शिखर के तूफ़ान और भुवी के पंजे से जीता भारत

जोहानसबर्ग। शिखर धवन की फिफ्टी (72) के बाद भुवनेश्वर कुमार की घातक गेंदबाजी (5 विकेट) की मदद से भारत ने रविवार को दक्षिण अफ्रीका को पहले टी20 मैच में 28 रनों से हरा दिया। भारत ने 5 विकेट पर 203 रन बनाए। जवाब में रेजा हैंड्रिक्स की फिफ्टी (70) के बावजूद दक्षिण अफ्रीका 9 विकेट पर 175 रन ही बना पाया। इसी के साथ भारत ने तीन मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बनाई।

द. अफ्रीका को पहला झटका भुवी ने दिया जब उन्होंने जोन-जोन स्मट्‍स को आउट किया। स्मट्‍स 3 चौकों की मदद से 14 रन बनाने के बाद भुवी की गेंद पर धवन को कैच थमा बैठे। कप्तान जेपी डुमिनी से बड़ी पारी की उम्मीद थी, लेकिन वे भी भुवी की गेंद पर 3 रन बनाकर रैना द्वारा लपके गए। अब उम्मीदें डेविड मिलर पर टिक गई थी, लेकिन वे मात्र 9 रन बनाकर पांड्‍या के शिकार बने। 48/3 की विषम स्थिति के बाद हैंड्रिक्स के साथ बेहारदीन ने चौथे विकेट के लिए मजबूत साझेदारी कर उम्मीदों को बनाए रखा। इन्होंने चौथे विकेट के लिए 81 रन जोड़े। बेहारदीन 39 रन बनाकर चहल के शिकार बने।

भुवी द्वारा डाले गए पारी के 18वें ओवर में कुल 4 विकेट गिरे। भुवी ने पहली गेंद पर हैंड्रिक्स को धोनी के हाथों झिलवाया। उन्होंने 50 गेंदों में 8 चौकों और 1 छक्के की मदद से 70 रन बनाए। चौथी गेंद पर हेनरिक क्लासेन (16) ने रैना को कैच थमाया। क्रिस मॉरिस खाता भी नहीं खोल पाए और अगली गेंद पर रैना को कैच दे बैठे। ओवर की अंतिम गेंद पर पीटरसन रन आउट हुए। भुवनेश्वर कुमार ने 24 रनों पर 5 विकेट लिए।

दक्षिण अफ्रीका ने रविवार को भारत के खिलाफ पहले टी20 मैच में टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। रोहित ने भारत को तेज शुरुआत दिलाई, उन्होंने 9 गेंदों में 2 चौकों और 2 छक्कों की मदद से 21 रन बनाए। वे डाला की गेंद पर विकेटकीपर क्लासेन को कैच थमा बैठे। लंबे समय बाद टीम में वापसी करने वाले रैना ने आक्रामक शुरुआत की, लेकिन वे डाला की गेंद को हवा में खेलकर उन्हें ही रिटर्न कैच थमा बैठे। उन्होंने 7 गेंदों में 2 चौकों और 1 छक्के की मदद से 15 रन बनाए।

विराट को 10 के स्कोर पर जीवनदान मिला जब शम्सी की गेंद पर बेहारदीन ने उनका आसान कैच छोड़ा। लेकिन वे इसका लाभ नहीं उठा पाए और 26 रन बनाकर शम्सी के ही शिकार बने। धवन ने शम्सी की गेंद पर चौका लगाकर फिफ्टी पूरी की।

धवन जब 10 रनों पर थे तब जूनियर डेला की गेंद पर विकेटकीपर क्लासेन ने उनका कैच लपका था, लेकिन अंपायर ने उन्हें आउट नहीं दिया था। मेजबान टीम ने रिव्यू नहीं मांगा। धवन ने इस जीवनदान का लाभ उठाकर तूफानी अर्द्धशतकीय पारी खेली। वे 39 गेंदों में 10 चौकों और 2 छक्कों की मदद से 72 रन बनाने के बाद एंडिले फेहलुकवायो के शिकार बने। उन्होंने विकेटकीपर क्लासेन को कैच थमाया। महेंद्रसिंह धोनी 16 रन बनाकर मॉरिस के शिकार बने। मनीष पांडे 29 और हार्दिक पांड्‍या 13 रन बनाकर नाबाद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar