सरकार के निर्देशों पर अमल करना ही समझदारी है…

  • Devendra
  • 26/03/2020
  • Comments Off on सरकार के निर्देशों पर अमल करना ही समझदारी है…

कोरोना वायरस से बचाव के लिए आमजन घरों में है तो सुरक्षित है लेकिन स्थानीय चिकित्साकर्मी, पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी व कर्मचारी विगत सप्ताह से लगातार सड़कों पर अपनी जिन्दगी की परवाह किए बगैर आपकी सुरक्षा के लिए दिन-रात लगे हुए हैं ताकि कोरोना को महामारी बनने से रोका जा सके। लॉकडाउन को लेकर अधिकारियों ने अपनी राय खारीतट सन्देश से साझा की। आप भी पढिए और अनुसरण कीजिए…
जागरूकता का समय
मैंने फील्ड में देखा कि पिछले दिनों एसएचओ साहब की सख्ती के बाद कुछ असर दिखने लगा है। अब लोग जागरूक हो रहे हैं। मैंने अपने पूरे दौरे के दौरान कहीं पर भी पांच व्यक्तियों को एक साथ नहीं देखा। यह मुश्किल की घड़ी है इसमें हम सभी को एक दूसरे को सपोर्ट करते हुए व्यवस्थाओं को अंजाम देना है। यह वक्त सख्त जागरूकता का है। जरा सी लापरवाही भारी पड़ सकती है। पालिकाकी ओर से पूरे प्रयास किए जा रहे हैं ताकि किसी को संकट के समय परेशानियों का सामना न करना पड़े। सभी सरकार की ओर से जारी निर्देशों का पालन करें और प्रशासन की मदद करें।

मुकेश शर्मा, अधिशासी अधिकारी, नगर पालिका, बिजयनगर
जीवन बचाने के लिए…
वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए हम लोग पूरा प्रोटेक्शन रख रहे हैं। आमजन की सुरक्षा करना हमारी प्राथमिकता है। हम मास्क और सेनेटाईजर आदि का नियमति रूप से इस्तेमाल कर रहे हैं। आमजन को ज्यादा डरने की जरूरत नहीं है। कोरोना वायरस का संक्रमण हवा से नहीं, भीड़भाड़ वाले स्थानों पर फैलता है। अत: सरकार के निर्देशों का पालन करें। साथ ही आप लोग दिनभर में साबुन से दस बार हाथ अच्छे से धोएं, अतिआवश्यक कार्य के लिए घर से बाहर निकलने पर मास्क लगाए, बार-बार मुंह, आंख और नाक पर हाथ लगाने से बचें। सरकार ने लॉकडाउन आपके जीवन को बचाने के लिए लगाया है।

अजयसिंह शेखावत, पुलिस उपाधीक्षक, गुलाबपुरा
घर में ही रहें…
मुझको लेकर पूरा परिवार चिंतित है लेकिन आपकी सुरक्षा मेरे लिए अहम है। पिछले 5 दिनों से मैं सभी से यही आग्रह कर रही हूं कि आप घर में ही रहिए। आप घर पर हैं तो सुरक्षित है। आप व आपके परिवार की सुरक्षा हमारा पहला दायित्व है। मैं पूरी मुस्तैदी के साथ ड्यूटी कर सकूं इसके लिए मेरा परिवार मुझे सदैव प्रेरित कर रहा है। घर से निकलते वक्त बच्चे मुझे मास्क लगाने की कहते हैं। बहुत अच्छा लगता है चाहती भी यहीं हूं कि सभी के बच्चे परिजनों को ऐसे ही प्रेरित करे। मैं अपने आपको खुशनसीब मानती हूं कि मुझे देश सेवा करने का मौका मिला है। आप लोग सरकार की ओर से जारी निर्देशों का पालन करें और प्रशासन की मदद करें।

स्वाति झा, तहसीलदार, बिजयनगर
निर्देशों का पालन करें
हम लोग अपनी पूरी सुरक्षा सुनिश्चित करके ड्यूटी दे रहे हैं। फिर भी हमारे परिवार वालों को हमारे स्वास्थ्य को लेकर चिन्ता होना स्वाभाविक है। आमजन की सुरक्षा हमारे लिए सर्वोपरि है। आप स्वस्थ व सुरक्षित रहें इसके लिए डॉक्टर, पुलिसकर्मी सहित अन्य आवश्यक सेवाओं से जुड़े कर्मचारी पूरी मुस्तैदी के साथ अपना-अपना फर्ज पूरा कर रहे हैं। आप अपना फर्ज पूरा करते हुए डब्ल्यूएचओ और लॉकडाउन के तहत प्राप्त निर्देशों का पालन करें। यदि कोई निर्देशों का उल्लंघन करते पाया गया तो उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी।

दलपतसिंह, सीआई, गुलाबपुरा
सतर्कता जरूरी
मैं अपनी सुरक्षा को लेकर पूरा सतर्क हूं फिर भी बार-बार मेरे बच्चे फोन करके बोलते है पापा आप अपना खास ध्यान रखिए। जब घर का कोई सदस्य बाहर रहता है तो परिजनों को तो चिन्ता होना लाजमी है। इसलिए आप लोग भी सतर्क रहिए। मैं पिछले कई दिनों से बाजारों मोहल्लों एवं गलियों में घूमकर सभी से निवेदन कर रहा हूं लेकिन कोई खास प्रभाव नहीं दिख रहा है। यदि आप लोग लॉकडाउन की पालना नहीं करेंगे तो पुलिस को सख्ती दिखानी पड़ेगी। इस घातक बीमारी का सामना करने के लिए सिर्फ मेरी सजगता काम नहीं आएगी इसके लिए आपको भी सजग होना जरूरी है।

विजयसिंह रावत, थाना प्रभारी, बिजयनगर
बिजयनगर-गुलाबपुरा की संस्थाएं भी है तैयार
शहर के सामाजिक, धार्मिक सहित अन्य संगठन कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए प्रशासन के साथ कदम-से कदम मिलाकर पूरे मुस्तैदी के साथ चलने को तैयार है…।
प्रशासन से स्वीकृति मिली तो हम हैं तैयार
यदि प्रशासन की ओर से स्वीकृति मिली तो परिषद की ओर से जरूरतमंदों के लिए खाने के पैकेट, बिस्कुट, नमकीन, साबुन, मास्क एवं सेनेटाईजर आदि बांटने का प्रयास किया जाएगा। इस वैश्विक महामारी से उपजे हालातों में परिषद प्रशासन के साथ है। आदेश आने पर पूरी सहायता की जाएगी।

विनोद नाहर, अध्यक्ष, भाविप, बिजयनगर
प्रशासन अनुमति दे तो तैयार हैं हम
प्रशासन की अनुमति मिलने पर शहरवासियों के लिए राहत सामग्री पहुंचाने के लिए महावीर इंटरनेशन तैयार है। प्रशासन को मास्क, साबुन रोजमर्रा की चीजें उपलब्ध कराने का प्रयास किया जाएगा। महावीर इंटरनेशनल हर परिस्थिति में प्रशासन के साथ कदम से कदम मिलाने को तैयार है।

नितिन जैन, सदस्य, महावीर इंटरनेशनल, गुलाबपुरा
अनुमति मिली तो तत्पर हैं हम…
प्रशासन यदि आमजन की सेवा करने की अनुमति प्रदान करता है तो जैन सोशल ग्रुप सेवा के लिए तैयार है। जरूरतमंदों को खाना, अति आवश्यक चीजों की उपलब्धता कराने के लिए हम तत्पर है।

ज्ञानचन्द खाब्या, सचिव, जैन सोश्यल ग्रुप, बिजयनगर
प्रशासन के साथ
विपदा की इस घड़ी में क्लब सदस्य प्रशासन के साथ है। हमने उपखंड अधिकारी जी से निवेदन किया है कि बिजयनगर में यदि किसी भी प्रकार की सेवाओं जैसे खाने के पैकेट, मास्क, साबुन, सेनेटाईजर, बिस्कुट या आवास व्यवस्था, एम्बुलेंस आदि की जरूरत हो तो क्लब को आदेश प्रदान करावें हम हर समय मदद के लिए तैयार हैं।

राजकुमार बिंदल, अध्यक्ष, लायंस क्लब बिजयनगर
सेवा के लिए तैयार
अनुमति मिली तो क्लब आमजन के लिए खाने के पैकेट, साबुन, मास्क, आटा सहित जो भी जरूरत के सामान होंगे, वितरित करने के लिए तैयार है।

संजय महावर, अध्यक्ष, लायंस क्लब बिजयनगर क्लासिक
आमजन की मदद के लिए प्रशासन से बात की जाएगी। क्लब आमजन की सेवा के लिए तैयार है।

निहालचन्द भटेवड़ा, अध्यक्ष लायंस क्लब बिजयनगर रॉयल
सजग हूं, आप भी रहिए…
कोरोना वायरस को लेकर गृहणियां कहीं अधिक सजग हैं और आपको भी यही सलाह दे रही हैं….
घर पर मिलने जुलने वालों को मनाही
घरों में महिलाएं वैसे भी साफ-सफाई को चाक चौबंद रखती ही है। खास इन दिनों में तो पोछे के पानी में डेली फिनाइल यूज करती हूं। बच्चों को कई बार साबुन से हैंडवॉश करवाती हूं। घर पर मिलने-जुलने वालों की मनाही है। प्रशासन की ओर से खरीदारी के लिए मिलने वाली समय की छूट के समय पति को मुंह पर रूमाल बांधकर घर से निकलने की सलाह देती हूं। जैसे ही घर पर आते हैं तो साबुन से हैंडवॉश कराती हूं उसके बाद घर में घुसने देती हूं। सभी गृहणियों को यह आवश्यक रूप से आदत में लाना चाहिए।

सुनिता कोगटा, उपाध्यक्ष, माहेश्वरी महिला मंडल बिजयनगर
जागरूक होकर परिवार की सुरक्षा करें
घर की साफ-सफाई में इन दिनों मैंने थोड़ा सा बदलाव किया है जिसमें सभी दरवाजों के कूंदे, हैंडल को दिन में दो बार सेनेटाईज, दिन में दो बार फिनाईल के पोछे लगाती हूं। साथ ही कपड़ों को डेटॉल में वॉश करके कड़क धूप में सुखाती हूं। बाजार से आने वाली सामग्री को सेनेटाईज करके घर में लेती हूं। सब्जी वगैरह को गर्म पानी व नमक में अच्छे से धोकर काम में लेती हूं। बच्चे और पति अतिआवश्यक होने पर घर से बाहर जाते हैं तो इनके हाथ में गल्बस्, मास्क लगाने पर ही जाने देती हूं। सबको जागरूक होकर अपनी परिवार की सुरक्षा करनी चाहिए।

सुनिता लोढ़ा, गृहणी
लॉकडाउन के बाद बदली दिनचर्या
अब घर पर ही करता हूं व्यायाम
पूर्व में मेरा दैनिक कार्यक्रम था कि मैं प्रात: शाखा जाता था, व्यायाम किया करता था। दिन में शॉप, कार्यकर्ताओं से मिलना-जुलना रहता था। लॉकडाउन के बाद दिनचर्या बदल गई है। अब घर में ही व्यायाम करता हूं। इन दिनों घर पर रहना अति आवश्यक है। क्योंकि बचाव ही उपचार है। आमजन से यही अपील है कि आप कुछ दिनों तक घर पर रूककर प्रशासन की मदद करें।

किशनगोपाल कोगटा, पूर्व विधायक, मसूदा
टीवी व अखबार से व्यतीत होता है वक्त
लॉक डाउन के नियमों का पालन सभी को करना चाहिए। मैं भी कर रहा हूं। प्रात: व्यायाम, दिन में टीवी, अखबार पढ़कर समय व्यतीत करता हूं। यह आवश्यक है ताकि हम लोग कोरोना के संक्रमण से बच सकें। श्री हनुमान मंदिर ट्रस्ट बिजयनगर की ओर से एक लाख राशि का चेक नगर पालिका प्रशासन को दिलवाया गया है ताकि प्रशासन शहर के जरूरतमंदों की मदद कर सकें।

श्याम नागौरी, अध्यक्ष श्री हनुमान मंदिर ट्रस्ट, बिजयनगर
परिवार संग करते हैं व्यायाम
इन दिनों मुझे परिवार के लिए बहुत कुछ करने का मौका मिल रहा है। पहले जहां मैं महेश सेवा सदन में व्यायाम करने जाता था इसके बजाय अब मैं और परिवार के नौ सदस्य के साथ सुबह 7 बजे तक घर पर ही व्यायाम करता हूँ। मुझे भी घर के कामों में हाथ बटाने का अवसर मिल रहा है। दिन में फार्महाउस फिर कुछ समय टीवी देखकर समय व्यतीत कर रहा हूं।

मंगलप्रसाद चौहान, मिठाई व्यवसायी
बच्चों के साथ एन्जॉय कर रहा हूं
पूर्व में दोस्तों के साथ घूमना, काम करना आदि में व्यस्त रहता था। लेकिन जब से लॉक डाउन घोषित हुआ है मैं अपने परिवार के साथ व्यस्त हूं। मुझे बहुत अच्छा भी लग रहा है। बच्चों के साथ एन्जॉय कर रहा हूं। ऐसा लग रहा है जैसे कई दिनों बाद परिवार में साथ बैठने का अवसर मिल रहा है। अभी कुछ दिनों तक सभी को अपने परिवार के साथ समय व्यतीत करना चाहिए इससे आप और आपका परिवार कोरोना के संक्रमण से बच सकेगा।

प्रीतम बडोला, क्षेत्रवासी
सावधानी बरतने का समय
जनता कफ्र्यू के बाद लोगों में जागरूकता आनी शुरू हुई है। यह समय सावधानी बरतने का है। इसलिए सभी को अपने-अपने घरों में रहना चाहिए। जिससे कि आप संक्रमण से सुरक्षित रह सके। प्रशासन और भामाशाह की ओर से दोनों समय जरूरतमंदों को भोजन सहित अन्य सामग्री बांटी जा रही है। संकट के समय में आमजन को प्रशासन का सहयोग करना चाहिए।

संजय बड़ौला, भाजपा मंडल अध्यक्ष, बिजयनगर
डिजिटल इंडिया: कुछेक स्कूलों में हो रहा ऑनलाईन शिक्षण

कोरोना संक्रमण से बचाव के चलते एहतियातन सरकार ने सरकारी एवं निजी शिक्षण संस्थाओं में आगामी आदेशों तक अवकाश घोषित कर दिया। इस समय बोर्ड की परीक्षाएं चल रही थी वो स्थगित हो गई। परीक्षा के दौर में एकाएक विद्यालय में छुट्टी हो जाने से बच्चों की पढ़ाई में कोई व्यवधान नहीं आए और विद्यार्थी का शिक्षण अनवरत जारी रहे इसके लिए बिजयनगर की कुछेक स्कूलें एप्प व वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाईन होमवर्क व टेस्ट ले रही है। वहीं अधिकांश विद्यालयों में सिर्फ सेलेबस और मॉडल प्रश्न पत्र व्हाट्सअप पर भेजकर छात्र-छात्राओं की तैयारी करवा रहे हैं।
बचाव ही उपचार है-डॉ. उदय
कोरोना वायरस का अभी कोई इलाज नहीं आया है। बचाव ही इसका इलाज है। यह वायरस कितना घातक है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि विकसित राष्ट्र भी इसका इलाज नहीं ढूंढ पाए। हम तो अभी बहुत पीछे हैं। यह वायरस हमारे शरीर में या तो मुंह, नाक या फिर आंख के जरिए प्रवेश कर सकता है। इसलिए मास्क पहने रहें और बार-बार मुंह और आंखों पर हाथ न लगाए। दिन में कई बार साबुन से हाथ धोएं। खाना खाने या पानी पीने से पूर्व भी साबुन से हाथ धोएं। सेनेटाईजर के मुकाबले साबुन से हाथ धोना बेहतर है। आप कुछ दिनों घरों से बाहर न निकलें। यदि अति आवश्यक हो तो अपने आपको सेफ रखते हुए ही निकलें।

डॉ. अरविन्द उदय, चिकित्सक
राजकीय चिकित्सालय, बिजयनगर (बिजयनगर में होम आइसोलेशन का जिम्मा इनके पास है)

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar