पूर्वोत्तर की जीत ऐतिहासिक, 2019 में जीत के लिए हौसला बढ़ा :शाह

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पूर्वोत्तर के तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) को मिली सफलता को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सरकार की नीतियों का परिणाम बताते हुए आज कहा कि इन परिणामों से 2019 के चुनावों को लेकर भी हमारा मनोबल बढ़ा है और हम निश्चित रूप से फिर जीतेंगे।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय के विधानसभा चुनाव परिणों पर यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस समय की स्थिति के अनुसार देश में ऐसा पहली बार होगा कि कम से कम 21 राज्यों में भाजपा की सरकार होगी। देश के बहुत बड़े भूभाग पर प्रधानमंत्री श्री मोदी के सुशासन को स्वीकृति हासिल है। लोकतंत्र में सरकार कैसी चल रही है, एक के बाद एक चुनाव में जनादेश कैसा मिला, उसका परिचायक होता है। उन्होंने कहा कि पांच पीढ़ी से भाजपा कार्यकर्ता जिस जीत की प्रतीक्षा कर रहे थे, श्री मोदी के नेतृत्व में विजय की वह परंपरा जारी रहेगी।

इस मौके पर भाजपा कार्यकर्ता बड़ी संख्या में नये भाजपा मुख्यालय में जमा थे और उन्होंने जमकर पटाखे फोड़े। श्री शाह करीब ढाई बजे भाजपा मुख्यालय पहुंचे तो उनका फूलों और गुलाब की पंखुड़ियाें की वर्षा करके स्वागत किया गया। शाम को पार्टी मुख्यालय में संसदीय बोर्ड एवं केन्द्रीय चुनाव समिति की बैठक होने की संभावना है जिसमें आगे की रणनीति और राज्यसभा चुनाव के उम्मीदवार तय किए जाने की संभावना है।

श्री शाह ने कहा कि इस परिणाम ने भाजपा के करोड़ों कार्यकर्ताओं के मनोबल को बढ़ाया है और उनमें 2019 के आम चुनावों में भी जीत हासिल करने का हौसला बढ़ेगा। उन्होंने यह भी कहा कि कर्नाटक के कार्यकर्ताओं का भी उत्साह बढ़ा है।

उन्होंने कहा कि पूर्वाेत्तर खासकर त्रिपुरा की जीत पर भाजपा के उन कार्यकर्ताओं को याद कर रहे हैं जो वाम राजनीतिक हिंसा का शिकार हुए और अपने प्राण गंवाए हैं। त्रिपुरा में नौ भाजपा कार्यकर्ताओं की जानें गयीं हैं। उन्होंने कहा कि त्रिपुरा के नतीजे ऐतिहासिक हैं। वहां 2013 में भाजपा को केवल 1.3 प्रतिशत वोट मिला था और उसका एक भी उम्मीदवार नहीं जीत पाया था। एक उम्मीदवार को छोड़कर पार्टी के सभी प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गयी थी।

उन्होंने कहा कि भाजपा वहां अकेले स्पष्ट बहुमत हासिल कर रही है और सहयोगी पार्टी के साथ उसका गठबंधन की 43 सीटें जीत रहा है। श्री शाह ने कहा कि इन परिणामों से साफ हो गया कि वामपंथी दलों को अब कोई पसंद नहीं करता। उन्होंने कहा, “लेफ्ट अब देश के किसी हिस्से के लिए ‘राइट’ नहीं रहा।” उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने गरीबों, दलितों और आदिवासियों के हित में काम किया जिसके कारण त्रिपुरा के आदिवासी क्षेत्रों की सभी 20 सीटों पर राजग उम्मीदवारों की जीत हुयी है।

उन्होंने कहा कि त्रिपुरा की जीत से सबसे ज़्यादा आनंद केरल एवं पश्चिम बंगाल के पार्टी कार्यकर्ताओं के मन में हुआ है जिसे केवल वे ही समझ सकते हैं। इससे यह भी साफ हो गया है कि पूर्वाेत्तर की जनता श्री मोदी के शांति कायम करने के प्रयासों को स्वीकार करती है और खूनी संघर्ष के रास्ते की बजाय शांति एवं विकास काे तरजीह देती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar