स्वच्छता पर भी गंभीरता जरूरी

  • Devendra
  • 16/01/2020
  • Comments Off on स्वच्छता पर भी गंभीरता जरूरी

नगर पालिका प्रशासन शहर की इन तस्वीरों को देखकर भी स्वच्छता का दावा करे तो इसे बेशर्म अदा कहें या फिर अंदाज-ए-बयां। गरज यह कि नगर में स्वच्छता के लिए अब पुरजोर कोशिश करनी होगी। बयानबाजी से काम नहीं चलेगा।
जय एस. चौहान
बिजयनगर में स्वच्छता की स्थिति बेहतर नहीं कही जा सकती। कमोबेश गुलाबपुरा का हाल भी उम्दा नहीं है। स्वच्छता रैंकिंग में दोनों नगर पालिकाओं को मिले अंक भी इसका खुलासा करता है। हालात तो सबके सामने है। खासकर, बिजयनगर नगर पालिका क्षेत्र में रैंकिंग में फिसड्डी रहने के बावजूद नगर पालिका प्रशासन पहले की तरह ही मौखिक कार्ययोजना बनाने में मशगूल है। गोया यह कि धरातल पर यह मौखिक कार्य योजना आज भी फलीभूत होते नहीं दिख रही। रैंकिंग में फिसड्डी रहने के बावजूद बयानवीरों के बयानों में कोई फर्क नजर नहीं आ रहा। यह दुर्भाग्य ही नहीं, हास्यास्पद भी है। एक तरफ शहर में जगह-जगह तरह-तरह के कचरों के ढेर पड़े हुए हैं और दावा कुछ और का किया जा रहा है।

स्मरण रहे कि गत वर्ष नगरीय प्रशासन ने स्वच्छता को लेकर होटल, सार्वजनिक स्थलों सहित अन्य के लिए कुछ निर्देश दिये थे। शहर में इसे लेकर कहीं कोई कार्रवाई नहीं हुई। ऐसे में यह सवाल तो पूछा जा सकता है कि आखिर पूरे शहर में स्वच्छता के संदर्भ में मिले निर्देश की अक्षरश: पालना हो रही है। इस सवाल का दूसरा पहलू यह है कि यदि कोई कार्रवाई नहीं हुई तो शहर को साफ, स्वच्छ व सुंदर होना चाहिए। रैंकिंग के आकलन में कोई चूक हुई है या फिर हकीकत वही है जो रैंकिंग के आंकड़े बताते हैं।

कहा जाता है कि एक स्पष्ट तस्वीर हजार शब्दों के बराबर है। खारीतट संदेश ने शहर के विभिन्न जगहों की तस्वीरें लेकर इस बात की पुष्टि करने की कोशिश की है कि हकीकत क्या है। तस्वीर और दर्पण कभी झूठ नहीं बोलता। शहर की इन तस्वीरों को देखकर क्या यह दावा किया जा सकता है कि स्वच्छता के लिए नगर पालिका प्रशासन गंभीर है? नगर पालिका प्रशासन शहर की इन तस्वीरों को देखकर भी स्वच्छता का दावा करे तो इसे बेशर्म अदा कहें या फिर अंदाज-ए-बयां। गरज यह कि नगर में स्वच्छता के लिए अब पुरजोर कोशिश करनी होगी। बयानबाजी से काम नहीं चलेगा। जयहिन्द।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar