बाहरी लोगों की हो रही अच्छी देखभाल

  • Devendra
  • 08/04/2020
  • Comments Off on बाहरी लोगों की हो रही अच्छी देखभाल

बिजयनगर। कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के चलते जारी लॉकडाउन के तहत पिछले दिनों अजमेर जिले की सीमाएं सील कर दिए जाने के बाद प्रतापगढ़ जिले से रवाना होकर यहां से गुजर रही रोडवेज बसों को यहां जिला कलक्टर विश्वमोहन शर्मा के निर्देशों के चलते रुकवा लिया गया था। बस में सवार यात्रियों को स्थानीय राजकीय नारायण उच्च माध्यमिक विद्यालय में बनाए गए अस्थाई राहत शिविर में ठहराया गया था। मंगलवार को शिविर में मौजूद इंचार्ज तहसील बिजयनगर के गिरदावर प्रदीप कुमार त्रिपाठी ने बताया कि यहां जितने भी यात्री मौजूद हैं सभी आराम से रह रहे हैं। किसी को भी कोई दिक्कत नहीं है। सभी को दोनों समय भरपेट भोजन, सुबह अल्पाहार में फू्रट आदि मिल रहा है।

बच्चों के लिए विभिन्न भामाशाहों की ओर से दोनों समय दूध की अच्छी व्यवस्था हो जाती है। उन्होंने बताया कि सभी सुविधाएं यहां के स्वयंसेवी संस्थाओं के पदाधिकारी एवं भामाशाहों के सहयोग से हो रही है। यात्रियों के लिए कोई फ्रूट, चिप्स, कुरकुरे, बिस्कुट और टूथपेस्ट और साबुन आदि प्रदान करके जाते है। सभी लोग प्रात: उठते ही मुंह हाथ पांव आदि धोकर स्काउट गाइड सुखदेव आरटिया के निर्देशन में योगाभ्यास करते है। तत्पश्चात फ्रूट बिस्कुट आदि का अल्पाहार कर दोनों समय भरपेट भोजन प्राप्त कर रहे है। शाम के समय वॉलीबाल का मैच खेलकर अपना समय आसानी से व्यतीत कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि शुरुआती दो-तीन दिन तो किसी न किसी को कोई परेशानी थी लेकिन अब सभी मिलजुलकर रह रहे हैं। यहां रहने वाले कोई यूपी, मध्यप्रदेश सहित राजस्थान के विभिन्न जिलों के हैं। उन्होंने बताया कि शिविर में तीन पारियों में लगातार तहसील कर्मियों, शिक्षकों, पुलिसकर्मियों एवं चत्तुर्थ श्रेणी कर्मचारी की ड्यूटी लगाई जा रही है।

पहले अटपटा लगा लेकिन अब लगता है अपनापन
नारायण स्कूल के राहत शिविर में रह रहे उत्तरप्रदेश के जिला चित्रपुर निवासी प्रेम यादव ने बताया कि शुरूआती दिनों में उन्हें यहां रहना बेहद अटपटा लग रहा था। उन्होंने सोचा मैं यहां 14 अप्रेल तक नहीं रह पाऊंगा। लेकिन बिजयनगर वासियों से मिला अपार स्नेह और घर जैसा भोजन साथ ही अच्छे मित्रों का मेलजोल उन्हें तनिक भी यह महसूस नहीं होने देता कि वो अपने घर से दूर है। यादव ने बताया कि उन्होंने सुबह उठते ही पहले कभी योगाभ्यास नहीं किया था। लेकिन इन दिनों यहां कर रहे है तो उन्हें बहुत अच्छा महसूस हो रहा है। यादव ने बताया कि बिजयनगर में रहने का इतना अच्छा अनुभव मिला है कि जिन्दगी भर नहीं भुलाया जा सकेगा।
जरूरतमंदों के लिए तहसील कार्यालय में भी जारी है सहायता
बिजयनगर। कोरोना संक्रमण से बचाव के चलते चल रहे लॉकडाउन में जरूरतमंदों के लिए खाद्य सामग्री प्रदान करने का सिलसिला तहसील कार्यालय में भी जारी है। तहसीलदार स्वाति झा ने बताया कि लॉकडाउन की अब तक की अवधि में कार्यालय में कई भामाशाहों ने 72 हजार 100 रुपए की सहायता राशि जमा कराई है। साथ ही दर्जनों भामाशाहों ने 596 खाद्य सामग्री के किट जरूरतमंद परिवारों के लिए प्रदान किए हैं। किट में आटा, शक्कर, दाल, तेल, मसाले, चांवल, दलिया और चाय पत्ती शामिल है। झा ने बताया कि तहसील कार्यालय के द्वारा भामाशाहों से प्राप्त मुख्यमंत्री सहायता कोष के लिए 2 लाख 2 हजार रुपए की सहायता राशि के चेक प्राप्त किए गए हैं जिनको सहायता कोष के खाते में जमा होने के लिए प्रेषित कर दिए गए हैं।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar