महावीर को माने ना माने, महावीर की जरूर माने: मुनि सुरेश कुमार

भगवान महावीर 2617 वे जन्म कल्याणक में उमड़ा आस्था का हुजूम
बिजयनगर। जैन जगत के चौविसवे तीर्थंकर भगवान महावीर की 2617वीं जन्म जयंती शहर के न्यू लाइट कॉलोनी स्थित तेरापंथ भवन में आचार्य श्री महाश्रमण जी के आज्ञानुवर्ती शासन श्री मुनि श्री सुरेश कुमार जी ” हरनावां ” के सान्निध्य, अपर जिला मजिस्ट्रेट मेघना जैन के मुख्य आतिथ्य, बिजयनगर पालिकाध्यक्ष सचिन सांखला की अध्यक्षता व गुलाबपुरा पालिका उपाध्यक्ष प्रदीप रांका के विशिष्ठ आतिथ्य में  भव्य समारोहपूर्वक आयोजित हुई।

नमस्कार महामंत्रोच्चारण व महावीर अष्टकम् के आगाज से शुरू हुए समारोह को संबोधित करते हुए शासन श्री मुनि श्री सुरेश कुमार जी हरनावां  ने कहा कि महावीर ने हमें अंतहीन दिया है मगर आश्चर्य हम एक प्रतिशत भी नहीं ले पाये। भगवान महावीर के अहिंसा, अनेकांत, अपरिग्रह के सिद्धान्त संपर्यदायतित होकर विश्व व्यापी हो गये है। मुनि प्रवर ने कहा कि अहिंसा की प्राण प्रतिष्ठा अनेकांत और अपरिग्रह के पथ पर कदमताल करने से ही हो सकेगी। कानून के डंडे के बल पर जो काम नहीं हो सकते वे अहिंसा के बल पर सहजता से संपन्न हो जाते है। महावीर को माने ना माने पर महावीर की जरूर माने तभी महावीर जयंती जीवन के द्वार पर सिद्धिया लेकर आयेगी। मुनि श्री ” हरनावां ” इस अवसर पर ” महावीर तुम्हारे सिद्धान्तों से दिव्य उजारा है ” गीत की प्रस्तुत कर भावांजली दी।

मुनि श्री सम्बोध कुमार जी ने कहा कि हम जिन्दगी भर सिर्फ तीन काम करते है – भागादौड़ी, हाथजोड़ी और माथाफोड़ी, जो बहतर होते है उन्हें नाम मिलता है, जो बहतरीन होते है उनके नाम पर इनाम मिलता है। मुनि श्री ने कहा कि महावीर ने मानव जाति को एक करने की बात कही है अफ़सोस की महावीर जयंती के दिन हम रैलियां, स्नेह-भोज, सांस्कृतिक संध्याओं में एक होते है। मगर धर्मसभाओं में खुद को बांट लेते है। मुनि श्री ने इस अवसर पर ” वंदना महावीरा ” गीत प्रस्तुत किया तो सभागार ॐ अर्हम की गूंज से गूंज उठा।

बतौर मुख्य अतिथि अपर जिला मजिस्ट्रेट मेघना जैन ने कहा कि महावीर का जन्मदिवस समुची मानवता का जन्म दिवस है। जिनकी आत्मा में बचपन से समर्पण सृष्टि के प्रति संवेदना थी एसे महामहिम महावीर के विचारो की इस युग को सख्त जरूरत है। इस मौके पर विशिष्ट अतिथि प्रदीप रांका ने कहा कि भगवान महावीर के सिद्धान्तों को जीवन में अंगीकार करके देखे जीवन में सर्वोच्च आंनद की उपलब्धि हो जायेगी।

इस मौके पर तेरापंथ महिला मंडल गुलाबपुरा, महिला मंडल-युवती समूह बिजयनगर, रश्मि-शीतल जैन, प्रज्ञा-प्रेक्षा-संयम लोढा, श्वेता श्रीश्रीमाल, सीमा जैन, उषा छाजेड़ ने सुमुधर गीतों से प्रभु महावीर के प्रति भावांजलि अर्पित की। ज्ञानशाला के नन्हे बच्चो ने ” म्हाने वाल्हा लागे गीत की धुन पर एक्शन सांग की प्रस्तुति दी। मूर्ति पूजक संघ के मंत्री विजय जैन ने भावपूर्ण विचारों की प्रस्तुति दी। मंच संचालन डी.सी. जैन द्वारा किया गया। कार्यक्रम के अंत में सभामंत्री दिलीप तलेसरा व अध्यक्ष बाबुलाल छाजेड़ ने सभी का आभार जताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
Skip to toolbar