तीन तलाक विधेयक समेत लोकसभा ने पारित किये 12 विधेयक

नई दिल्ली।  लोकसभा के संक्षिप्त शीतकालीन सत्र के दौरान बहुचर्चित तीन तलाक विधेयक समेत 12 विधेयक पारित किये गये लेकिन विभिन्न मुद्दों पर हंगामे के कारण 14 घंटे 51 मिनट का समय बर्बाद भी हुआ।

गुजरात विधानसभा चुनाव के कारण यह सत्र देर से शुरू हुआ। गत 15 दिसंबर से शुरू हुये इस सत्र की कार्यवाही आज अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो गयी। अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कार्यवाही स्थगित करने से पूर्व बताया कि 16वीं लोकसभा के 13वें सत्र में कुल 13 बैठकें हुई और 61 घंटे काम हुआ। इस दौरान 16 सरकारी विधेयक पेश किये गये और 12 विधेयकों को मंजूरी दी गयी।

व्यवधानों और उसके परिणाम स्वरूप हुये स्थगनों की वजह से सदन के 14 घंटे 51 मिनट बर्बाद हुये जबकि आठ घंटे 10 मिनट अतिरिक्त समय बैठकर महत्त्वपूर्ण कामकाज निपटाया गया।

गुजरात चुनाव प्रचार के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी को लेकर सत्र के आरंभ से ही विपक्ष आक्रमक रहा। इस पर हंगामे के कारण कई बार कार्यवाही में व्यवधान पड़ा। कौशल विकास राज्य मंत्री अनंत कुमार हेगडे की संविधान के संबंध में की गयी टिप्पणी को लेकर सदन में हंगामा हुआ। बाद में उनके स्पष्टीकरण और माफी माँगने के बाद मामला शांत हुआ। विपक्ष ने पुणे हिंसा का मुद्दा भी सदन में जोर-शोर से उठाया।

सत्र के दौरान पारित महत्त्वपूर्ण विधेयकों में तीन तलाक से संबंधित मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार सुरक्षा) विधेयक, केंद्रीय सड़क निधि (संशोधन) विधेयक, वस्तु एवं सेवा कर (राज्यों को क्षतिपूर्ति) (संशोधन) विधेयक, दिवाला एवं शोधन अक्षमता संहिता (संशोधन) विधेयक, उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय वेतन और सेवा शर्त संशोधन विधेयक, दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी राज्य क्षेत्र विधियाँ (विशेष उपबंध) दूसरा (संशोधन) विधेयक और अचल संपत्ति अधिग्रहण और अर्जन (संशोधन) विधेयक शामिल हैं।

दक्षिण के राज्यों में नवंबर के अंत और दिसंबर के आरंभ में ओखी चक्रवात से मची तबाही पर सदन में अल्पकालिक चर्चा करायी गयी।

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव से मिलने गयी उनकी माँ और पत्नी के साथ वहाँ हुए अनुचित व्यवहार पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने वक्तव्य दिया तथा इसकी कड़ी निंदा की गयी।

तीन तलाक विधेयक लटका, राज्यसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

राज्यसभा में शीतकालीन सत्र की कार्यवाही नौ सरकारी विधेयकों को पारित करने के बाद आज अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गयी लेकिन विपक्ष के कड़े विरोध के कारण तीन तलाक से संबंधित विधेयक लटक गया।

लोकसभा ने तीन तलाक विधेयक को पारित कर दिया था। राज्यसभा में इसे पेश किया गया लेकिन विपक्ष इसे प्रवर समिति के पास भेजे जाने की मांग पर अड़ गया जिस पर सरकार सहमत नहीं हुई जिससे यह विधेयक लटक गया।

पंद्रह दिसंबर से शुरू हुए शीतकालीन सत्र में कुल 13 बैठकें हुईं और नौ सरकारी विधेयक पारित हुए। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर गुजरात चुनाव में प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा लगाये गए आरोप, केन्द्रीय कौशल विकास राज्य मंत्री अनंत कुमार हेगड़े के संविधान विरोधी बयान, तीन तलाक एवं पुणे में हिंसा के मुद्दे पर जबरदस्त हंगामे के कारण कई बार सदन की कार्यवाही बाधित हुई और इस तरह 34 घंटे का समय बर्बाद हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar