अच्छे लोग राजनीति से विमुख हो रहे हैं: तातेड़

  • Devendra
  • 28/03/2019
  • Comments Off on अच्छे लोग राजनीति से विमुख हो रहे हैं: तातेड़

बिजयनगर। दरबार यानी कि सोहनलाल तातेड़ किसी परिचय का मोहताज नहीं। सादा जीवन, उच्च विचार के ध्वजवाहक तातेड़ 95 वर्ष पूरे कर 96वें वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं। कांग्रेस कार्यकर्ताओं व जैन समाज में अति सम्मानित तातेड़ की सेहत में संयम का राज छिपा है। मुंह लगे युवा उन से पूछ लेते हैं ‘दरबार अब आप कतरा साल का होग्या’। बांदनवाड़ा के निकट छोटे से गांव में वर्ष 1924 में जन्मे तातेड़ ने राजनीतिक बिसात पर लम्बी पारी खेली है और सामाजिक संगठनों से गहरा सरोकार भी रहा है। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि वे बिजयनगर नगर पालिका के प्रथम पालिकाध्यक्ष रहे। प्रस्तुत है तातेड़ के साथ खारीतट संदेश की विशेष बातचीत…
प्र. आपकी दिनचर्या क्या रहती है?
उ. मैं सुबह जल्दी उठता हूं। नाश्ते में गाय का दूध और हल्का आहार लेता हूं। इसके बाद सुबह 11 बजे और शाम को 6 बजे सादा भोजन लेता हूं। बाजार में बिकने वाले खाद्य पदार्थ का सेवन नहीं करता हूं। इसलिए मुझे पिछले 10 वर्षों से ब्लेड प्रेशर के अलावा अन्य कोई परेशानी नहीं है।
प्र. अपने राजनीतिक जीवन के बारे में कुछ बताइए?
उ. मुझे बिजयनगर नगर पालिका बोर्ड के पहले पालिकाध्यक्ष बनने का गौरव प्राप्त हैं। उस समय जब मैं यहां पालिकाध्यक्ष था तब राज्य में भाजपा का शासन था। यहां का विधायक भी भाजपा का ही था। इस कारण राजनीतिक द्वेषता के चलते मुझे अकारण 25 दिनों के लिए पद से निलम्बित कर दिया गया। इसी बीच विधानसभा का सत्र भी चल रहा था तो कांग्रेस के विधायकों ने विधानसभा में मुद्दा उठाया और मुझे फिर पद पर बहाल कर दिया गया।
प्र. बदलती राजनीति को आप कैसे देखते हैं?
उ. राजनीति कमोबेश जैसी पहले थी वैसी ही आज है लेकिन हां इतना जरूर कहूंगा कि पहले पार्टी कोई भी हो, कार्यकर्ता पार्टी के प्रति समर्पित और निष्ठावान होते थे। अब यह सब कम हो रहा है। इसके अलावा अच्छे लोग राजनीति से विमुख हो रहे हैं।
प्र. जैन समाज के युवाओं को कुछ संदेश देना चाहेंगे?
उ. समाज के बच्चों से मेरा यही आग्रह है कि वे अपने धर्म की राह पर चलें और किसी भी प्रकार के दुव्र्यसन एवं गलत आदतों से अपने आपको बचाकर रखें।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar