नहीं भा रहा नया बस स्टैण्ड

नए बस स्टैण्ड को लेकर उभरने लगे विरोध के स्वर
बिजयनगर।  बिजयनगर में निर्माणाधीन नए बस स्टैण्ड को लेकर विरोध के स्वर उठने लगे हैं। शहर के ज्यादातर लोगों का मानना है कि शहर के लोगों की परेशानी बढ़ेगी। नए बस स्टैण्ड पर यात्रियों की सुविधाएं और सुरक्षा सुनिश्चित किए बिना यह शिकायत दूर नहीं हो सकती।

महिलाओं को खासी परेशानी होगी
आम आदमी को परेशानी है और महिलाओं को खासी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। खासकर सफर करने वाली अकेली महिला को अधिक परेशानी होगी। नए बस स्टैण्ड को शहर को सिर्फ एक ही फायदा होगा कि पीपली चौराहे पर यातायात सुगम रहेगा। जैसा जाम वर्तमान समय में पीपली चौराहे पर लगता है वैसा नहीं लगेगा। यदि नए बस स्टैण्ड से शहर के सभी मार्गो पर बड़े शहरों की तरह आवागमन के प्रबंध होंगे तो ही। नए बस स्टैण्ड का फायदा है वरना नहीं।

सुधीर गोयल, प्रांतीय कोर्डिनेटर, लियो क्लब

ऑटो स्टैण्ड के लिए मांगी 2 एकड़ जमीन
हमारे संगठन द्वारा शिलान्यास के दिन मंत्री, विधायक, चेयरमैन को पत्र प्रेषित कर ऑटो स्टैण्ड के लिए नवीन बस स्टैण्ड के पास २ एकड़ जमीन की मांग की थी। यदि प्रशासन द्वारा स्टैण्ड के लिए जमीन मुहैया करा दी जाती है तो वहां पर ऑटो स्टैण्ड बनाकर 24 घंटे के लिए ऑटो सर्विस शुरू की जाएगी। ऑटो की अधिकता भी सुनिश्चित की जाएगी। रूट बनाकर ऑटो संचालित किए जाएंगे और सभी रूटों का किराया निश्चित कर सख्ती से लागू किया जाएगा। समिति का कर्तव्य होगा कि ऑटो में बैठने वाले यात्री को आसानी और सुरक्षित अपने गंतव्य तक छोड़ा जाए।
कमलेश वैष्णव, अध्यक्ष टेम्पों व टेक्सी चालक विकास समिति, बिजयनगर

रात में आना-जाना सुरक्षित नहीं होगा
नया बस स्टैण्ड आमजन के फायदे का नहीं होगा जब तक कि आमजन को बस स्टैण्ड तक आने जाने की सहुलियत नहीं होगी। सबसे बड़ी दिक्क यह है कि बनने वाला बस स्टैण्ड शहर से बिल्कुल बाहर है जहां रात्रि समय में आना-जाना सुरक्षित नहीं होगा। नए बस स्टैण्ड से यात्री अपने गंतव्य तक आसानी से और सुरक्षित पहुंच जाए यह चुनौतीपूर्ण बात होगी।

संजय शर्मा, पार्षद वार्ड, 18

सुरक्षा के प्रभावी प्रबंध करने होंगे
नया बस स्टैण्ड बन रहा है यह बिजयनगर के विकास की बात हैं। प्रशासन को लोगों को आसानी और सुरक्षित तरीके से अपने घर से आने-जाने के प्रबंध प्रभावी तौर पर करने होंगे तो ही यह बस स्टैण्ड शहरवासियों के लिए फायदेमंद होगा वरना नहीं। नए बस स्टैण्ड से शहर के पूर्वी दिशा के सातों वार्डों के रहने वालों को कोई फायदा नहीं होगा। अभी कितनी बाधाएं पार कर 27 मील चौराहे पर पहुंचना पड़ता है। रात्रि में तो कोई आने की हिम्मत भी नहीं कर पाता है। मेरी प्रशासन से मांग है कि इन वार्डों के आवागमन के बारे में गम्भीर से सोचा जाए।

संजू शर्मा, पार्षद,वार्ड 24

सभी को होगी परेशानी
नया बस स्टैण्ड जो कि बाईपास के निकट बनेगा उससे सभी वर्ग के लोगों को परेशानी होगी। सबसे बड़ी समस्या यह है कि नया बस स्टैण्ड शहर से बिल्कुल बाहर बनेगा जहां से आने-जाने की समस्या उसी प्रकार रहेगी जैसी अभी बनी हुई हैं। ऑटो चालकों की मनमानी राशि लेने का शिकार होना पड़ेगा। रात्रि समय में वृद्धजनों, महिलाओं, बच्चों को आसानी और सुरक्षित अपने घर पहुंचना चुनौतीपूर्ण होगा।
तोलाराम मघनानी, बिजयनगर

रात में सुरक्षा चुनौतीपूर्ण होगी
नए बस स्टैण्ड के बनने से शहरवासियों को ना तो फायदा होगा और न ही नुकसान क्योंकि जिस प्रकार की कठिनाईयों का सामना करते हुए शहरवासी आज भी 27 मील चौराहे से यात्रा करते हैं। वैसी ही स्थिति बस स्टैण्ड बनने के बाद होनी है। नए बस स्टैण्ड के बनकर शुरू होने के बाद रात्रि समय में लोगों के आते-जाते वक्त सुरक्षा चुनौतीपूर्ण होगी।

विजयलक्ष्मी पाराशर, अध्यक्ष नगर महिला कांग्रेस, बिजयनगर

नया बस स्टैण्ड से आने-जाने वाली महिलाओं की सुरक्षा बड़ा सवाल होगा। शहर से आने-जाने के लिए टेम्पो की व्यवस्था और किराया प्रशासन द्वारा सुनिश्चित होना चाहिए। टेम्पो को सुरक्षा के मापदण्डों के अनुसार चलाना का भी सख्ती से पालन हो। बस स्टैण्ड पर आवश्यक प्रकार की सभी सुविधाओं का विस्तार हो, बस स्टैण्ड से लेकर शहर तक जाने वाली सड़कों का सही ढ़ंग से निर्माण हो। बस स्टैण्ड पर हर समय सुरक्षाकर्मी की तैनाती हो, बड़ा यात्री प्रतीक्षालय हो, टेम्पो की बस स्टैण्ड पर अधिकता हो ताकि यात्री का समय बर्बाद न हो। सबसे बड़ी और मुख्य बात यह है कि शहर की सबसे प्रमुख मांग जो कि काफी समय से रही हैं कि जब तक बस स्टैण्ड का निर्माण नहीं हो जाता तब तक प्रशासन को चाहिए कि रोडवेज बसों का शहर को शहर के मध्य से संचालित किया जाए ताकि आमजन को राहत मिल सकें।

देवकीनन्दन शर्मा, कार्यालय सचिव, पेंशनर समाज, बिजयनगर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar