राजस्थान में वेयर हाउसेज बनेंगे निजी गौण मण्डी

  • Devendra
  • 25/04/2020
  • Comments Off on राजस्थान में वेयर हाउसेज बनेंगे निजी गौण मण्डी

जयपुर। (वार्ता) राजस्थान सरकार ने लॉकडाउन में किसानों के लिए कृषि उपज बेचना आसान बनाने के लिए वेयर हाउसेज को गौण मण्डी का दर्जा देने की स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान राज्य भण्डार व्यवस्था निगम एवं केन्द्रीय भण्डारण निगम के वेयर हाउसेज को गौण मण्डी का दर्जा देने की स्वीकृति प्रदान की है।

कृषि मंत्री लाल चन्द कटारिया ने बताया कि राज्य सरकार कोरोना वायरस संक्रमण एवं लॉकडाउन के मध्यनजर किसानों के लिए उनकी उपज नजदीक ही बेचने की व्यवस्था करने के लिए कई कदम उठा रही है। इसी क्रम में कृषि विपणन विभाग ने मुख्यमंत्री के समक्ष राजस्थान राज्य भण्डार व्यवस्था निगम व केन्द्रीय भण्डारण निगम के वेयर हाउसेज को निजी गौण मण्डी घोषित करने की दृष्टि से अनुज्ञा पत्र शुल्क, प्रतिभूति शुल्क व न्यूनतम क्षेत्रफल की शर्तों में छूट देने के प्रस्ताव प्रस्तुत किये थे। साथ ही राज्य में वेयरहाउस डेवलपमेंट एंड रेग्यूलेटरी अथॉरिटी (डब्ल्यूडीआरए) में पंजीकृत निजी वेयर हाउसेजों को भी शर्तों में छूट के प्रस्ताव प्रेषित किये गये थे।

श्री कटारिया ने बताया कि इन प्रस्तावों को स्वीकृति देने से राज्य भण्डार व्यवस्था निगम के 93 वेयर हाउसेज, केन्द्रीय भण्डारण निगम के 12 वेयर हाउसेज एवं डब्ल्यूडीआरए में पंजीकृत 157 निजी वेयर हाउसेजों को निजी गौण मण्डी के रूप में अधिसूचित किया जाना सम्भव हो सकेगा।

उन्होंने बताया कि कोविड-19 के प्रभाव के मध्यनजर पहले ही कृषि उपज को खेत-गांव के समीप ही बेचने की दृष्टि से 560 सहकारी समितियों को निजी गौण मंडी के रूप में अधिसूचित किया जा चुका है। इसके अतिरिक्त 1375 कृषि प्रसंस्करण इकाइयों को सीधी खरीद के अनुज्ञापत्र भी जारी किए गए हैं। उन्होंने कहा कि वेयरहाउसेज एवं सहकारी समितियों को गौण मंडी का दर्जा देने और कृषि प्रसंस्करण इकाइयों को सीधी खरीद के अनुज्ञापत्र जारी करने से काश्तकारों को सामाजिक दूरी बनाये रखते हुए प्रतिस्पर्धात्मक मूल्य पर अपनी उपज बेचने का नजदीक ही वैकल्पिक प्लेटफार्म उपलब्ध हो सकेगा।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar