खतरे में मैदान का अस्तित्व

अतिक्रमण और गंदगी की चपेट में आकर मैदान ही जब अपना अस्तित्व खो दे तो फिर इस तंत्र को क्या कहेंगे। उस पर तुर्रा यह कि जब वह मैदान किसी स्कूल परिसर में हो तो जिम्मेदारों की नीयत और उनके कर्तव्यनिष्ठा पर सवाल उठना लाजमी ही है।
– जय एस. चौहान –
स्वामी विवेकानंद ने व्यक्तित्व के सर्वांगीण विकास में खेल के योगदान को महत्वपूर्ण माना था। महात्मा गांधी ने अपने राजनीतिक जीवन में स्वच्छता पर विशेष जोर दिया। खेलने के लिए मैदान चाहिए। अतिक्रमण और गंदगी की चपेट में आकर मैदान ही जब अपना अस्तित्व खो दे तो फिर इस तंत्र को क्या कहेंगे।

उस पर तुर्रा यह कि जब वह मैदान किसी स्कूल परिसर में हो तो जिम्मेदारों की नीयत और उनके कर्तव्यनिष्ठा पर सवाल उठना लाजमी ही है। राजकीय नारायण उच्च माध्यमिक विद्यालय खेल मैदान का यही हाल है। बहुत संभव है कि इस स्कूल के प्राचार्य के कक्ष में इन दोनों महापुरुषों सहित देश के कई अन्य विभूतियों की तस्वीरें भी लगी हों। महापुरुषों की तस्वीर उनके पूरे व्यक्तित्व की अनुभूति देता है। छात्रों को महापुरुषों के बताए रास्ते पर चलने की नसीहत भी देते होंगे।

दोनों महापुरुषों ने खेल और स्वच्छता पर जोर दिया तो फिर यहां तिरोहित क्यों हो गई। सवाल उठता है कि क्या इस स्कूल के प्राचार्य सहित अन्य शिक्षक स्कूल परिसर स्थित खेल मैदान की बदनुमा तस्वीर नहीं देखते। मैदान है पर बच्चों को खेलने के लिए जगह नहीं है। क्या यह सवाल जिम्मेदारों को कचोटता नहीं? चर्चा है कि जल्द ही पूरा प्रदेश ओडीएफ (खुले में शौच से मुक्ति) हो जाएगा।

सभी अपनी-अपनी पीठ भी थपथपाएंगे। अखबारों में तस्वीर भी छपेगी। लेकिन इस स्कूल मैदान की तस्वीर कब बदलेगी, यह अहम सवाल है। जिम्मेदार कहते हैं कि इस मैदान की चारदीवारी निर्माण के लिए प्रयत्न कर रहे हैं। यह घिसा-पिटा जवाब है, जो अब चवन्नी की तरह चलन में नहीं है। हां, शहर के कई लोग हैं जिन्हें इस मैदान की दुर्दशा कचोटता है।

जिन खिलाडिय़ों ने इस मैदान पर पसीना बहाकर अपनी प्रतिभा निखारी है, उन्हें टीस है। बाकी मौन हैं। समाचार प्रकाशित होने के बाद नगर पालिका प्रशासन भी औपचारिकता पूरी कर इतिश्री कर लेता है। आखिर कब तक? इस खेल मैदान का कायाकल्प होगा भी या यूं ही अतिक्रमण की जद में अपना अस्तित्व खो देगा? जिम्मेदारों व जनप्रतिनिधियों को अब जवाब देने का वक्त आ गया है। बच्चे जवाब मांग रहे हैं…।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar