गहरी सांस लेने से मिलते है अनगिनत फायदे

साँसों का हमारे जीवन की गाडी में वैसा ही महत्व है जैसा किसी गाडी में इंधन का ! इंधन ख़त्म गाडी बंद ..वैसे ही सांसें बंद और जीवन की गाडी भी बंद बस फर्क है कि मानव निर्मित गाडी को पुनः इंधन डालकर चलाया जा सकता है पर ईश्वर सृजित शरीर रुपी गाडी के एक बार बंद हो जाने पर इसे दुबारा स्टार्ट केवल ईश्वर ही कर सकता है I आप जानते होंगे कि एक सामान्य व्यक्ति एक दिन में 17280-23040 बार सांसें लेता और छोड़ता है I जब हम सांस भीतर लेते है तो इसके साथ जीवनदायनी प्राणवायु (आक्सीजन ) रक्त के माध्यम से शरीर की कोशिकाओं का पोषण करती है इन्ही कारणों से शास्त्रों में इसे “विष्णुपदामृत” की संज्ञा दी गयी है I हजारों वर्ष पूर्व से साँसों को लेने और छोडने का महत्व रहा है जिसे आचार्यों ने प्राणयाम के अभ्यास के रूप में प्रस्तुत किया है I केवल गहरी साँसों को लेने और छोडने मात्र से ही हमें कई लाभ प्राप्त होते हैं ..आज हम इन्ही की संक्षिप्त चर्चा करेंगे :-
*यदि आप तनाव महसूस कर रहे हों और योग एवं ध्यान के फायदे का जानने के बावजूद एंटी-डीप्रेसेंट दवाओं का सहारा लेने जा रहे हों तो आप केवल और केवल गहरी सांस लेकर और छोड़कर अपने इस तनाव को कम कर सकते हैं !
*गहरी सांस लेने और छोडने मात्र से आपके श्वसन संस्थान पर एक सकारात्मक प्रभाव पड़ता है ,इससे फेफड़ों की मांसपेशीयाँ मजबूत होती है I यदि आप जंकफूड खाने और अस्तव्यस्त दिनचर्या के कारण उत्पन्न थकान से परेशान हों तो बस गहरी सांस लेना और छोड़ना आपके लिए एक सरल उपाय है !
*वर्तमान खान-पान में आयी समस्याएं शरीर में कई प्रकार के टाक्सिंस को पैदा करती हैं ,जबकि केवल और केवल गहरी सांस लेने से शरीर को प्राप्त शुद्ध आक्सीजन इन टाक्सिंस को डी-टाक्सिफाई कर देती हैं !
*गहरी सासों को लेने और छोडने के अभ्यास मात्र से आप हायपरटेंशन,थकान,सिरदर्द ,घबराहट,नींद न आने जैसी समस्याओं से निजात पा सकते हैं !
*यदि आप समस्याओं का सामना सरलता से करना चाहते हैं तो कुछ सामान्य टिप्स आपके लिए मददगार सिद्ध हो सकते हैं :-
-सोने से पूर्व तीन सेकेण्ड के लिए सांस भीतर लें ,पुनः तीन सेकेंड्स तक इसे भीतर ही रोकें एवं तीन सेकेंड्स में बाहर छोड़ दें !
इसे आप 10-15 बार कर सकते हैं , इसके बाद आप स्वयं में आये परिवर्तन को महसूस करेंगे !
-तनाव एवं अवसाद को कम करने का सबसे अच्छा उपाय डायफ्राम (पसलियों ) द्वारा सांस लेना और छोड़ना है I
बस इसे किसी प्रशिक्षक के निर्देशन में लें तो बेहतर होगा !
-यदि आप फेफड़ों से समबंधित किसी समस्या से पीड़ित हैं और इन्हें निरोगी बनाना चाहते हैं ,तो बस एक लम्बी और गहरी सांस लें और इसे उसी गहराई से बाहर छोडें,इसे तीन से चार बार करें ..आपको निश्चित ही लाभ मिलेगा !
तो हमने आपको केवल गहरी सांस लेने और छोडने के लाभ बताये .आशा है आप इसे अवश्य ही लाभान्वित होंगे !

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar