बाजार में हाहाकार, ढाई साल की सबसे बड़ी गिरावट

मुम्बई। खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य लागत से डेढ़ गुणा करने के बारे में बजट में की गयी घोषणा से महंगाई बढ़ने और इक्विटी निवेश में एक लाख रुपये से अधिक के दीर्घावधि पूँजीगत लाभ पर 10 प्रतिशत कर लागू किये जाने से सहमे निवेशकों ने आज जमकर बिकवाली की जिससे घरेलू शेयर बाजार धराशायी हो गया।

चौतरफा बिकवाली के दबाव में बीएसई के सेंसेक्स में 24 अगस्त 2015 (1624.51 अंक) के बाद की सबसे बड़ी गिरावट रही। यह 2.36 फीसदी यानी 839.91 अंक लुढ़ककर 35,066.75 अंक पर बंद हुआ। एनएसई का निफ्टी भी 2.33 फीसदी यानी 256.30 अंक खोता हुआ 10,760.60 अंक पर बंद हुआ। यह इसकी भी 24 अगस्त 2015 (490.95 अंक) के बाद की सबसे बड़ी गिरावट है।

निवेशक इस बात को लेकर आशंकित हैं कि न्यूनतम समर्थन मूल्य के संबंध में की गयी घोषणा से खुदरा कीमतों पर काफी प्रभाव पड़ेगा। खुदरा महंगाई दर पहले ही 17 माह के उच्चतम स्तर 5.21 प्रतिशत पर है। ऐसे में रिजर्व बैंक ब्याज दर के संबंध में आगामी 06 और 07 फरवरी को होने वाली नीतिगत समीक्षा बैठक में दर बढ़ाने पर भी विचार कर सकता है। रिजर्व बैंक ने खुदरा महंगाई दर के चार प्रतिशत रहने का लक्ष्य निर्धारित किया था।

बजट पेश किये जाने के बाद बाजार में मची अफरा-तफरी के बीच कल 58.36 अंक की गिरावट के साथ बंद सेंसेक्स आज कारोबार के दौरान एक समय 900.25 अंक और निफ्टी 280.80 अंक तक लुढ़क गया था। बाजार अाज लगातार चौथे दिन गिरावट में बंद हुआ।

वैश्विक बाजारों के कमजोर रुख और बजट को लेकर फैली हताशा से सेंसेक्स आज 199.06 अंक की गिरावट के साथ 35,707.60 अंक पर खुला। बीएसई के सभी 20 समूहों के सूचकांक में आयी तेज गिरावट के कारण यह एक समय मात्र चंद अंकों के कारण 35 हजार अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से भी नीचे उतरने से बचा।

रियल्टी समूह और सेंसेक्स की 27 कंपनियों के शेयरों में बिकवाली के दबाव में यह 35,006.41 अंक के निचले स्तर तक उतर गया। कारोबार के दौरान इसका दिवस का उच्चतम स्तर 35,738.13 अंक रहा। अंतत: यह गत दिवस की तुलना में 839.91 अंक की तेज गिरावट के साथ 35,066.75 अंक पर बंद हुआ।

निफ्टी का हाल भी सेंसेक्स की तरह रहा। यह भी 88.70 अंक की गिरावट के साथ 10,938.20 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान 10,954.95 अंक के स्तर को छूने के बाद अधिकतर कंपनियों के शेयरों में हुई बिकवाली के दबाव में यह लुढ़कता हुआ 10,736.10 अंक के निचले स्तर तक चला गया। अंतत: गत दिवस की तुलना में 2.33 प्रतिशत यानी 256.30 अंक की गिरावट में 10,760.60 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 51 में से 45 कंपनियों में गिरावट हावी रही।

दिग्गज कंपनियों की तरह छोटी और मंझोली कंपनियों में भी बिकवाली का जोर रहा। बीएसई का मिडकैप 4.03 फीसदी यानी 696.20 अंक लुढ़ककर 16,574.70 अंक पर और स्मॉलकैप 4.65 प्रतिशत यानी 869.87 अंक की गिरावट के साथ 17,847.53 अंक पर बंद हुआ।

बीएसई में आज कुल 2,962 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें से 2,527 के शेयर गिरावट में और मात्र 310 के तेजी में बंद हुये जबकि शेष 125 कंपनियों के शेयरों की कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar