ रहा है। दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन की पत्नी किम युंग सूक दीपोत्सव की खास मेहमान होंगी। उनके साथ दक्षिण कोरिया से आने वाला सांस्कृतिक दल रामलीला का मंचन करेगा। इस अवसर पर निकलने वाली झांकियों में कोरिया की झांकी खास होगी। किम वहां कोरिया की रानी हियो ह्वांग की याद में 50 करोड़ की लागत से बनने वाले स्मारक की बुनियाद भी रखेंगी। माना जाता है कि रानी हियो अयोध्या की राजकुमारी थीं। उनका मूल नाम सूरीरत्ना था। कोरिया के राजकुमार किम सूरो से शादी करने के बाद उनका नया नाम पड़ा। उनके नाम से बना स्मारक दोनों देशों के पुराने रिश्तों का प्रतीक बनेगा।

इस बार आयोजन स्थल पर एक नहीं तीन मंच होंगे। पहले पर भगवान श्रीराम, सीता सहित होंगे। दूसरे पर संत-महात्मा बैठेंगे। तीसरा मंच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन, राज्यपाल राम नाईक, केंद्रीय मंत्रियों के लिए होगा। पिछली बार यह आयोजन सिर्फ एक दिन (18 अक्टूबर) का था। इस बार यह तीन दिन (चार से छह नवंबर) का होगा। पिछले साल की तरह अयोध्या हेरिटेज वाक, श्रीराम की शोभा यात्रा, श्रीराम का राज्याभिषेक, सरयू आरती, लेजर शो और देश-विदेश के कलाकारों द्वारा रामलीला का भी मंचन होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar