चोरी से आमजन हलकान

वारदात : दर्जनों दोपहिया वाहन चोरी, खुलासा एक भी नहीं, आक्रोश
बिजयनगर शहर में चोर शातिर और पुलिस सुस्त नजर आने लगी है। शहर में ताबड़तोड़ बाइक चोरी की वारदात से आमजन हलकान हैं और आक्रोशित भी। पीडि़त अपनी शिकायत लेकर थाने पहुंचते भी हैं तो महज खानापूर्ति कर उन्हें टरका दिया जाता है। पीडि़त पुलिस को सीसीटीवी फुटेज भी उपलब्ध करवा रहे हैं लेकिन चोरी हुई बाइक का अब तक कोई सुराग नहीं मिला। पूरी रिपोर्ट पढि़ए खारीतट संदेश की इस रिपोर्ट में….
बिजयनगर। बिजयनगर में चोरों की नजर बाइक पर पड़ गई है। एक के बाद एक बाइक लगातार चोरी हो रही है लेकिन एक का भी खुलासा नहीं हुआ है। चोरी की बढ़ती वारदात से आमजनों में न केवल भय का माहौल है बल्कि आक्रोशित भी हैं। वहीं आमजन में विश्वास और अपराधियों में भय के ध्येय के साथ काम करने वाली पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर चोरी की वारदातों से लोगों में आक्रोश है। वहीं जिम्मेदार महकमा एक के बाद एक लगातार दुपहिया वाहनों की चोरी की वारदातों के बाद मात्र खानापूर्ति में ही लगा है।

पीडि़तों का कहना है कि दुपिहया वाहनों की चोरी की शिकायत को लेकर जब थाने जाते है और पूरा वाकया बता देने के बाद पुलिस मौका रिपोर्ट बनाने की बात कहकर पूरा मामला ही ठंडे बस्ते में डाल देती है। ऐसे में जिन्हें पुलिस से पूरी उम्मीद होती है कि हमारी गाड़ी मिल जाएगी लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता है उनकी यह उम्मीद भी धूमिल होती नजर आती है। शहर में ऐसे कई पीडि़त हैं जिन्होंने गत वर्ष अपनी मोटरसाइकिल चोरी की शिकायत थाने में दर्ज करवाई लेकिन उन्हें मात्र आश्वासन के कुछ भी नहीं मिला। बीते दो माह में जितने पीडि़तों की मोटरसाइकिल चोरी हुई उन्होंने बकायदा घटना स्थल से गाड़ी उड़ाने वाले शातिरों के फुटेज तक पुलिस को उपलब्ध करवा दिए लेकिन उनको पुलिस कार्रवाई की कोई भी सूचना नहीं मिली।

सब्जी बेचने गया, उधर मोटरसाइकिल पार
राजेश माली महावीर बाजार में रोजाना सब्जी का ठेला लगाता है। पिछले तीन महीने से लगातार कृषि मंडी में जहां वो रात को ठेला रखता है वहां मोटर साइकिल लॉक कर दिनभर खड़ी रखता है। राजेश ने बताया कि उसकी हीरो मोटरसाइकिल 16 फरवरी को सुबह लॉक कर खड़ी करके बाजार में सब्जी बेचने आ गया, जैसे ही शाम को ठेला खड़ा करने मंडी गया तो उसको वहां मोटरसाइकिल नहीं मिली। आसपास में मोटरसाइिकल की खोजबीन भी की लेकिन नहीं मिली। इस पर अगले दिन राजेश ने थाने में मोटरसाइकिल गुम होने की सूचना दी। राजेश ने बताया कि थाने से अब तक उसके पास कोई सूचना नहीं आई जबकि कांस्टेबल को राजेश ने एक दो सीसीटीवी कैमरे की फुटेज तक भेज दी जिसमें उसकी मोटरसाइिकल को दो युवक बिना मास्क के 16 फरवरी को सुबह 9:30 बजे मंडी से ले उड़े।

घर वाले भी देते हैं उलाहना
महावीर माली कृषि उपज मंडी परिसर में सब्जी की होलसेल दुकान पर मुनिम हैं। महावीर ने बताया कि उन्होंने 3 साल पूर्व 58 हजार रुपए में मोटरसाइकिल खरीदी। तब से दुकान के बाहर गाड़ी खड़ी करके सुबह-सुबह सब्जी बेचते आ रहे हैं, लेकिन 19 फरवरी को सुबह गाड़ी खड़ी की और कुछ दे बाद देखा कि गाड़ी गायब है। इस पर सीसीटीवी केमरे को देखा तो उसमें 9 बजकर 45 मिनट पर एक शख्स उक्त मोटरसाइकिल ले जाते दिखा। इस पर महावीर ने उसी दिन थाने में रिपोर्ट दी लेकिन आज तक महावीर को गाड़ी का अता-पता नहीं मिला। महावीर ने बताया कि उसके पास अब कोई साधन नहीं है जिससे कि वह मंडी आ-जा सके। घर वाले भी रोजाना उलहना देते हैं।

कोचिंग में पढ़ाई कर निकले तो बाइक गायब
मुकेश उपाध्याय प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने के लिए रोजाना समीपवर्ती ग्राम शिखरानी से बिजयनगर बालाजी मंदिर के पीछे स्थित एक कोचिंग संस्थान पर आते हैं। 19 फरवरी को वह अपनी बाइक कोचिंग संस्थान के बाहर खड़ी कर कोचिंग लेने कक्ष में गए लेकिन बाहर निकले तो बाइक गायब थी। उन्होंने तुरंत सीसीटीवी कैमरे चैक करवाए तो एक युवक तकरीबन शाम 5 बजकर 27 मिनट पर उनकी गाड़ी लेकर जाता हुआ दिखाई दिया। उन्होंने थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई और पुलिसकर्मियों के कहने पर सीसीटीवी फुटेज भी उपलब्ध करवा दी। लेकिन छह दिन बाद भी उनकी बाइक का कोई अता-पता नहीं है। मुकेश ने बताया वो रोजाना गांव से किसी न किसी से लिफ्ट लेकर बिजयनगर पढऩे आ रहे हैं, मुश्किल तो शाम को हो जाती तब कोई साधन नहीं मिलता। उनको पिताजी ने पढ़ाई करने के लिए 4 साल पहले यह मोटरसाइकिल दिलवाई थी।
घर से खाना खाकर निकले तब तक बाइक चोरी
प्रकाशचन्द सिंधी बजरंग कॉलोनी निवासी स्थानीय कृषि उपज मंडी में आढ़त की दुकान करते हैं। प्रकाशचन्द ने बताया कि वे रोजाना 12 बजे के आसपास घर पर खाना खाने और आराम करने आते हैं। 21 फरवरी को इन्होंने अपनी हीरो स्पलेंडर प्लस मोटरसाइकिल घर के बाहर खड़ी की। 2:30 बजे तक तो गाड़ी घर के बाहर थी जब 4 बजे प्रकाशचन्द मंडी जाने के लिए घर से बाहर निकले तो गाड़ी नदारद। प्रकाशचन्द चिंतित हो गए। इधर-उधर देखा लेकिन गाड़ी कहीं नही मिली। परेशान होकर शाम को थाने पर रिपोर्ट देने गए। थाने वालों ने बोला अपनी शिकायत लिखित में दे दो। रिपोर्ट भी दे दी। लेकिन आज तक पुलिस की ओर से कोई कार्रवाई नहीं हुई। प्रकाशचन्द की पत्नी ने बताया कि जब हम रिपोर्ट देने थाने गए तो रास्ते में मंडी के कुछ लोग मिले उन्होंने भी बोला इन दो सप्ताह में शहर में कई मोटरसाइकिले चोरी हुई है। लेकिन एक का भी पता नहीं चला।
इनका कहना है
पुलिस द्वारा पूरी छानबीन की जा रही है, इन दुपहिया वाहनों की चोरी की घटनाओं के पीछे जो भी हो उसका जल्द पर्दाफाश किया जाएगा।
सुनिल सिहाग, पुलिस उपाधीक्षक, नसीराबाद

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar