पुलिस व प्रशासन की भागदौड़ और बेशर्म लोगों की कारगुजारी

  • Devendra
  • 02/04/2020
  • Comments Off on पुलिस व प्रशासन की भागदौड़ और बेशर्म लोगों की कारगुजारी

सरकार की व्यवस्था पर बट्टा लगा रहे कुछ लोग
कोरोना वायरस संक्रमण के फैलने से रोकने के लिए जारी लॉकडाउन में सरकार का संकल्प है कोई भूखा न रहे। जरूरतमंदों तक खाद्य सामग्री व भोजन पहुंचाने के लिए हर दिशा से सहायता के हाथ बढ़ रहे हैं। वहीं कुछ ऐसे भी हैं जो घर में पर्याप्त खाद्य सामग्री होने के बावजूद पोर्टल सहित विभिन्न मंचों पर शिकायत करने की कारगुजारी करने से बाज नहीं आ रहे। पढि़ए खारीतट संदेश की यह रिपोर्ट…
बिजयनगर। नोबल कोरोना वायरस संक्रमण फैलने से बचाव के लिए देशव्यापी लोकडाउन के बीच स्थानीय पुलिस और प्रशासन हर संभव कोशिश में जुटा हुआ है। लॉकडाउन में प्रशासन, जनप्रतिनिधि, नगर पालिका के कर्मचारी, स्वयंसेवी संस्थाएं व भामाशाह हर घर का फिक्र करते हुए जरूरतमंदों तक खाद्य सामग्री व भोजन के पैकेट उपलब्ध करवा रहे हैं, वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो प्रशासन की सारी मशक्कत पर बट्टा लगाने से भी परहेज नहीं कर रहे। नगर पालिका प्रशासन ने तो बकायदा हर वार्ड में सर्वे कराकर जरूरतमंद लोगों तक आटा, मसाले, तेल सहित अन्य खाद्यान सामग्री पात्र व्यक्ति के घर तक पहुंचा भी दी है।

जरूरतमंदों की फेहरिश्त में इस युवक का नाम भी इन्द्राज था और इसके घर पर सहायता सामग्री व भोजन के पैकेट्स भी भिजवाए थे इसके बावजूद इस युवक की कारगुजारी अफसोसजनक है। ऐसा ही एक मामला उस समय प्रकाश में आया जब एक युवक की शिकायतों पर स्थानीय तहसीलदार स्वाति झा उक्त युवक के घर अचानक पहुंच गई और मौके की वीडियोग्राफी करा डाली। तहसीलदार झा उस समय अचंभित रह गई जब शिकायत करने वाले उक्त युवक के घर में रंगीन टीवी, फ्रीज व अन्य कई लग्जरी सामान मिले। युवक की रसोई का मुआयना किया गया तो वहां पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न सामग्री मिली।

दरअसल, गोपाल भट्टा रोड स्थित अहिंसा विहार कॉलोनी में अपने भाई के वेलफर्निस्ड मकान में रहने वाले अनिल जुनेजा पुत्र सेवानिवृत शिक्षक स्व. बालकिशन जुनेजा पिछले कई दिनों से स्थानीय प्रशासन पर दबाव बनाकर सहायता के तौर पर मिलने वाली खाद्य सामग्री नहीं मिलने से खफा चल रहा था। इसको लेकर उसने नगर पालिका प्रशासन, तहसीलदार, उपखंड अधिकारी और सीएमओ कार्यालय सहित कई मंचों पर फर्जी शिकायत कर डाली। वह और उसके रिश्तेदार भी काफी सक्षम है। इसके बावजूद युवक ने 5 किलो आटा, एक किलो दाल, आधा किलो तेल, एक किलो नमक, एक किलो शक्कर सहित मसाले के लिए विभिन्न मंचों पर शिकायत करने का सिलसिला जारी रखा।
गौरतलब है कि नगर पालिका अध्यक्ष सचिन सांखला, तहसीलदार स्वाति झा व थानेदार विजयसिंह रावत सहित प्रशासनिक अमला व स्थानीय जनप्रतिनिधि लॉकडाउन की अनुपालना कराने व जरूरतमंदों तक जरूरत की सामग्री पहुंचाने के कार्य को बखूबी अंजाम देने में दिन-रात एक किए हुए हैं।

आज 12 से 4 बजे तक किराणा, प्रोविजन के साथ खुलेंगी स्टेशनरी की दुकानें
नगर पालिका अध्यक्ष सचिन सांखला ने बताया कि पूर्व में तय समयानुसार गुरुवार दोपहर 12 से शाम चार बजे तक बाजार में खाद्य, किराणे, प्रोविजन व स्टेशनरी की दुकानें खुलेंगी। उन्होंने बताया कि विगत 11 दिनों से स्टेशनरी दुकानें नहीं खुलने से बच्चों की पेन, पेंसिल, कॉपी सहित अन्य पाठ्य सामग्री की आवश्यकता को देखते हुए एवं अभिभावकों के आग्रह पर एक दिन के लिए इनको भी खोला गया है। शहर के तीनों मुख्य स्टेशनरी की दुकानदारों को सूचना देकर लॉकडाउन तक पाठ्य सामग्रियों की होम डिलीवरी करने की सलाह दी गई है। अभिभावकों को भी लॉकडाउन के निर्देशों की पालना करते हुए घर में ही रहने की सलाह दी गई है। घर बैठे पाठ्यसामग्री मंगवाने के लिए राजस्थान स्टेशनरी मार्ट 9414300334, गांधी स्टेशनर्स 9413629873 एवं महावीर पुस्तक भंडार 9829776255 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar