तीन हजार से अधिक प्रधानाध्यापक एवं प्रधानाचार्य को मिलेंगे टेबलेट: देवनानी

जयपुर। राजस्थान में शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी ने आज अजमेर से प्रदेश के सरकारी विद्यालयों के प्रधानाध्यापक एवं प्रधानाचार्यों को टेबलेट वितरण योजना का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में श्री देवनानी ने कहा कि टेबलेट वितरण से संस्था प्रधान सीधे शिक्षा विभाग से सम्पर्क में रहेंगे जिससे सूचना के आदान -प्रदान में तेजी आएगी।

इस अवसर पर अजमेर जिले के 167 प्रधानाध्यापक एवं प्रधानाचार्य को टेबलेट वितरित किये गये।उन्होंने कहा कि शैक्षिक गुणवत्ता के लिए कक्षा एक से आठ तक विद्यालयों में लर्निंग लेवल तय किए गये हैं। राजस्थान प्राथमिक शिक्षा परिषद् और रमसा को एकीकृत करके प्रदेश में शिक्षा का और अधिक प्रभावी विकास किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पिछले चार वर्षाें में नवाचारों को अपनाते हुए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए प्रतिबद्ध रहते हुए 85 हजार करोड़ रूपये व्यय कर प्रदेश को शिक्षा क्षेत्र में अग्रणी राज्य बनाने की पहल की है। उन्होंने कहा कि इससे राजस्थान आज शिक्षा क्षेत्र में तीसरे स्थान पर आ गया है।

उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने पिछले चार वर्षों में प्रदेश में स्कूलों के एकीकरण, प्रत्येक ग्राम पंचायत में 9 हजार 895 आदर्श एव 9500 उत्कृष्ट विद्यालयों की स्थापना की जहां पहल की वहीं एक लाख 9 हजार शिक्षकों की रिकॉर्ड पदोन्नतियां प्रदान की। इसके साथ ही जिला शिक्षा अधिकारी के सभी पद भर दिए गए।

आज 142 जिला शिक्षा अधिकारी पद भरे हुए हैं साथ ही प्रधानाचार्य के भी 95 प्रतिशत से अधिक पद भर दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में एक लाख 50 हजार के करीब नवीन नियुक्तियॉं की पहल की गई है। इसमें सीधी भर्ती से 87 हजार 634 पदों पर शिक्षकों की जहां नई नियुक्तियां की है वहीं 16 हजार 669 पदों पर शिक्षकों की भर्ती प्रक्रियाधीन है।

उन्होंने बताया कि चार वर्ष पहले विद्यालयों में 60 लाख का नामांकन था। राज्य सरकार द्वारा राजकीय विद्यालयों के सुदृढ़ीकरण के लिए किए प्रयासों से सरकारी विद्यालयों के स्तर में वृद्धि हुई। इसी का परिणाम है कि आज सरकारी विद्यालयों में 82 लाख के करीब नामांकन हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar