अब स्वच्छ-सुंदर बिजयनगर…

  • Devendra
  • 08/04/2021
  • Comments Off on अब स्वच्छ-सुंदर बिजयनगर…

बिजयनगर। (खारीतट सन्देश) बिजयनगर शहर जिसकी स्थापना सन् 1919 में मसूदा के तत्कालीन राव साहब विजय सिंहजी के द्वारा एक आदर्श नगर के रूप में की गई थी। तब यहां की सीधी चौड़ी सड़कें यहां की उत्कृष्ट बसावट को सिद्ध करती थी। किसी भी कार्य को सकारात्मक रूप से पूरा करने के लिए उसकी कल्पना करना अति आवश्यक है। मैं दिन में आराम कर रही थी तभी मेरी आंख लग गई और मैंने सपने में में देखा कि बिजयनगर में बड़े-बड़े शॉपिंग मॉल खुल चुके हैं जिसमें आमजन आसानी से अपने रोजमर्रा की वस्तुएं उचित दामों पर खरीद रहे है। साथ ही स्थानीय पालिका प्रशासन द्वारा राष्ट्रीय कार्यक्रम स्वच्छ भारत अभियान के तहत जहां पूर्व में सफाई व्यवस्था एक बड़ी चुनौती हुआ करती थी वहां अब रोजाना सफाई होती है। पूर्व में रेलवे फाटक के समीप और शनि महाराज मंदिर के समीप कचरे के ढ़ेर लगे रहते थे, वहां अब साफ-सुथरा नजर आने लगा है। साथ ही गली मोहल्लों में घूमने वाले मवेशी भी अब नजर नहीं आते।

पूर्व में जहां थोड़ी सी तेज बारिश में शहर में जल-जमाव हो जाया करता था, वहीं अब नगर पालिका के बोर्ड द्वारा अच्छी पहल करते हुए शहर का ड्रैनेज सिस्टम ठीक करवा दिया गया है। शहर की मुख्य समस्या दुपहिया व चारपहिया वाहनों की आवाजाही में अस्थाई अतिक्रमण बाधा बनता था, लेकिन नगर पालिका प्रशासन के अभियान के चलते अब शहर से दुपहिया व चारपहिया वाहन आसानी से सरपट दौड़ रहे हैं। पूर्व में शहर में जितने भी कचरा पात्र बने थे उनके बाहर कचरों का ढ़ेर हुआ करता था लेकिन मैंने सपने में देखा कि अब वहां रोजाना सफाई हुआ करती है। शहर की सबसे मुख्य और ज्वलंत समस्या शहर के बरसाती पानी को खारी नदी में डालने और रेलवे फाटक के पास ही अण्डरपास बनाने की जिस पर मैंने देखा प्रशासन ने कार्य शुरू कर दिया है। सपना देखते-देखते मेरी आंख खुली तो देखा सब कुछ वैसा ही है। मैंने सोचा काश मेरा यह सपना पूरा हो जाए तो मेरा शहर बिजयनगर भी राज्य में अव्वल आ जाए।
नीलम गोयल, गृहणी, बिजयनगर

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar