आवागमन के लिए सरकार चलाएगी श्रमिक स्पेशल बसें: गहलोत

  • Devendra
  • 17/05/2020
  • Comments Off on आवागमन के लिए सरकार चलाएगी श्रमिक स्पेशल बसें: गहलोत

श्रमिकों का पैदल घर जाना मार्मिक और झकझोर देने वाला
जयपुर। श्रमिकों एवं उनके परिजनों का अपने घर लौटने के लिए सैकड़ों किलोमीटर धूप में पैदल चलना बेहद तकलीफदेह होता है। इसके लिए राज्य सरकार श्रमिकों को राहत देने के लिए शीघ्र श्रमिक स्पेशल बसें चलाएगी। इसके लिए रोडवेज को बसें तैयार रखने के लिए कहा गया है। यह बात रविवार को लॉकडाउन के चतुर्थ चरण को लेकर मुख्यमंत्री निवास पर समीक्षा बैठक को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कही।

गहलोत ने कहा कि राज्यों से सहमति प्राप्त कर श्रमिकों को नि:शुल्क लाने एवं ले जाने के लिए ये विशेष बसें चलाई जाएंगी। पूरे देश के लिए श्रमिकों की यह एक मार्मिक और झकझोर देने वाली समस्या है। मानवीय दृष्टिकोण से इसका जल्द निदान होना जरूरी है। इसके लिए केन्द्र सरकार बसों पर होने वाले व्यय को एसडीआरएफ मद में अनुमत करे। उन्होंने कहा कि जिन स्थानों के लिए ट्रेन के लायक यात्रियों की संख्या नहीं होंगी उन राज्यों में श्रमिक स्पेशल बसों के माध्यम से श्रमिकों को भेजा जाएगा। इसी प्रकार दूसरे राज्य भी श्रमिक स्पेशल बसें चलाकर राजस्थान के श्रमिकों को भेजें।

गहलोत ने कहा कि लॉकडाउन के चतुर्थ चरण में राज्यों को आपसी सहमति से प्रवासियों एवं श्रमिकों के आवागमन के लिए बसें चलाने के लिए अनुमत किया गया है। ऐसे में राजस्थान सरकार अन्य राज्यों से पहल कर पुरजोर प्रयास करेगी कि श्रमिक बिना तकलीफ के अपने घर पहुंच सकें।
प्रदेश में भी 31 मई तक बढ़ाया लॉकडाउन
गहलोत ने कहा कि केन्द्र सरकार की गाइडलाइन के अनुरूप राज्य में भी 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। राज्य की स्थितियों के अनुरूप इसके लिए विस्तृत गाइडलाइन 18 मई को जारी की जाएगी। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लोग एडवाइजरी की पूर्ण पालना करें। उन्होंने कहा कि जालौर, पाली, सिरोही, डूंगरपुर, बांसवाड़ा सहित वे 11 जिले जिनमें बीते दिनों बड़ी संख्या में प्रवासी आए हैं। इन जिलों में लोगों को मोबाइल पर यह संदेश भेजें कि वे स्वयं की सुरक्षा तथा अन्य लोगों के जीवन की रक्षा की दृष्टि से 14 दिन क्वारेंटाइन की अनिवार्य पालना करें। साथ ही गांव में नहीं घूमें और अन्य जिलों में आवागमन नहीं करें।
मॉनीटरिंग के लिए बनाएं अलग टीम
उन्होंने ने कहा कि कोरोना आगे क्या रूप लेगा इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता। इसके लिए पूरी सतर्कता एवं सजगता के साथ काम करना होगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोरोना संक्रमण की स्थिति की गहन मॉनीटरिंग के लिए अलग से टीम बनाएं जो इसके फैलाव एवं अन्य पहलुओं पर पूरा विश्लेषण कर लगातार फीडबैक देती रहे। जिसके आधार पर राज्य सरकार अपनी रणनीति तैयार कर सके। अन्य राज्यों से बड़ी संख्या में प्रवासी गांवों में पहुंचे हैं। इसलिए वहां संक्रमण फैलने का खतरा हो सकता है। ऐसे में ग्रामीण क्षेत्रों पर विशेष नजर रखी जाए।

बैठक में चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा, मुख्य सचिव डीबी गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह राजीव स्वरूप, पुलिस महानिदेशक भूपेन्द्र सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग सुबोध अग्रवाल, अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त निरंजन आर्य, अतिरिक्त मुख्य सचिव चिकित्सा रोहित कुमार सिंह, प्रमुख सचिव सूचना प्रौद्योगिकी अभय कुमार, शासन सचिव आपदा प्रबंधन सिद्धार्थ महाजन, जनसंपर्क आयुक्त महेन्द्र सोनी मौजूद रहे।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar