सैलून संचालक ग्राहकों को लेकर सजग तो आमजन बरत रहा एहतियात

  • Devendra
  • 20/05/2020
  • Comments Off on सैलून संचालक ग्राहकों को लेकर सजग तो आमजन बरत रहा एहतियात

58 दिनों से बंद पड़ी नाई की दुकान, सैलून व ब्यूटी पार्लर शर्तों के साथ खुले
बिजयनगर। (खारीतट सन्देश) कोरोना संक्रमण से बचाव के चलते जारी लॉकडाउन के तहत पिछले 58 दिनों से शहर की बंद पड़ी नाई की दुकान, सैलून व ब्यूटी पार्लर बुधवार को खुले तो संचालकों ने राहत की सांस ली। लेकिन वैश्विक महामारी से भय के चलते अधिकतर सैलून वालों को लेकर फिलहाल परहेज बरत रहे है। इस दरम्यिान अधिकांश लोग घरों पर ही सेविंग बनाना सीख गए हैं कुछके तो हेयर कटिंग भी सीख गए। कई युवाओं ने सेविंग बढ़ाकर अपना लुक ही बदल लिया।

प्रशासन ने अब शर्तों के साथ नाई की दुकानों को खोलने की छूट दे दी तो ऐसे में एहतियातन सैलून संचालक भी अपने ग्राहकों के स्वास्थ्य के प्रति सजग दिखे। संक्रमण से बचाव के लिए मास्क सहित जरूरी उपकरण के बार-बार सेनेट्राईजर, पेपर नेपकीन व प्रत्येक ग्राहकी के बाद पूरी साफ-साफ करते नजर आए। बेशक यह सब करने में इनकी लेबर व लागत बढ़ी है पर सैलून वाले बोले की हमारे लिए ग्राहक की सुरक्षा सर्वोपरि है।

वहीं कुछ ग्राहक तो सेविंग के लिए नेपकीन घर से ही साथ लेकर आ रहे हैं। एक-दो संचालकों ने तो ग्राहकों का विवरण तक लिखना शुरू कर दिया है। वहीं कुछेक लॉकडाउन की अवधि तक सैलून बंद रखने की मंशा भी जता रहे थे। खारीतट सन्देश ने जब शहर के सैलून की पड़ताल की तो अधिकतर संचालकों ने अपने सैलून में प्रत्येक चेयर के सामने सेनेट्राईजर से भरा बोतल और पेपर नेपकीन तो कहीं नेपकीन को बार-बार सेनेट्राईज कर इस्तेमाल करते दिखाई दिए।
सेविंग के लिए पेपर नेपकीन का इस्तेमाल
रेल्वे फाटक के नीचे बालाजी रोड़ स्थित आजाद हेयर ड्रेसर पर दाढ़ी बनाने के लिए पेपर नेपकीन का इस्तेमाल और प्रत्येक ग्राहक की दाढ़ी और कटिंग करने के पश्चात् चेयर और कपड़े सहित कैंची, कंघी और सहायक उपकरणों को पर्याप्त मात्रा में सेनेट्राईज करते देखा गया। संचालक शम्भूलाल सेन ने बताया कि लगभग दो माह के बाद जाकर आज दुकान खोली है, दिनभर में दाढ़ी के ग्राहक बहुत कम आए जबकि कटिंग के ग्राहक इससे कुछ ज्यादा थेे।

उन्होंने बताया कि अधिकतर पुरूष घर पर ही दाढ़ी बनाना सीख गए और कुछेक जो पूर्व में ही घर पर दाढ़ी बनाते आ रहे है। इसलिए दुकानों पर आज दाढ़ी बनाने वाले कम और कटिंग वाले ग्राहकों की संख्या औसतन ही थी। ऐसे में आज ग्राहकी में कोई खास बात नहीं थी। उन्होंने बताया कि दुकान पर आने वाले ग्राहक का हाथ सेनेट्राईज कराया जाता है उसके बाद उसे सेनेट्राईज की हुई चेयर पर बैठने दिया जाता है। कटिंग व दाढ़ी में इस्तेमाल होने वाले उपकरणों को भी ग्राहकों की सन्तुष्टि के लिए उनके सामने ही सेनेट्राईज किया जाता है। सेन ने बताया कि ग्राहक के साथ-साथ स्वयं की सुरक्षा भी सर्वोपरि है।
सुरक्षा के साथ प्रत्येक ग्राहक का लिख रहे विवरण

दरबार कॉलोनी स्थित हेयर मेकर सेलून के संचालक जीतू सेन, सुनिल सेन एवं शिवशक्ति सेलून स्टेशन चौराहा के संचालक शंकरलाल सेन ने बताया कि उनके प्रतिष्ठान पर ग्राहक की सुरक्षा सर्वोपरि है इसके तहत ग्राहक को सेनेट्राईज करके नेपकीन, उपकरणों व चेयर को अच्छे से सेनेट्राईज करके इस्तेमाल कर रहे है। साथ ही प्रतिष्ठान पर आने वाले प्रत्येक ग्राहक का नाम, पता और मोबाइल नम्बर आवश्यक रूप से लिख रहे ताकि जरूरत पडऩे पर प्रशासन को सहयोग किया जा सके। अपरिचित और प्रवासियों का दुकान पर प्रवेश वर्जित कर रखा है। क्वारेंटाईन व्यक्ति की कटिंग व सेविंग न तो दुकान पर और न ही घर जाकर बनाएंगे।
ग्राहक का ही नेपकीन, अपरिचित को प्रवेश नही है
सथाना बाजार स्थित सम्पत हेयर ड्रेसर के संचालक सम्पत सेन ने बताया कि दुकान खोलने से पूर्व उन्होंने तय किया कि अपनी व ग्राहकों की सुरक्षा को देखते हुए प्रतिष्ठान पर अपरिचितों व प्रवासियों की कटिंग व सेविंग नहीं करेंगे। जरूरत के उपकरणों का सेनेट्राईज करते हुए काम में लेंगे। उन्होंने बताया कि आज सेविंग के लिए आने वाले ग्राहकों से उन्ही के रूमाल और गमच्छे का उपयोग किया। साथ ही कटिंग करने के बाद कपड़े को सेनेट्राईज किया। साथ ही सभी से निवेदन किया कि आप जब भी सेविंग के लिए पधारें तो घर से ही नेपकीन और कपड़ा साथ लाए ताकि संक्रमण का खतरा न हो।
असमंजस में नहीं खुल पाई 5-7 दुकानें
लॉकडान 04 के तहत मिली छूट के दिन मंगलवार होने से बुधवार को गली-मोहल्ले सहित बाजार की कुछेक दुकाने नहीं खुल पाई। इसके बारे में जानकारी देते हुए भंवरबाड़ी स्थित मिठ्ठन सेलून के संचालक दीपक सेन ने बताया कि मंगलवार को क्षौरकार नवयुवक मंडल के सदस्यों ने तय किया कि बुधवार को तहसील प्रशासन में लिखित पत्र देकर लॉकडाउन की अवधि 31 मई तक अपना प्रतिष्ठान बंद रखेंगे। लेकिन दो माह से दुकाने बंद होने और सभी एकराय नहीं हो पाने अधिकतर ने अपने प्रतिष्ठान खोल लिए। सूचना के अभाव में 5-7 दुकानें आज नहीं खुल पाई।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar