बसें भी करने लगी बाय-बाय

  • Devendra
  • 12/03/2020
  • Comments Off on बसें भी करने लगी बाय-बाय

कभी गुलजार रहने वाला पीपली चौराहा अब सूना-सूना सा लगने लगा है। यहां से बसों का आवागमन बंद होने से आमजनों की परेशानी तो बढ़ ही गई साथ ही चौराहे पर दुकान व ठेले लगाने वालों की आय पर भी प्रतिकूल असर पड़ा है। नवीन बस स्टैंड के लोकार्पण के बाद यह तेजी से हुआ है…
बिजयनगर। करीब एक दशक पूर्व यात्रियों से गुलजार रहने वाला शहर का मुख्य पीपली चौराहा लम्बे समय से राजस्थान राज्य परिवहन निगम की बेरूखी व स्थानीय जनप्रतिनिधि की अनदेखी के चलते वीरान-सा लगने लगा है। आवागमन के साधनों के अभाव में आस-पास के ग्रामीणों सहित दूर-दराज जाने वाले यात्री भी यहां आने से परहेज करने लगे हैं। पहले बिजयनगर में हर आधे घंटे में जयपुर, भीलवाड़ा, अजमेर, ब्यावर, शाहपुरा व केकड़ी की ओर से रोडवेज व प्राइवेट बसों का आना जाना लगा रहता था। इससे पीपली चौराहा गुलजार तो रहता ही था, स्थानीय व्यापारियों का व्यापार भी अच्छा-खासा चलता था।

प्रदेश के अन्य आगारों के मुंह मोडऩे के बावजूद ब्यावर आगार की अधिकांश बसों का संचालन शहर के मध्य से हो रहा था किन्तु विगत कुछ माह से दो-तीन रोडवेज बसों को छोड़कर शेष बसों का संचालन नहीं होने से महिलाओं व बच्चों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। आलम यह है कि कौन सी बस कब आएगी, इसका कुछ भी पता नहीं है। थक हार कर आमजन 27 मील की ओर रुख करने पर विवश है या फिर दूसरे विकल्प को चुनना पड़ता है। धीरे-धीरे स्थिति यह हो गई है कि राहगीर पीपली चौराहा आने से कन्नी काटने लगे हैं। लोगों की आवाजाही कम होने से हमेशा आबाद रहने वाले चौराहे पर वीरानी की आहट से स्थानीय व्यवसायी, दुकानदार, ठेले वालों के चेहरों पर चिंता की लकीरें दिखने लगी हैं।
ज्यादातर बसों ने फेर लिया मुंह
राहगीरों व दुकानदारों का कहना है कि भीलवाड़ा व अजमेर डिपो की बसों ने तो पहले से ही पीपली चौराहे से मुंह मोड़ लिया था, लेकिन जब से हाईवे स्थित नया रोडवेज बस स्टैण्ड का लोकार्पण हुआ है तब से यहां ब्यावर डिपो की बसें आना भी बंद हो गई है। अब तो हालात यह है कि चौराहे से मात्र अजमेर-शाहपुरा व ब्यावर-बारां, ब्यावर-शाहपुरा रोडवेज बसें ही निकल रही हैं। वहीं कुछ राहगीरों ने बताया कि नवीन बस स्टैण्ड का लोकार्पण तो करवा दिया लेकिन वहां सुविधाओं के नाम पर कुछ भी नहीं। उद्घाटन के बाद से वहां एक भी रोडवेज की बस नहीं पहुंची। जो रोडवेज बसें शहर के मध्य होकर संचालित होती थी वो भी अब बंद हो गई हैं।
यह कहते हैं अधिकारी
भीलवाड़ा डिपो के पूछताछ अधिकारी ने बताया कि डिपो की कोई भी बस गुलाबपुरा-बिजयनगर शहर के मध्य होकर संचालित नहीं हो रही है। अजमेर डिपो के अधिकारी ने बताया कि बिजयनगर शहर के मध्य होकर 2 बसें संचालित की जा रही है। उसमें से अजमेर-शाहपुरा और अजमेर-बांसवाड़ा है। वहीं ब्यावर डिपो के अधिकारी ने बताया कि डिपो की एक दो बसें हो सकती हैं जो शहर के मध्य होकर गुजरती हों, शेष सभी 29 मील व 27 मील चौराहे होकर संचालित की जा रही है।
परहेज करने लगे बस चालक और छाने लगी वीरानी
पूर्व में भीलवाड़ा व अजमेर सहित राज्य के विभिन्न आगारों की रोडवेज व वीडियोकोच बसें बिजयनगर व गुलाबपुरा शहर के मध्य होकर गुजरती थी। विगत दशक में शहर में खराब सड़कें व मार्ग में अतिक्रमण के चलते उनको ज्यादा समय लगता था। धीरे-धीरे रोडवेज चालक शहर के मध्य होकर गुजरने से परहेज करने लगे। वहीं बिजयनगर व गुलाबपुरा रोडवेज स्टैण्ड पर विरानी छाने लगी है।
चौराहे पर सूनापन
पूर्व में इस चौराहे पर लगभग 45 मिनट के भीतर रोडवेज बसें भीलवाड़ा व ब्यावर की ओर जाने के लिए मिला करती थी। लेकिन पिछले कुछ माह से बसें बंद हो चुकी है। चौराहे पर से सिर्फ अजमेर-शाहपुरा, ब्यावर-बांरा व ब्यावर शाहपुरा के अलावा कोई बस नहीं आती है। ऐसे में चौराहे पर सूनापन छाने लगा है।
महेन्द्र विजय, क्षेत्रवासी
चौथी कोई बस नहीं
ब्यावर डिपो की दो व अजमेर डिपो की एक बस को छोड़कर चौथी कोई भी रोडवेज पीपली चौराहे पर नहीं आ रही है। इससे सुबह-सुबह यात्री पैदल या फिर ऑटो में बैठकर 27 मील चौराहे की ओर जाने को विवश है। अजमेर बांसवाड़ा बस को बंद हुई कई महीने बीत गए हैं। उस बस के लिए तो कई यात्री यहां इंतजार करते थे।
मनोज आगीवाल, व्यवसायी

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar