लॉकडाउन 04: देशभर में पूर्णबंदी 31 मई तक बढ़ाई गई

  • Devendra
  • 18/05/2020
  • Comments Off on लॉकडाउन 04: देशभर में पूर्णबंदी 31 मई तक बढ़ाई गई

नई दिल्ली। केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने कोरोना महामारी के कारण देश भर में पूर्णबंदी की अवधि 31 मई तक बढाते हुए चौथे चरण से संबंधित दिशा निर्देश जारी कर दिये हैं जिनमें पहले की तरह मेट्रो, ट्रेनों और हवाई यात्रा पर प्रतिबंध लागू रहेगा और सभी तरह के शैक्षणिक संस्थान भी बंद रहेंगे। मंत्रालय द्वारा रविवार को जारी दिशा निर्देशों में कहा गया है कि कोरोना के संक्रमण के आधार पर क्षेत्रों को तीसरे चरण की तरह ही रेड, ओरेंज और ग्रीन जोन में बांटा गया है। साथ ही इस बार ओरेंज और रेड जोन में कंटेनमेंट और बफर जोन भी बनाये जायेंगे। इस बार इन जोन का निर्धारण करने का निर्णय राज्य सरकारों पर छोड़ा गया है।

ये जोन जिला, नगर निगम और यहां तक कि उप मंडल तक भी सीमित रह सकते हैं और इसका निर्णय भी राज्यों को ही लेना है। स्थानीय प्रशासन और स्थानीय निकास केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशा निर्देशों के आधार पर इन जोन का निर्धारण करेंगे। कंटेनमेंट जोन में मेडिकल इमरजेंसी, जरूरी वस्तुओं और सेवाओं को छोड़कर किसी अन्य गतिविधि की अनुमति नहीं दी जायेगी। कोरोना के नये मामले बढने की आशंका वाले क्षेत्रों को बफर जोन में रखा जायेगा और वहां काफी अधिक सतर्कता बरती जायेगी। दिशा निर्देशों के अनुसार चौथे चरण में भी देश भर में घरेलु तथा अंतर्राष्ट्रीय हवाई यात्रा पर प्रतिबंध रहेगा हालांकि घरेलु चिकित्सा सेवा, एयर एंबुलेंस और सुरक्षा उद्देश्यों तथा गृह मंत्रालय की अनुमति से विशेष परिस्थिति में इसकी अनुमति होगी। मेट्रो रेल सेवा, स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक और कोचिंग संस्थान पहले की तरह ही देश भर में बंद रहेंगे।
दर्शकों के बिना खुलेंगे खेल परिसर, स्टेडियम
सभी सिनेमा हॉल, शॉपिंग मॉल, जिम, स्विमिंग पूल, एंटरटेनमेंट पार्क, थिएटरए बार और ऑडिटोरियम, एसेंबली हॉल और इस तरह के भीड़भाड़ वाले स्थान बंद रहेंगे। खेल परिसरों और स्टेडियमों को खोलने की अनुमति होगी लेकिन वहां दर्शकों को जाने की अनुमति होगी।
इन आयोजनों पर प्रतिबंध जारी
सभी तरह के सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, शैक्षिक, सांस्कृतिक और धार्मिक कार्यक्रम और जलसों की अनुमति नहीं होगी। सभी धार्मिक स्थल, पूजा स्थल जनता के लिए बंद रहेंगे। धार्मिक जलसों पर सख्त पाबंदी होगी।
बसों, यात्री वाहनों के आवागमन पर ढील
बसें और यात्री वाहन एक राज्य से दूसरे राज्य में जा सकते हैं लेकिन इसके लिए दोनों राज्यों की सहमति लेनी होगी। राज्य सरकारें अपने राज्य के भीतर बसों और यात्री वाहनों के संचालन की अनुमति दे सकती हैं। लोगों की आवाजाही के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रसीजर्स (एसओपी) का पालन करना होगा। यानी सोशल डिस्टेंसिंग और दूसरी शर्तें जारी रहेंगी। कोरोना के प्रकोप को रोकने के लिए जारी दिशा-निर्देशों का पूरे देश में पालन सुनिश्चित कराया जाएगा।
कंटेनमेंट, बफर, रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन
केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मानकों के मुताबिक राज्य सरकारें अपने यहां रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन तय करेंगी। रेड जोन और ऑरेंज जोन के भीतर जिले के अधिकारी कंटेनमेंट जोन और बफर जोन तय करेंगे। कंटेनमेंट जोन में केवल जरूरी गतिविधियों की ही अनुमति होगी। इन इलाकों में लॉकडाउन का सख्ती से पालन किया जाएगा और किसी भी व्यक्ति को वहां से किसी को आने-जाने की अनुमति नहीं होगी। वहां केवल मेडिकल इमर्जेंसी और जरूरी वस्तुओं तथा सेवाओं की डिलिवरी की अनुमति होगी। इन इलाकों में घर-घर जाकर संक्रमित लोगों का पता लगाया जाएगा।
ये भी है गाइड लाईन में
शाम को सात बजे से सुबह के सात बजे तक आवाजाही पर रोक रहेगी। लोकल प्रशासन इसके लिए जरूरी आदेश दे और अपने अधिकार क्षेत्रों पर धारा 144 को लागू करे और सख्ती से पालन कराए।
65 साल के ज्यादा उम्र वाले लोगए गर्भवती महिलाएं और 10 साल से कम उम्र वाले बच्चों को घर पर ही रहने की सलाह दी जाती है। अगर कोई बहुत जरूरी काम जैसे कोई मेडिकल इमरजेंसी या फिर कोई बेहद जरूरी सामान लेना हो तभी घर से बाहर आएं।
आरोग्य सेतु ऐप का प्रयोग करने के लिए कहा गया है। जिसके कि आपके आस-पास कोई भी कोरोना संदिग्ध हो तो ऐप के जरिए आपको पता चल जाए और फिर आप उस इलाके में न जाए। दफ्तरों में काम करने वाले लोगों के लिए ये ऐप बहुत जरूरी है ताकि वो अपने आसपास के इलाके से अवगत रहें। जिला प्रशासन आरोग्य सेतु ऐप को ज्यादा से ज्यादा लोगों को परिचित कराए और लगातार इससे अपडेट रहने की सलाह दे।
मेडिकल प्रफेशनलए नर्सए पैरा मेडिकल स्टाफए सफाई कर्मचारियों और एंबुलेंस के आने जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं रहेगा। सभी तरह के गुडस और कार्गो के आने जाने पर कोई पाबंदी नहीं होगी।
आईआरसीटीसी: टिकट बुकिंग से पहले सामने होगा यह विकल्प
बंगलुरू जाने वाली विशेष रेलगाड़ी के यात्रियों द्वारा क्वारेंटीन में जाने से इनकार करने के बाद आईआरसीटीसी ने अपनी वेबसाइट में नया विकल्प जोड़ा है। आईआरसीटीसी ने फैसला किया है कि जो लोग गंतव्य राज्यों के क्वारेंटीन सेंटर के प्रोटोकॉल का पालन करने पर सहमत होंगे उन्हें ही वह अपने पोर्टल पर टिकट बुक करने की अनुमति देगा।
नया नियम इसकी वेबसाइट पर मौजूद है, जिसमें लिखा है कि मैंने अपने गंतव्य राज्य की तरफ से जारी स्वास्थ्य परामर्श को पढ़ लिया है। मैं इसे स्वीकार करता हूं और इसका पालन करूंगा। इसमें यात्री को टिकट बुक करने के लिए ‘मैं सहमत हूं’ पर क्लिक करना होगा। इसके बाद ही वो टिकट बुक कर पाएंगे।
दिल्ली से 14 मई को बंगलूरू पहुंचे करीब 50 यात्रियों ने पृथक-वास केन्द्र में जाने से इनकार कर दिया था और स्टेशन पर हंगामा किया जिसके बाद यह नियम बनाया गया है। आईआरसीटीसी के अधिकारियों के मुताबिक टिकट बुक करने से पहले कंप्यूटर या मोबाइल स्क्रीन पर एक पॉप-अप आएगा, जिसमें यात्रियों से पूछा जाएगा कि क्या उन्होंने गंतव्य राज्य का स्वास्थ्य परामर्श पढ़ा है और उसका पालन करने पर सहमत हैं। संदेश हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में दिखेगा। अगर यात्री असहमत होता है तो वह टिकट नहीं बुक कर सकेगा। विशेष राजधानी रेलगाडिय़ां 15 बड़े शहरों और राष्ट्रीय राजधानी के बीच चल रही हैं।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar