पीड़ितों की सेवा सबसे बड़ा मानवीय धर्म: सिंघवी

  • Devendra
  • 16/11/2018
  • Comments Off on पीड़ितों की सेवा सबसे बड़ा मानवीय धर्म: सिंघवी

बिजयनगर। अखिल भारतीय खरतरगच्छ युवा परिषद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष योगेन्द्रराज सिंघवी ने कहा कि पीडि़तों कीे सेवा सबसे बड़ा मानवीय धर्म है। व्यक्ति के नि:स्वार्थ भाव से सेवा करने पर जीवन के वास्तविक सुख की अनुभूति होती हैं। यह विचार सिंघवी ने परमार्थ औषद्यालय में आयोजित सम्मान समारोह में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में बोले। उन्होंने कहा कि जीवन में प्रत्येक व्यक्ति को पीडि़त मानव व पशु-पक्षी की सेवा करने का प्रयास करना चाहिए।

इस मौके पर सभी अतिथियों ने अपने विचार प्रकट किए। संस्थान के अध्यक्ष शिवदयाल त्रिपाठी ने औषद्यालय की गतिविधियों पर प्रकाश डालते हुए मौजूद अतिथियों का स्वागत किया। समारोह में प्रतापचन्द सांड, तेजमल बुरड़, प्रेमराज बोहरा, राकेश सांखला, पुखराज डांगी, संजय कोठारी, निहलचन्द सुराणा, विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे। वैद्य नन्दकिशोर शर्मा ने सभी अतिथियो का आभार ज्ञापित किया।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar