लाॅकडाउन में खुद के भीतर झांकें, पारिवारिक संबंध मजबूत करें : मोदी

  • Devendra
  • 30/03/2020
  • Comments Off on लाॅकडाउन में खुद के भीतर झांकें, पारिवारिक संबंध मजबूत करें : मोदी

नई दिल्ली। (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना वायरस के खिलाफ युद्ध में सोशल डिस्टेंसिंग को सबसे कारगर हथियार बताते हुए लोगों का आज आह्वान किया कि वे लॉकडाउन के मौके पर बाहर निकलने की बजाय खुद के भीतर झांके और सामाजिक दूरी बरतते हुए पारिवारिक संबंधों को मजबूत करें।

श्री मोदी ने आकाशवाणी पर प्रसारित मन की बात कार्यक्रम में जनता से संवाद करते हुए यह भी कहा कि लोग इस अवसर का सदुपयोग करते हुए अपने पुराने शौक एवं पुरानी यादों को फिर से जीवित करें। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से लड़ने का सबसे कारगर तरीका सोशल डिस्टेंसिंग है लेकिन हमें ये समझना होगा कि सोशल डिस्टेंसिंग का मतलब सामाजिक संवाद को खत्म करना नहीं है। उन्होंने कहा कि वास्तव में, ये समय अपने सभी पुराने सामाजिक रिश्तों में नई जान फूँकने का है, उन रिश्तों को तरो-ताज़ा करने का है। एक प्रकार से ये समय, हमें ये भी बताता है कि सोशल डिस्टेंस बढ़ाओ और इमोशनल डिस्टेंस घटाओ।

उन्होंने नरेन्द्र मोदी ऐप्लीकेशन पर प्राप्त प्रतिक्रियाओं का उल्लेख करते हुए बताया कि कोटा से यश वर्धन ने नरेन्द्र मोदी ऐप पर लिखा है कि, वह लॉकडाउन में पारिवारिक संबंधों को मजबूत कर रहे है। बच्चों के साथ बोर्ड गेम्स और क्रिकेट खेल रहे हैं। रसोई में नये -नये पकवान बना रहे हैं। जबलपुर की निरुपमा हर्षेय लिखती है कि उन्हें पहली बार रजाई बनाने के अपने शौक को पूरा करने का मौका मिला है, यही नहीं, वो, इसके साथ ही बागवानी का शौक भी पूरा कर रही हैं। वहीं रायपुर के परीक्षित, गुरुग्राम के आर्यमन और झारखण्ड के सूरज जी का पोस्ट पढ़ने को मिला जिसमें उन्होंने अपने स्कूल के दोस्तों के ई-रीयूनियन करने की चर्चा की है। उनका ये आइडिया काफी रोचक है। हो सकता है कि आपको भी दशकों से अपने स्कूल, कॉलेज के दोस्तों से बात करने का मौका ना मिला हो। आप भी इस आइडिया को आज़मा के देखिए।

उन्होंने कहा कि भुवनेश्वर के प्रत्यूष और कोलकाता की वसुधा ने बताया कि वे आजकल उन किताबों को पढ़ रहे है जिन्हें अब तक पढ़ नहीं पाए थे। सोशल मीडिया में ही देखा है कि कुछ लोगो ने, वर्षों से घर में पड़े तबला, वीणा, जैसे वाद्य यंत्रों को निकालकर रियाज़ करना शुरू कर दिया है। आप भी ऐसा कर सकते हैं। इससे, आपको संगीत का आनंद तो मिलेगा ही पुरानी यादें भी ताज़ा हो उठेंगी। यानी मुश्किल की इस घड़ी में आपको मुश्किल से एक ऐसा पल मिला है जिसमें, आपको ना केवल, अपने आप से जुड़ने का मौका मिलेगा, बल्कि, आप, अपने शौक से भी जुड़ पाएंगे। आपको, अपने पुराने दोस्तों और परिवार के साथ भी जुड़ने का पूरा अवसर मिलेगा।

श्री मोदी ने नमो एप पर एक प्रश्न का उल्लेख करते हुए कहा, “मैं एक बार और आपको बता दूँ, मैंने, आपको बाहर निकलने के लिए मना किया है लेकिन, आपको अपने भीतर झाँकने के लिए अवसर भी दिया है। ये मौका है, बाहर मत निकलो, लेकिन, अपने अन्दर प्रवेश करो, अपने आप को जानने का प्रयास करो।” नवरात्र के उपवास से जुड़े एक सवाल पर उन्होंने कहा, “जहाँ तक नवरात्रि के उपवास की बात है, ये, मेरी और शक्ति के, भक्ति के, बीच का विषय है।”

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar