नौनिहाल सीख रहे डांस व जूडो-कराटे

  • Devendra
  • 19/05/2022
  • Comments Off on नौनिहाल सीख रहे डांस व जूडो-कराटे

भाविप के अभिरुचि शिविर में पारंगत हो रहे युवा-युवती
बिजयनगर। ग्रीष्म अवकाश में आयोजित होने वाले अभिरुचि शिविर युवा, युवतियों सहित छोटे-छोटे बच्चों के लिए कई विधाएं सीखने के लिए अच्छा माध्यम होता है। शिविर में बच्चों को आत्मरक्षा के गुर सिखाने के साथ युवतियों को खाना-पान की विधाएं और स्वरोजगार की ओर अग्रसर होने के लिए भी संक्षिप्त प्रशिक्षण प्रदान करने का माध्यम है। इन दिनों भारत विकास परिषद शाखा बिजयनगर की ओर से मुनिम कॉलोनी स्थित ओसवाल भवन में चलाए जा रहे अभिरुचि शिविर में 229 बच्चे, युवा एवं युवतियां विभिन्न विधाएं सीख रही हैं। शिविर में रेखा पोखरना द्वारा 23 युवतियों को कुकिंग के बेहतरीन टिप्स दे रही हैं। शिविर में पोखरना ने मेहमान के पधारने पर झटपट गुलाब जामुन बनाने के तरीके बताए। डांसर अशोक राजपुरोहित 61 बच्चों को एक से बढ़कर एक डांस के हुनर सिखा रहे हैं। इसी प्रकार ईशिका कुमावत 37 युवतियों को मेहंदी की विभिन्न डिजायनों को पहले कागज पर उकेर कर फिर हाथ पर सजाने का सलीका सिखा रही हैं। वर्षा माखीजानी कम उम्र होने के बावजूद भी 23 लड़कियों को ब्यूटिशियन वर्क के टिप्स देते हुए ब्यूटी पार्लर जैसे स्वरोजगार के माध्यम से जोडऩे के साथ ही दुल्हनों को सजाने की विधाएं सिखा रही हैं। चारू अग्रवाल भी 28 बच्चे-बच्च्यिों को फिंगर अबेकस सिखाते हुए उनकी मानसिक क्षमता को बढ़ाने में भी भरपूर प्रयास कर रही है। वहीं तरुण खत्री 40 छोटे-बड़े बच्चों को सेल्फ डिफेंस के तहत जूड-कराटे की विभिन्न विधाएं सिखा रहे हैं ताकि आपातकाल के समय स्वयं की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। इसी क्रम में सरिता जांगिड़ 17 बच्चों को क्लेआर्ट और कार्ड मेंकिंग के फायदे बताते हुए इसके तहत विभिन्न विधाओं को सिखाने का प्रयास कर रही है।

भाविप महिला प्रमुख संगीता गर्ग ने बताया कि जब से अभिरुचि शिविर शुरू किया तब से सभी पंजीकृत बच्चे ट्रेनर के आने से पहले उपस्थित हो जाते हैं। पिछले दिन तक जो सीखा उसका रिर्हसल करते रहते है। गर्ग ने बताया कि सभी प्रशिक्षक यहां के बच्चों को विभिन्न विधाएं सिखाने में पूरी दिलचस्पी दिखा रहे हैं और कुकिंग, ब्यूटिशियन, जूडो-करांटे और मेहंदी और डांस सीखने वाले अधिकांश बच्चे ट्रेंड भी हो चुके हैं। शिविर में अध्यक्ष सीए जितेन्द्र पीपाड़ा, सचिव ज्ञानचन्द नाहर, कोषाध्यक्ष राजेश सांखला, प्रांतीय समन्वयक रतनलाल नाहर, संरक्षक काशीराम जागेटिया, दिलीप मेहता, राजेश सोनी, सत्यनारायण जोशी, डीसी जैन, वीरचन्द जैन, रूपचन्द नाबेड़ा, श्याम सुंदर चौधरी, मनोज टेलर, विमल भंसाली, तरुण शर्मा, सिद्धार्थ बोरदिया, अशोक गोयल, आशीष हेमनानी, ललिता भण्डारी, उषा गोयल, रेखा पोखरना, रुचिका बोरदिया, संगीता बाल्दी, संध्या जैन, दीपमाला तलेसरा, आभा अग्रवाल, प्रीति पीपाड़ा, रेखा शर्मा, स्नेहलता कुमठ, रेखा भंसाली, गरिमा नाहर एवं इन्द्रा सोनी मौजूद थे।

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar