आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत एमएसएमई के लिए तीन लाख करोड़ रुपये का कोलेट्रल फ्री ऋण

  • Devendra
  • 13/05/2020
  • Comments Off on आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत एमएसएमई के लिए तीन लाख करोड़ रुपये का कोलेट्रल फ्री ऋण

नई दिल्ली। (वार्ता) कोरोना वायरस के कारण मंद पड़ी अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और इस संकट को एक अवसर के रूप में बदलने के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज में से तीन लाख करोड़ रुपये का कोलेट्रल फ्री ऋण एमएसएमई को दिया जायेगा । इसके साथ ही एमएसएमई के परिभाषा में बदलाव करते हुये मध्यम उद्यम के कारोबार की सीमा को बढ़ाकर 100 करोड़़ रुपये कर दिया गया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने आज यहां संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा करते हुये कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत विभिन्न क्षेत्रों के लिए पैकेज की घोषणा की जा रही है। इसमें सबसे पहले एमएसएमई के लिए यह घोषणा की गयी है। अन्य क्षेत्रों पर अगले कुछ दिनों में घोषणायें होंगी।

श्रीमती सीतारमण ने कहा कि इस अभियान के तहत एमएसएमई के लिए तीन लाख्र करोड़ रुपये का कोलेट्रल फ्री ऋण देने का प्रावधान किया गया है। यह ऋण चार वर्ष के लिए होगी और पहले एक वर्ष मूलधन का भुगतान नहीं करना होगा। उन्होंने कहा कि इसके तहत 100 करोड़ रुपये के कारोबार वाले एमएसएमई को 25 करोड़ रुपये तक का ऋण मिलेगा। बैंकों और एनबीएफसी के लिए शतप्रतिशत गारंटी कवर मिलेगा। यह योजना 31 अक्टूबर 2020 तक उपलब्ध होगी। वित्त मंत्री ने कहा कि इसके साथ ही एमएसएमई के परिभाषा में बदलाव किया गया है। एमएसएमई की नयी परिभाषा में माइक्रो उद्यम में एक करोड़ रुपये तक का निवेश किया जा सकेगा और इसके कारोबार की सीमा पांच करोड़ रुपये होगी। इसी तरह से लघु उद्यम में 10 करोड़ रुपये का निवेश किया जा सकेगा और इसका कुल वार्षिक कारोबार 50 करोड़ रुपये का होगा। मध्यम उद्यम में 20 करोड़ रुपये तक निवेश होगा और इसका कुल कारोबार 100 करोड़ रुपये तक का होगा।

उन्होंने कहा कि इसके साथ ही तनावग्रस्त एमएसएमई की मदद के लिए 20 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। इससे ऐसे एमएसएमई को लाभ होगा जो एनपीए या नतावग्रस्त है। इससे दो लाख से अधिक एमएसएमई को लाभ होगा। एमएसएमई में 50 हजार करोड़ रुपये का निवेश किया जायेगा जो बेहतर कारोबार कर रहे हैं। उनके लिए 10 हजार करोड़ रुपये का फंड ऑफ फंड की स्थापना की जायेगी। इससे एमएसएमई को शेयर बाजार में सूचीबद्ध कराने में मदद मिलेगी।

आर्थिक पैकेज से गरीब के हिस्से कुछ नहीं आया: कांग्रेस


कांग्रेस ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने जो आर्थिक पैकज घोषित किया है उसमें सामान्य आदमी की अनदेखी हुई है और देश का गरीब, किसान, कामगार, मज़दूर, श्रमिक इस घोषणा से निराश है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तथा पूर्व वित्त मंत्री पी चिदम्बरम तथा पार्टी संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने बुधवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा कि श्री मोदी ने मंगलवार देर रात कोरोना संकट के बीच 20 लाख करोड़ रुपये का पैकेज देने की घोषणा की है लेकिन इसमें आम आदमी के लिए कोई मदद नहीं है। इस पैकेज में गरीब, मज़दूर, अपने घर लौटने के लिए परेशान प्रवासी मज़दूरों और अन्य कामगारों को कुछ नही दिया है।

उन्होंने कहा कि सबसे बड़ा संकट काम नही होने के कारण पैदल अपने घर जाने को विवश प्रवासी श्रमिको का है जिनको घर भेजने, भोजन देने तथा उनके खातों में नकद राशि जमा करने पर विचार नही किया गया है। इस पैकेज में इस तबके के हिस्से कुछ नहीं गया है। किसान का और बुरा हाल है क्योंकि उसको एक तरफ बेमौसमी बारिश से आसमान रुला रहा है और दूसरी तरफ सरकार उनकी अनदेखी कर रही है।
कांग्रेस नेताओं ने छोटे, लघु एवं मझौले उद्योगो के लिए आर्थिक पैकेज देने जा स्वागत किया लेकिन कहा कि देश मे छह करोड़ 30 लाख छोटे लघु मध्यम उद्योग है जिनमें सिर्फ 545 लाख को ही लाभ दिया गया है। उनका कहना था कि उनके लिए कर्ज लेने का रास्ता तो खोल दिया है लेकिन उनके काम को गति कैसे मिले इसका कोई प्रयास नही हुआ है।

मोदी ने की सीतारमण की घोषणाओं की सराहना


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को कहा है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने उद्योगों विशेषकर सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग (एमएसएमई) की दिक्कतों को दूर करने के लिए जो घोषणाएं की हैं वह इनसे निपटने में बड़ा कदम साबित होगा। श्री मोदी ने मंगलवार को कोरोना वायरस के कारण पूर्णबंदी से ठहर गई अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए 20 लाख करोड रुपये के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया था। पैकेज के पहले चरण का आज विवरण देते हुए श्रीमती सीतारमण ने एमएसएमई को तीन लाख रुपये का गिरवीरहित रिण और क्षेत्र को फिर पुर्नभाषित किया है। श्री मोदी ने कहा ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ के तहत विशेषकर एमएसएमई क्षेत्र में बडा मार्ग प्रशस्त करेगा। आज जिन कदमों का ऐलान किया गया है वह तरलता बढाने, उद्यमियों को उनकी प्रतिस्पर्धी भावना को और सशक्त करेगा।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar