‘एकता में बल है…’

कोरोना काल में पहली और दूसरी लहर के साक्षी बने बिजयनगर के लोगों के लिए यह राहत और सुकून देने वाली बात है कि बिजयनगर चिकित्सालय का अब कायापलट हो रहा है।
बिजयनगर। (खारीतट सन्देश) सही मुद्दों को लेकर किया गया संघर्ष का परिणाम भी अक्सर सुखद ही होता है। कल आज और कल के परिदृश्य में अवलोकन करें तो बिजयनगर स्थित राजकीय चिकित्सालय में बहुत कुछ बदलाव मिल रहा है। रफ्तार यही रही तो आने वाले दिनों में और भी बदलाव देखने को मिल सकते हैं। इस बदलाव के लिए शहर के तमाम संगठन जो चिकित्सकों की कमी को लेकर धरना-प्रदर्शन किया था, वे सभी बधाई के पात्र हैं। यह सही अर्थों में ‘एकता में बल है…’ का सुखद पहलू है, जिससे इनकार नहीं किया जा सकता। उक्त चिकित्सालय में चिकित्सकों की नियुक्ति के लिए मसूदा विधायक राकेश पारीक को साधुवाद। साथ ही, इस चिकित्सालय में स्थानान्तरित होकर आए सभी चिकित्सकों का अभिवादन।

कोरोना काल में पहली और दूसरी लहर के साक्षी बने बिजयनगर के लोगों के लिए यह राहत और सुकून देने वाली बात है कि बिजयनगर चिकित्सालय का अब कायापलट हो रहा है। कोरोना की संभावित तीसरी लहर से पहले बिजयनगर राजकीय चिकित्सालय में चिकित्सकों की नियुक्ति सभी को सुकून देने वाली है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि कोरोना संक्रमण को लेकर लापरवाही बरती जााए। हर हाल में हमें सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क लगाने की आदत डालनी ही होगी। संक्रमित होकर चिकित्सालय पहुंचने से बेहतर है कि कोरोना गाइडलाइन का पालन करें और आवश्यक रूप से कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन लगवाएं। निश्चित ही सरकार अस्पतालों में चिकित्सकों की नियुक्ति कर सकती है, संसाधन बढ़ा सकती है लेकिन गाइडलाइन का पालन करना हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है। गाइडलाइन का पालन कर हम न केवल स्वयं का बल्कि परिवार, समाज और अंतत: देश के प्रति अपना सहयोग दे सकेंगे। जयहिन्द।

दिनेश ढाबरिया

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar