आर्थिक आंकड़ों में नहीं दिख रहा रोजगार क्षेत्र में सृजनः सिन्हा

नई दिल्ली। रोजगार सृजन के मोर्चे पर धीमी प्रगतिक की आलोचनाओं के बीच नागर विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि बीते चार साल में नए क्षेत्रों में रोजगार सृजन बढ़ा है लेकिन यह विभिन्न आर्थिक आंकड़ों में अभी झलक नहीं रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 के आम चुनावों के दौरानहर साल एक करोड़ रोजगार सृजन का वादा किया था।

सिन्हा ने एक कार्यक्रम में कहा, ‘नई अर्थव्यवस्था में सृजित हो रहे सभी रोजगार आंकड़ों में नहीं आ रहे हैं। ओला व उबर में दस लाख ड्राइवर हैं और इस तरह का कोई आंकड़ा शामिल नहीं है।’ सिन्हा के इस दावे का प्रतिवाद करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री सचिन पायलट ने कहा कि नए उद्योगों में उतने रोजगार सृजित नहीं हो रहे हैं जितना बताया जा रहा है। उन्होंने कह कि इस समय शिक्षित युवाओं में से ज्यादातर बेरोजगार या अर्ध- बेरोजगार हैं।

कांग्रेस के राजस्थान प्रदेशाध्यक्ष पायलट ने कहा, ‘समस्या यह है कि पर्याप्त कौशल विकास नहीं हो रहा है। देश इस समय निर्णायक मोड़ पर है जहां अगर हमने युवाओं पर ध्यान नहीं दिया तो यह जनसांख्यिकी फायदा न केवल व्यर्थ जाएगा बल्कि अर्थव्यवस्था पर बड़ा बोझ बनेगा।’ सेंटर फोर पालिसी अल्टरनेटिव्स के चेयरमैन मोहन गुरूस्वामी के अनुसार वास्तव में बीते 17महीने में देश में बेरोजगारी का उच्चतम स्तर देखने को मिला है। उन्होंने कहा कि हमारे देश में सरकार पूंजी परिव्यय के जरिए वृद्धि को बल देती है जो कि नहीं हो रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar