तीन दिन लगाओं, मस्सा भगाओं

यदि आपके शरीर पर कही भी मस्सा हो जाये तो यह आपके रूप को बिगाड़ देता हे और यदि चेहरे पर हो जाये तो पीडि़त व्यक्ति आयने में अपनी शक्ल देखकर और ज्यादा परेशान हो उठता है। ऐसे में पीडि़त व्यक्ति यदि ऐलोपैथिक उपचार लेता है तो डॉक्टर उसे भयंकर दुर्गंध युक्त कैमिकल की दवा थमा देते है इसी के साथ कुछ हिदायतें भी दी जाती है। इसके विपरीत कस्बे में एक व्यापारी ऐसे है जो पीडि़त लोगों को इसकी दवा नि:शुल्क उपलब्ध करा कर राहत पहुँचा रहे हैं। आलम यह है कि रोजाना करीब 1-2 दर्जन लोग इनकी दुकान पर दवा का लाभ लेने पहुँचते है। अब तक जिन्होंनें भी इनकी दवा मस्से पर लगाई तो तीन से पाँच दिन के अन्दर उसका मस्सा गायब हो गया इनकी दवा कितनी अचूक है इस बात का उदाहरण इसी बात से लगाया जा सकता है कि दवा का परिणाम अब तक सौ फीसदी रहा है। अब आपको बता ही दे कि यह अचूक दवा मिलती है मदनसिंह सुनिल कुमार सांखला की महावीर बाजार में मोती मार्केट के सामने स्थित कपड़ों की दुकान पर। वर्तमान में इस दुकान को राजेश कुमार व उनके अनुज भाई विनय कुमार सांखला संचालित ककर रहे है। दोनों सांखला बंधु सेवा को सर्वोपरि मानते हुए पीडि़त लोगों को यह दवा नि:शुल्क उपलब्ध करवा रहे है इन दोनों भाईयों को यह दवा चेन्नई व्यापार करने वाले इनके बड़े भाई सुनिल कुमार सांखला तैयार कर भेजते हैं।

विनय सांखला ने बताया कि करीब 12 साल पहले उनके बड़े भाई राजेश सांखला के शरीर पर जगह-जगह मस्से हो गये थे इस पर वे इलाज के लिए इधर-उधर खूब भटके अंत में उनके बड़े भाई सुनिल सांखला ने चेन्नई से यह दवा भेजकर उनका इलाज किया इस पर दवा के परिणाम से उत्साहित दोनों भाईयों ने यह ठान लिया कि अब वे इस रोग से पीडि़त लोगों को नि:शुल्क दवा उपलब्ध करा कर निजात दिलायेंगे। 12 वर्ष पूर्व दोनों भाईयों ने ठान लिया और तभी से अब तक हजारों लोगों के मस्से का उपचार कर चुके है इनकी दुकान पर यह दवा प्रात: 10 बजे से 10:30 बजे और सांयकालीन 6 बजे से 7 बजे तक मिलती है। इसके अलावा महिला रोगी को सांखला बंधु अपने घर का पता देकर भेज देते है जहां इनके परिवार की महिलाऐं श्रीमती अमिता सांखला व श्रीमती सुलेखा सांखला दवा लगाकर महिलाओं को राहत पहुँचाकर सेवा देती हैं।

सच कहे तो पूरा सांखला परिवार इस सेवा कार्य में नि:स्वार्थ भाव से लगा हुआ है। जिसकी जितनी तारीफ की जाये कम है, यहा तक कि सांखला बंधु अपनी दुकान पर पीडि़त व्यक्ति के आ जाने पर उवा लगाने के लिए आग्रहपूर्वक ग्राहक से भी इंतजार करने के लिए कहने से नही चूकते।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar