विद्यालय को पीपीपी मोड पर देने का विरोध

बिजयनगर/गुलाबपुरा। स्थानीय सथाना बाजार स्थित शहर के एकमात्र राजकीय माध्यमिक विद्यालय को पीपीपी मोड पर देने के फैसले के खिलाफ क्षेत्रवासियों ने विरोध जताते हुए मसूदा विधायक सुशील कंवर पलाड़ा को पत्र प्रेषित किया है।

पत्र में बताया कि इस विद्यालय में 300 से अधिक आर्थिक रूप से कमजोर एवं मजदूर वर्ग के परिवारों के बच्चे अध्ययनरत हैं। क्षेत्रवासियों ने जनभावनाओं को मद्देनजर विद्यालय को पीपीपी मोड में दिए जाने के आदेश निरस्त करवाने की मांग की है।

विरोध जताने वालों में वासुदेव शर्मा, अशोक कुमार, कालूराम लुहार, मुकेश, लक्ष्मणसिंह, कानाराम नवाल, राहुल सेन, विशाल, राजू, राजेश सोनी, प्रशांत, प्रेमप्रकाश, सुनिल, जुनैज मुस्ता, पार्षद इन्द्रजीत मेवाड़ा, लेखराज बैरवा, मोनिका रावत आदि शामिल हैं।

इसी प्रकार जुना गुलाबपुरा के ग्रामवासियों व व्यापारिक एसोसिएशन, जनसेवा संस्थान, जाट समाज, गुलाबपुरा युवा सेवा समिति, भारत विकास परिषद, अंजुमन कमेटी, अहलेअदीस, बार एसोसिएशन ने मुख्यमंत्री के नाम उपखण्ड अधिकारी गुलाबपुरा को ज्ञापन सौंपकर राजकीय माध्यमिक विद्यालय जुना गुलाबपुरा को पीपीपी मोड पर दिए जाने का विरोध किया है।

ज्ञापन में बताया गया कि विद्यालय गुलाबपुरा कस्बे का सहशिक्षा का एकमात्र राजकीय विद्यालय है जो काफी पुराना विद्यालय है तथा स्थानीय क्षेत्र के समस्त विद्यालयों का 5वीं व 8वीं का बोर्ड परीक्षा केन्द्र भी है। विद्यालय का 10वीं बोर्ड 2016-17 का परीक्षा परिणाम 92 रहा है, ऐसे में नियमित रूप से सफल संचालित विद्यालय को पीपीपी मोड पर देना कतई उचित नहीं हैं।

ग्रामवासियों ने बताया कि यदि इस विद्यालय को पीपीपी मोड पर दे दिया जाता है तो ग्रामवासियों को आंदोलन करना पड़ेगा जिसके जिम्मेदारी प्रशासन की होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar