संतुलित बजट

धनराज गुर्जर ने दशहरा मेला सहित अन्य सामाजिक कार्यों में हाथ खोलकर खर्च किए इसके बावजूद पालिका के गुल्लक में करीब 15 करोड़ रुपए बचा लिए। करीब घंटे भर चले इस बजट सत्र में कुल 13 प्रस्ताव पारित हुए। ऐसे में करीब हर प्रस्ताव को 3.5 मिनट का ही समय मिला।

नगर पालिका गुलाबपुरा में बुधवार को बजट पेश किया गया। पालिका अध्यक्ष धनराज गुर्जर ने अपने कार्यकाल के आखिरी बजट को सतरंगी बनाने की भरसक कोशिश की है। खास बात यह कि धनराज ने दशहरा मेला सहित अन्य सामाजिक कार्यों में हाथ खोलकर खर्च किए इसके बावजूद पालिका के गुल्लक में करीब 15 करोड़ रुपए बचा लिए। करीब घंटे भर चले इस बजट सत्र में कुल 13 प्रस्ताव पारित हुए। ऐसे में करीब हर प्रस्ताव को 3.5 मिनट का ही समय मिला। खैर, बजट संतुलित रहा। समाज के हर तबके को साधने की भरसक कोशिश की गई। शहर के विकास को ध्यान में रखते हुए योजनाएं बनाई गई हैं। देखना यह है कि इन पर अमल किस तरह होता है। वैसे भी धनराज गुर्जर अपने कार्यकाल के पहले बजट से शिक्षा पर विशेष जोर देते रहे हैं।

यह सिलसिला इस बार भी जारी रहा। यह अच्छी बात है। इसी तरह सामाजिक सरोकार से जुड़े कई प्रस्ताव अच्छे हैं। जन सरोकार के कई बिन्दुओं को भी शामिल किया गया है। मानसून के दिनों में जलजमाव की समस्या से निजात दिलाने के लिए दो बड़े नालों का निर्माण करवाना अच्छी बात है। जाहिर है, गुलाबपुरा शहर वर्षों से जलजमाव की समस्या से जूझ रहा है। बारिश में यह स्थिति हो जाती है कि कई कॉलोनियों में महीनों तक पानी जमा रहने से आसपास के लोगों का जीना दूभर हो जाता है। इस समस्या का फौरी तौर पर समाधान किया जाना चाहिए। विशेषकर मानसून से पूर्व शहर में दो बड़े नालों के निर्माण के लिए युद्धस्तर पर कार्य करना होगा। पालिकाध्यक्ष को इस कार्य को मुकाम तक पहुंचाने के लिए स्वयं के स्तर पर रूडसिको तक प्रयास करना चाहिए। तभी यह कार्य समय पर संभव हो सकेगा। यदि ऐसा होता है तो शहर की जनता को राहत और आगामी चुनाव में शहर की वर्तमान सरकार को इसका लाभ मिलेगा। जय हिन्द।

– जय एस. चौहान –

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar