whatsApp ग्रुप पर प्राइवेसी का मजाक, कोई भी पढ़ सकता है आपके मैसेज

लोकप्रिय मैसेजिंग एप्प व्हाट्सएप्प एक बार फिर यूजर्स की प्राइवेसी को लेकर विवादों के घेरे में है। जर्मनी के क्रिप्टोग्राफर्स की एक टीम ने इंड-टू-इंड इनक्रिप्शन के बावजूद व्हाट्सऐप की ग्रुप चैट में खामियों को सामने लाया है। टीम के अनुसार, एडमिन की इजाजत के बगैर प्राइवेट ग्रुप चैट में घुसपैठ करना संभव है।

जर्मनी के रूहर यूनिवर्सिटी बोचूम के शोधकर्ताओं ने बताया है कि, ग्रुप चैट फीचर के तहत व्हाट्सएप्प के सर्वरों को कोई भी कंट्रोल कर सकता है। उदाहरण के लिए- सिक्योरिटी प्रोसेस को धोखा दे सकते हैं और नए सदस्यों को ग्रुप में जोड़ सकते हैं और निजी बातचीत की जासूसी कर सकते हैं। वहीं, जर्मन क्रिप्टोग्राफरों की एक टीम द्वारा की गई रिसर्च के अनुसार, व्हाट्सएप्प में कई खामियों को देखा गया, जिसमें इस एप के ग्रुप चैट फीचर में घुसपैठ करना संभव है। यानि इसकी प्राइवेसी खतरे में है।

WIRED के साथ हुई बातचीत
WIRED के साथ फोन पर हुई बातचीत में व्हाट्सएप्प के प्रवक्ता ने शोधकर्ताओं के निष्कर्षों की पुष्टि की, उन्होंने कहा कि कोई भी चुपके से एक समूह में एक नए सदस्य को जोड़ नहीं सकता है- एक नोटिफिकेशन जारी की जाती है कि एक नया अज्ञात सदस्य समूह में शामिल हो गया है। कर्मचारी ने कहा कि यदि कोई एडमिनिस्ट्रेटर किसी समूह के लिए एक गड़बड़ करता है, तो वे अन्य उपयोगकर्ताओं को किसी अन्य समूह के माध्यम से, या एक-से-एक मैेसज के माध्यम से हमेशा बता सकते हैं।

बातचीत के दौरान WIRED ने कहा है कि ‘हमने इस मुद्दे को ध्यान से देखा है,’ एक व्हाट्सएप्प के प्रवक्ता ने एक ईमेल में लिखा है। ‘नए सदस्यों को व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ते समय मौजूदा सदस्यों को सूचित किया जाता है। हम एक छिपे हुए उपयोगकर्ता को ग्रुप मैसेज नहीं भेज सकते हैं। हमारे उपयोगकर्ताओं की गोपनीयता और सुरक्षा व्हाट्सएप्प के लिए विश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar