बस स्टैंड को लगी ‘नजर’

  • Devendra
  • 17/06/2021
  • Comments Off on बस स्टैंड को लगी ‘नजर’

राजकाज: एक करोड़ खर्च करने के बाद भी बस स्टैण्ड अधर में
18 दिसम्बर 2017 को समारोहपूर्वक किया गया था शिलान्यास
बस स्टैंड में शौचालय, चारदिवारी व मिट्टी का किया गया भराव
10 बीघा जमीन पर बनेगा नवीन बस स्टैंड, हुए हैं कई कार्य, कई बाकी
शिलान्यास व आश्वासन से आगे नहीं बढ़ रहा नवीन बस स्टैंड का शेष कार्य
पालिका द्वारा विभिन्न मदों में खर्च कर दिए एक करोड़, दो लाख से ज्यादा की राशि
राष्ट्रीय राजमार्ग के समीप 10 बीघा क्षेत्रफल में बनने वाला नवीन बस स्टैंड शिलान्यास के लगभग साढ़े तीन साल बाद भी अधर में है। बस स्टैंड परिसर में हुए निर्माण कार्य धूल फांक रहे हैं। शहर के यात्रियों की परेशानी तनिक भी कम नहीं हुई है। खारीतट संदेश की विशेष पड़ताल में पढि़ए बस स्टैंड का हाल…।
बिजयनगर। (खारीतट सन्देश) लगता है राष्ट्रीय राजमार्ग के समीप बनने वाला नवीन बस स्टैंड को किसी की नजर लग गई है। नवीन बस स्टैंड का शिलान्यास हुए साढ़े तीन वर्ष से अधिक हो गए हैं लेकिन वहां बसों का ठहराव नहीं हो सका है। ऐसे में जिस उद्देश्य से नवीन बस स्टैंड का खाका खींचा गया, वह पूरा नहीं हुआ। खासकर यात्रियों की परेशानी जस की तस है।

विदित हो कि राष्ट्रीय राजमार्ग के समीप स्थित पुलिस थाने के पीछे 10 बीघा जमीन पर 18 दिसम्बर 2017 को तत्कालीन स्वायत्त शासन मंत्री श्रीचन्द कृपलानी, भंवरसिंह पलाड़ा, पालिकाध्यक्ष सचिन सांखला, उपाध्यक्ष सहदेवसिंह कुशवाह सहित सैकड़ों गणमान्यों की मौजूदगी में सरकार की ओर से 1 करोड़ रुपए से पं. दीनदयाल उपाध्याय बस स्टैंड निर्माण के लिए भूमि शिलान्यास का कार्यक्रम किया था। शिलान्यास के 15 माह बाद पालिका प्रशासन ने बोर्ड बैठक में आमजन के हित को देखते हुए अपने फंड से 98 लाख खर्च कर मौके पर 30 लाख राशि से एक आधुनिक शौचालय, 48 लाख राशि से बस स्टैण्ड परिसर की चारदीवारी और 20 लाख के खर्चे से बस स्टैण्ड परिसर में मिट्टी का भराव करवा दिया। पालिका सूत्रों के मुताबिक 98 लाख खर्च करने के बाद भी राज्य सरकार से जो 1 करोड़ रुपए पालिका को मिलने थे, वो भी आज दिन तक नहीं आए। ऐसे में आगे के विकास कार्य अटक गए।

नवम्बर 2019 में शताब्दी वर्ष समारोह में बस स्टैण्ड परिसर में दो हाईमास्क लाईट लगवा, रोडवेज बुकिंग क्लर्क के लिए लोहे की केबिन बनवाकर विधायक राकेश पारीक के हाथों बस स्टैंड का शुभारम्भ करवा दिया, लेकिन 20 माह बाद बस स्टैण्ड का शेष कार्य अधर में है। इन 20 माह में बस स्टैण्ड पर कोई भी कार्य नहीं होने से आमजन आज भी रोडवेज में सवार होने के लिए 27 मिल चौराहे पर धूप, बारिश और सर्द हवाओं के थपेड़ों में यात्रा करने को मजबूर है। शहर के बाशिंदों के मन में एक ही सवाल उभर कर आता है कि करोड़ रुपए खर्च करने के दो साल बाद भी बस स्टैण्ड का इस्तेमाल क्यों नहीं हो पा रहा है। आखिर बस स्टेण्ड पर बसें कब आएंगी?

शताब्दी वर्ष कार्यक्रम में की थी घोषणा
बिजयनगर के 100 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य पर 19 नवम्बर 2019 को आयोजित समारोह में मसूदा विधायक राकेश पारीक ने जल्द बस स्टैण्ड शुरु करवाने के साथ ही इस रूट की सभी बसों का ठहराव बस स्टैण्ड पर करवाने की घोषणा के साथ ही बस स्टैण्ड पर सभी आवश्यक सुविधाएं जुटाने की बात कही थी।
बस स्टैण्ड का कार्य पूरा कराने का करेंगे प्रयास-सांखला
बीते पालिका बोर्ड के पांच वर्ष पूर्ण होने के बाद पूर्व पालिकाध्यक्ष सचिन सांखला ने बताया कि बिजयनगर के लिए रोडवेज बस स्टैण्ड का निर्माण पूरा होना अति आवश्यक है, इसके लिए विधायक राकेश पारीक सहित अन्य जनप्रतिनिधियों को साथ लेकर इस मांग को पूरा करने का प्रयास करेंगे।
बिजयनगर-गुलाबपुरा के चौराहों का व्यापार हुआ प्रभावित
बीते वर्षो में बिजयनगर-गुलाबपुरा के मुख्य चौराहों का व्यापार रोडवेज बंद होने से प्रभावित हुआ है। कुछ वर्षों पूर्व ब्यावर आगार की तकरीबन सभी बसे, अजमेर-भीलवाड़ा की कुछेक बसें दोनों शहरों के मध्य से होकर गुजरा करती थी, ऐसे में दोनों शहरों के मुख्य चौराहे पर स्थापित चाय, नाश्ते, फल-सब्जी की दुकानों पर अच्छी ग्राहकी चला करती थी, लेकिन बसें बंद होने से यहां का व्यापार खासा प्रभावित हुआ है।
मौके पर यह है हालात
पुलिस थाने के पीछे स्थित बस स्टैण्ड पर 10 बीघा जमीन पर कहीं कंटीली झाडिय़ां, बबूल तो कहीं शराब की बोतलों के टूटे कांच पड़े हैं। साथ ही सुलभ शौचालय पर लगा बोर्ड भी हवाओं के झोंके से टूटकर आधा लटका हुआ है। बस स्टैण्ड पर दो हाई मास्क लाइट लगी हुई है जो रात को बस स्टैण्ड को रोशन करती है, लोहे की चद्दर से बनी हुई केबिन भी बीते डेढ़ साल से धूल फांक रही है।
ये सुविधाएं हो तो शुरू हो बस स्टैण्ड
रोडवेज बस स्टैण्ड पर किए गए विकास कार्य नाकाफी है। बसों के आगमन प्रस्थान के लिए दोनों दिशाओं में लिंक रोड का निर्माण, यात्रियों के ठहराव के लिए टिन शेड, पूरे बस स्टैण्ड परिसर में सिमेंटेड ब्लॉक या फिर सीसी रोड, पेयजल सुविधा, यात्रियों के लिए ऑटो, अल्पाहार की सुविधा सहित कई
आवश्यक संसाधनों का जुटाया जाना शेष है।
लगभग चार वर्ष पूर्व बस स्टैण्ड की नींव रखी गई थी, यदि जनप्रतिनिधि रुचि लेकर बस स्टैण्ड के निर्माण कार्य के लिए जुटे रहते, तो आज बस स्टैण्ड पर बसें आती। मैंने पालिकाध्यक्ष और पार्षदों से बात कर बस स्टैण्ड निर्माण के लिए जल्दी कार्य शुरू करवाने की मांग रखी, इस पर पालिकाध्यक्ष ने जल्द ही निर्माण कार्य शुरू करवाने का आश्वासन दिया है।

मनोहर कोगटा, पार्षद
पूर्व में जब पीपली चौराहे पर रोडवेज बस आती थी तब रौनक हुआ करती थी, रोडवेजे बंद होने से रौनक के साथ यहां के व्यवसायियों का काम धंधा प्रभावित हो गया। चार साल पहले थाने के पीछे बस स्टैण्ड की नींव रखी लेकिन आज तक बसें वहां नहीं पहुंची, इससे यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

नौरत पंचोली, बिजयनगर
कार्य शुरू करवा आमजन को राहत दिलवाएंगे
बस स्टैण्ड उद्घाटन के कुछ दिनों बाद कोरोना महामारी आ गई, इस वजह से कार्य शुरू नहीं हो पाए। इस वर्ष कोरोना महामारी का प्रकोप समाप्त होते ही तुरंत बस स्टैंड के कार्य को शुरू करवा कर आमजन को राहत दिलवाएंगे।

राकेश पारीक, विधायक, मसूदा
जल्द होगा निर्माण कार्य
बस स्टैण्ड के विकास कार्यों के तहत आगामी सप्ताह में नाला निर्माण, बसों व यात्रियों के खड़े होने के लिए टीनशेड निर्माण सहित सीसी रोड बनाने के टेण्डर जारी किए जाएंगे। प्रस्ताव तैयार है, बस कोरोना गाइडलाइन में छूट मिलते ही उक्त कार्यों के टेण्डर जारी कर जल्द निर्माण कार्य शुरू करवाएं जाएंगे।

अनिता मेवाड़ा, पालिकाध्यक्ष, बिजयनगर
बस स्टैण्ड शीघ्र शुरू हो इसके लिए जो भी सुविधाएं, निर्माण कार्य आवश्यक है उनको पूरा कराने की मांग विधायक महोदय से की जाएगी, ताकि शहरवासियों को इस बस स्टैण्ड का लाभ मिल सके।

ज्योति यादव, पार्षद

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar