भगवान से बड़ा भगवान का नाम-दिव्य मोरारी बापू

  • Devendra
  • 25/12/2019
  • Comments Off on भगवान से बड़ा भगवान का नाम-दिव्य मोरारी बापू

दिव्य सत्संग मंडल गुलाबपुरा : नौ दिवसीय संगीतमय रामकथा
गुलाबपुरा। भगवान से बड़ा भी भगवान का ही नाम है। यह बात स्थानीय सार्वजनिक धर्मशाला में दिव्य सत्संग मंडल गुलाबपुरा बिजयनगर की ओर से आयोजित संगीतमय श्रीराम कथा में प्रवचन के दौरान महामंडलेश्वर दिव्य मोरारी बापू ने कही। उन्होंने वृतांत सुनाते हुए कहा कि एक बार कौशल्या जी अंजना जी और लोपामुद्रा जी सत्संग सुनने गए। बैठे-बैठे आपस में चर्चा चली तो माता कौशल्या जी ने कहा कि हमारा पुत्र राम बड़ा है क्योंकि उसने समुद्र पर पुल बना दिया तो अंजना जी ने कहा कि पुत्र तो सबके ही बड़े होते हैं। अब हमारे ही पुत्र को देखिए ना एक छलांग में पूरे समुद्र को ही पार कर लिया।

ऐसे में तो मेरा पुत्र आपके पुत्र से बड़ा हुआ ना। किन्तु बीच में ही लोपामुद्रा बोली, देखिए आप दोनों के पुत्र से हमारे पति बड़े हैं क्योंकि भगवान राम ने समुद्र पर जो पुल बनाया और हनुमान जी ने जिस समुद्र को एक छलांग में पार किया लेकिन हमारे पति अगस्त जी ने तो तीन आचमन में ही पूरे समुद्र को पी लिया तो सबसे बड़े तो वो हुए। सत्संग सुनकर कौशल्या जी घर आई और भगवान राम ने देखा कि मां कौशल्या उदास है तो उन्होंने पूरा वृतांत सुना।

इस पर भगवान राम ने कहा कि मां आप कल फिर से सत्संग जाएं तो उन दोनों से पूछें कि आपके पुत्र ने किस के नाम से एक ही छलांग में पूरा समुद्र पार किया और आपके पति ने किस का नाम लेकर समुद्र का आचमन किया। फिर क्या, कौशल्या जी ने सत्संग में जाते ही दोनों से पूछा तो उनका जवाब था ये सब भगवान राम के नाम का प्रभाव था। तब मां कौशल्या ने घर जाकर भगवान राम से कहा बेटा तुम से बड़ा तो तुम्हारा नाम है। इस अवसर पर रामकुमार चौधरी, विजय प्रकाश शर्मा, नन्दकिशोर काबरा, सुभाष जोशी, छोटू सिंह, रघुराज सिंह, दातार सिंह, घीसालाल शर्मा, अरविन्द सोमाणी, नन्दलाल सोमाणी, सुमित काल्या, कैलाश जोशी, रूपसिंह राठौड़ सहित आसपास के क्षेत्रों से कई धर्मावलम्बी कथा श्रवण में शामिल हुए।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar