भीलवाड़ा से भयभीत: पालिका प्रशासन ने करवाया डोर-टू-डोर सर्वे

  • Devendra
  • 21/03/2020
  • Comments Off on भीलवाड़ा से भयभीत: पालिका प्रशासन ने करवाया डोर-टू-डोर सर्वे

संदिग्धों को किया होम आईसोलेशन, बाहर से आने वालों की स्वास्थ्य जांच अनिवार्य
बिजयनगर। भीलवाड़ा जिले में कोरोना वायरस के संदिग्धों की संख्या बढऩे पर राज्य में एकाएक धारा 144 की पालना एवं संदिग्धों से प्रभावित क्षेत्रों का डोर टू डोर सर्वे कार्य में तेजी आ गई है। ताजा जानकारी और पुख्ता बंदोबस्त को लेकर शनिवार को सांय पालिका के सभागार में पालिका अध्यक्ष सचिन सांखला की अध्यक्षता में पार्षदों एवं अधिकारियों की एक अति आवश्यक बैठक आयोजित की गई। बैठक में थाना प्रभारी विजयसिंह रावत, बिजयनगर तहसीलदार स्वाति झा एवं मसूदा सीबीईओ मौजूद रहे।

बैठक को संबोधित करते हुए अध्यक्ष सांखला ने ताजा जानकारी से सभी को अवगत कराते हुए कहा कि शुक्रवार को भीलवाड़ा में कोरोना संदिग्धों की संख्या बढऩे के साथ ही पूरे जिले की सीमाएं सील करते हुए जिला कलक्टर भीलवाड़ा ने भीलवाड़ा बंद करने के आदेश दे दिए है। बिजयनगर से भीलवाड़ा रोजाना तीन सौ से भी अधिक यात्री डेली अप-डाउन करते है। ऐसे में अजमेर कलक्टर विश्वमोहन शर्मा ने एहतियातन बिजयनगर में बाजार बंद करने, डोर टू डोर सर्वे और सर्वे में संदिग्ध पाए जाने वाले को होम आईसोलेशन करने की बात कही है।
28 व्यक्तियों को किया होम आईसोलेशन
तहसीलदार स्वाति झा ने बताया कि बिजयनगर में शनिवार शाम तक 28 व्यक्तियों को चिन्हित करते हुए उन्हें होम आईसोलेशन किया है। ताकि वे किसी के सम्पर्क में नहीं आ पाये। झा ने बताया कि यह बीमारी कोई आम बीमारी नहीं है इससे जितना बचा जाए उतना ही अच्छा है यदि यह बीमारी बिजयनगर में फैल गई तो स्थिति भयावह हो जाएगी। इसी को ध्यान में रखते हुए शनिवार को थानाप्रभारी और मैंने धारा 144 को सख्ती के साथ पालना की है।
डेली अप-डाउन करने वालों का डोर-टू-डोर सर्वे: सांखला
सांखला ने बताया कि बिजयनगर की स्थिति पर तहसीलदार, एसडीएम मोहनलाल खटनावलिया सहित कलक्टर विश्वमोहन शर्मा पूरी निगरानी रखे हुए है। ऐसे में सभी पार्षदों एवं आमजन से अपील की जाती है कि बिजयनगर में बाहर से आने वाले सभी आगंतुकों का पहले चिकित्सालय में जांच कराई जाए इसके पश्चात ही उन्हें उनके परिजनों के पास रहने की सलाह दी जाए। इस पर सभी पार्षदों ने बताया कि गत दिवस देर रात तक पालिकाकर्मी डोर टू डोर सर्वे में लगे रहे और भीलवाड़ा से इन तीन दिनों में आने वालों सहित डेली अपडाउन करने वालों के नाम पत्ते आदि की जानकारी जुटाई गई।
आमजन का साथ होने पर ही हम सफल हो पाएंगे: रावत
थाना प्रभारी रावत ने बताया कि हमने बाजार बंद इसलिए करवाएं है क्योंकि हमें यहां रहने वालों की चिंता है। हम अपना काम बखूबी पूरा करें इसके लिए आमजन का साथ चाहिए तभी यह संभव हो पाएगा। रावत ने कहा कि मेरी सभी से अपील है कि आप एक साथ 5 व्यक्ति कहीं पर भी न रहे। जब तक अति आवश्यक न हो तब तक आप कोई भी अपने घरों से बाहर न निकले। यदि आप लोगों ने 31 मार्च तक अपने घरों में रहकर प्रशासन की मदद की तो हम इस वायरस पर विजय पा सकते है। इस बीमारी से बचाव के लिए पालिका अपने स्तर पर व्यापक प्रचार-प्रसार कर रही है। चूंकि भीलवाड़ा में संदिग्धों की संख्या बढ़ी है ऐसे में हमें सतर्क रहना अति आवश्यक है।
किसी को न हो परेशानी, पुख्ता किए प्रबंध
बैठक में रविवार को एक दिवसीय जनता कफ्र्यू को लेकर सभी पार्षदों ने चर्चा की। इसमें यह निर्णय लिया गया कि शनिवार तक जितना संभव हो सके नि:शुल्क मास्कों का वितरण कर दिया जाए। साथ ही पालिका स्तर पर 5-5 किलो आटे के कुछेक बैग तैयार रखे जाए ताकि जरूरतमंद को बंद के दौरान किसी परेशानी का सामना न करना पड़े। पालिकाध्यक्ष सांखला ने सभी पार्षदों को अपने-अपने वार्ड की जिम्मेदारी सौंपते हुए कहा कि आप अपने वार्ड में बंद के दौरान किसी को भी भारी दिक्कत न हो इसके प्रबंध करेंगे। यदि इस दौरान किसी को खाद्य सामग्री, दवाईयां या फिर चिकित्सा लाभ की आवश्यकता महसूस होती है तो फौरन पार्षद तहसीलदार मेडम, थानाप्रभारी, पालिका ईओ या फिर पालिकाध्यक्ष को सूचित कर सकते है।
पीपाड़ा की पहल: 10 हजार नि:शुल्क मास्क दिए
ब्रदर फाईन रेडीमेड गारमेंट फेक्ट्री के संचालक बहादुरसिंह पीपाड़ा की ओर से क्षेत्रवासियों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए 10 हजार नि:शुल्क मास्क पालिका ईओ मुकेश शर्मा को दिए गए है। इस अनूठी पहल पर सभी ने पीपाड़ा का आभार जताया। इन मास्कों का वितरण तुरंत प्रभाव से जरूरतमंद लोगों को कर दिया गया।

व्यापारियों ने स्वैच्दिक बंद में किया सहयोग
शनिवार को प्रशासन की ओर से धारा 144 की पालना के क्रम में प्रात: 10 बजे पुलिस प्रशासन व पालिका अध्यक्ष सचिन सांखला ने मुख्य बाजारों में व्यापारियों से अपने-अपने प्रतिष्ठान स्वेच्छा से बंद रखने की अपील की। इस पर व्यापारियों ने कुछ देर बाद स्वेच्छा से प्रतिष्ठान बंद कर दिए। बंद में अति आवश्यक सेवाओं जैसे पेट्रोल पम्प, मेडिकल स्टोर और निजी चिकित्सालय खुले रहे। बंद के दौरान शहर के सभी मुख्य बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar